एक आत्मा की कहानी, ghost stories in hindi

 Ghost stories in hindi | Bhoot kahani

Ghost stories in hindi, एक आत्मा की कहानी, आज मैं आपको एक ऐसी आत्मा के बारे मैं बताने जा रहा हु, जैसी कुछ लोग दियव आत्मा भी कहते थे. क्यों कहते थे ,ऐसा क्या हुआ, ये आपको इस कहानी मैं पता चलेगा. मेरा नाम जादव है. और मैं उत्तर प्रदेश का रहन अला हु. बहुत समय पहले की बात है.

एक आत्मा की कहानी : ghost stories in hindi

ghost stories.jpg
ghost stories in hindi

गाँव के 10-11 लोगों की एक मंडली दर्शन हेतु एक माँ के मंदिर में गई थी. माँ के का यह मंदिर एक जंगल में था पर आस-पास में बहुत सारी दुकानें, धर्मशाला आदि भी थे, कच्ची-पक्की सड़कें भी बनी हुई थीं…पर घने-उगे जंगली पेड़-पौधे इसे जंगल होने का भान कराते थे.यह माँ के मंदिर बहुत ही जगता स्थान माना जाता था. यहाँ हर समय भक्तों की भीड़ लगी रहती थी पर मंदिर के अंदर जाने का समय सुबह 7 बजे से लेकर रात के 7 बजे तक ही था. भक्तों की उमड़ती भीड़ को देखते हुए मंदिर में मुख्य दरवाजे के अलावा एक और दरवाजा खोल दिया गया था ताकि भक्तजन मुख्य दरवाजे से दर्शन के लिए प्रवेश करें और दूसरे दरवाजे से निकल जाएँ.

 

गाँव की मंडली शाम को 6 बजे दर्शन के लिए मंदिर पहुँची और दर्शन करने बाद मंदिर के आस-पास घूमकर वहाँ लगे मेले का आनंद लेने लगी. मेले में घूमते-घामते यह मंडली अपने निर्भयपन का परिचय देते हुए जंगल में थोड़ा दूर निकल गई. रात होने लगी थी, मंडली का कोई व्यक्ति कहता कि अब वापस चलते हैं,

भयानक भूत

कल दिन में घूम लेंगे पर कोई कहता डर रहे हो क्या, इतने लोग हैं, थोड़ा और अंदर चलते हैं फिर वापस आ जाएँगे. ऐसा करते-करते यह मंडली उस जंगल में काफी अंदर चली गई. रात के अंधेरे में अब मंडली को रास्ता भी नहीं सूझ रहा था और न ही मंदिर के आस-पास जलती कोई रोशनी ही दिख रही थी. अब मंडली यह समझ नहीं पा रही थी कि किस ओर चलें. खैर, मंडली के एक व्यक्ति ने अपनी जेब से कुछ कागजों को जलाकर रोशनी कर दी.

वो भूतिया रास्ता

रोशनी में उस मंडली ने जो कुछ देखा, वह बहुत ही भयावह था, आस-पास कुछ पेड़ों पर कुछ अजीब तरह के डरावने जीव-जंतु इस मंडली को घूरते नजर आ रहे थे. अब तो इस मंडली के सभी लोग पूरी तरह से चुप थे. कोई कुछ बोलने की हिम्मत नहीं कर रहा था पर हाँ वे लोग धीरे-धीरे एक-दूसरे के काफी करीब आकर चिपक गए थे. फिर किसी ने थोड़ी हिम्मत करके कागज की बूझती आग पर वहीं पड़े कुछ सूखे घास-फूस को डाला और फिर आग थोड़ी तेज हो गई.

डरावनी रात एक कहानी

मंडली ने मन ही मन निश्चित किया कि अभी कहीं भी जाना खतरे से खाली नहीं है, Because वे लोग रास्ता भी भूल गए थे और उन्हें समझ में ही नहीं आ रहा था कि किस ओर जाएँ. उन लोगों ने फुसफुसाकर यह निर्णय लिया कि आज की रात कैसे भी करके यहीं गुजारेंगे और सुबह होते ही यहाँ से निकल जाएंगे. चूँकि ये लोग गाँव से थे और इन लोगों का भूत-प्रेतों से कई बार पाला पड़ा था, इसलिए थोड़े डरे हुए तो थे पर इतना भी नहीं कि ये डरकर चिल्लाने लगें या भागना शुरू कर दें. इस मंडली ने हिम्मत दिखाई और धीरे-धीरे कर के आग को और तेज करने लगी, Because अब इस मंडली को लगने लगा था कि जरूर यहाँ कुछ बुरी आत्माएँ हैं और वे इस मंडली को अपनी चपेट में लेना चाहती हैं.

एक हवैली

पर वहाँ की आबोहवा देखकर यह गँवई मंडली पूरी तरह से डर गई थी और अंदर से पसीने-पसीने भी हो गई थी पर इस डर को चेहरे पर नहीं लाना चाहती थी, Because इनको पता था कि डरे तो मरे और डरे हुए लोगों पर यह बुरी आत्माएँ और भी असर करती हैं. मंडली के कुछ लोग एक दूसरे का हाथ कसकर पकड़ लिए थे और पूरी तरह से सतर्क थे. कुछ लोगों ने हनुमान चालीसा आदि पढ़ना और हनुमानजी को गोहराना भी शुरु कर दिया था तो कुछ लोग उस जंगल की माँ के माता की दुहाई दे रहे थे. अचानक एक भयानक आत्मा उनके सामने प्रकट हो गई और रौद्र रूप में अट्टहास करने लगी. उस समय का माहौल और भी भयानक हो गया. अब इस मंडली के पसीने चेहरे पर भी दिखने शुरु हो गए थे, चेहरे लाल होना शुरू हो गए थे और ये लोग और कसकर एक दूसरे के करीब आ गए थे. अभी वह रौद्र आत्मा अट्टहास करके पूरे वातावरण को और भी भयानक बनाए तभी वहाँ कुछ और भयानक आत्माएँ आ गईं. अब तो इस मंडली की सिट्टी-पिट्टी गुम. अब इन लोगों को अपना काल अपने सामने दिख रहा था. अब वहाँ एक नहीं लगभग 5-6 आत्माएँ आ गई थीं और अपनी अजीब हरकतों से माहौल को पूरी तरह भयानक बनाकर रख दी थीं.

अनहोनी एक कहानी

मंडली के एक व्यक्ति ने हिम्मत करके कहा कि अगर मरना ही है तो इनका सामना करके मरेंगे. कुछ लोग बराबर लाठी लिए रहते थे. इस मंडली के दो लोगों के पास भी लाठी थे. अब सब पूरी तरह से मुकाबला करने के लिए तैयार हो गए थे. पर शायद इन्हें लड़ने की नौबत नहीं आई. हुआ यूँ कि जैसे ही एक भयानक आत्मा ने इनपर हमला किया…उसका सिर कटकर अलग गिर गया और वह बिना सिर के ही खूब तेज भागी तथा उसका सिर भी भाग निकला. अब माहौल एकदम से भयानक हो गया था क्योंकि एक गौरवर्णीय व्यक्ति जो कोई साधु जैसा दिखता था और केवल धोती पहने हुआ था, अजीब-अजीब आवाज करते हुए वहाँ से भाग निकलीं. अब यह मंडली उस सज्जन महात्मा के पैरों पर गिर गई थी और उन्हें धन्यवाद दे रही थी. इस मंडली को उस गौरवर्णीय, पराक्रमी महात्मा ने अपने पीछे आने का इशारा करके आगे बढ़ने लगे. लगभग 8-10 मिनट चलने के बाद यह मंडली एक कुटिया के पास पहुँच चुकी थी. वहाँ डर का कोई नामो-निशान नहीं था.

भूत ही भूत

उस महात्मा ने इन लोगों को कुटिया के अंदर आने का इशारा किया. कुटिया में पहुँचकर इन लोगों ने चैन की साँस ली. फिर बाबा ने इशारे से ही इन्हें खाने के लिए पंगत में बैठा दिया. कुटिया के अंदर से एक दूसरे महात्मा निकले और उन्होंने किसी पेड़ के पत्ते को पत्तल के रूप में इन लोगों के आगे रख दिया. फिर क्या था, उस महात्मा ने उस पत्तल पर कुछ अलग-अलग पेड़ों के पत्ते रखे. ऐसा करते समय इस मंडली को बहुत अजीब लग रहा था पर किसी में हिम्मत नहीं थी कि बाबा से कुछ पूछे. फिर उस महात्मा ने कमंडल से जल लिया और कुछ मंत्र बुदबुदाकर छिड़क दिया. अरे यह क्या अब तो वे पत्तलें थाल बन चुकी थीं और मंडली के हर व्यक्ति के इच्छानुसार उसमें पकवान पड़े हुए थे. फिर बाबा का इशारा मिलते ही बिना कोई प्रश्न किए यह मंडली जीमने लगी. जीमने के बाद बाबा का इशारा पाकर वह मंडली वहीं सो गई, पर सब सोने का नाटक कर रहे थे, नींद किसी के भी आँख में नहीं थी. इस कुटिया में दूर-दूर तक डर नहीं था पर बाबा के कारनामे देखकर वे लोग हतप्रभ थे और सोच रहे थे कि सुबह बाबा से इस बारे में जानकारी लेंगे.

पीपल का भूत

सुबह जब सूरज की किरणें इस मंडली के चेहरे पर पड़ी तो इनकी नींद खुली. मंडली का हर व्यक्ति बहुत ही आश्चर्य में था Because वहाँ न कोई कुटिया थी और न ही रात वाले बाबा ही. और ये लोग भी नीचे वैसे ही घाँस-फूस पर सोए हुए थे. अब इनको समझ में नहीं आ रहा था कि वह कुटिया और बाबा गए कहाँ. खैर अब इन लोगों के पास कोई चारा नहीं थी, थोड़ा-बहुत इधर-इधर छानबीन करने के बाद इनको रास्ता भी मिल गया और ये लोग मेले में वापस आ गए. मेले में वापस आने के बाद ये लोग माँ के माता के पुजारी से मिलकर सारी घटना बताए. पुजारी बाबा ने एक लंबी साँस छोड़ते हुए कहा कि वह आत्मा है, जो इस जंगल में रहती है. वह केवल रात में ही और वह भी भूले-भटके लोगों को ही नजर आती है और उन्हें रात में आश्रय प्रदान करके फिर पता नहीं कहाँ गायब हो जाती है.

Ghost stories in hindi  | Bhoot kahani

उस पुजारी बाबा ने बताया कि ऐसी घटनाएँ उन्हें काफी श्रद्धालु सुना चुके हैं. इतना ही नहीं उन्होंने कई बार दिन के उजाले में 9-10 लोगों के साथ इस जंगल का कोना-कोना छान मारा है पर कभी भी न वे महात्मा मिले और न ही ऐसी कोई कुटिया ही दिखी. खैर यह मंडली तो कुछ और ही करना चाहती थी. इस मंडली ने फिर हिम्मत करके रात को जंगल में निकल गई. मंडली चाहती थी कि उन्हें बुरी आत्माएँ सताएँ और बाबा फिर आकर उनकी रक्षा करें. इसी बहाने यह मंडली यह चाहती थी कि बाबा के दिखते ही उनके पैरों पर गिरकर कुछ रहस्यों के बारे में जानकारी ली जाएगी. बाबा से हाथ जोड़कर प्रार्थना किया जाएगा कि वे कुछ अनसुलझे प्रश्नों का उत्तर दें. पर यह क्या अभी यह लोग जंगल में कुछ दूर ही आगे बढ़े थे कि जो बाबा रात को पत्तल लाकर रखे थे, वे दिख गए और बोले, तुम लोगों के मन-मस्तिष्क में क्या चल रहा है, मुझे पता है….पर ऐसी भूल मत करो….कुछ चीजों को रहस्य ही रहने दो….

Read More ghost stories in hindi :- 

Bhangarh ka kila

भूतो का संसार

भूत का रहस्य

Room no-15 true story of ghost

एक घर की डरावनी कहानी

पुराना महल

दहशत की एक रात कहानी

एक पुराना किला

रात का डरावना सफर

पुराना महल

दहशत की एक रात कहानी

एक पुराना किला

वो सुनसान रास्ता

राजस्थान का किला

भूत की कुर्सी

ब्लडी मैरी शीशे के अंदर

भूतो का डर

भूत के पीछे भूत

भूत-प्रेत की कहानी

मेरी सच्ची कहानी

भूत देखना है

भूत का नाटक एक घोस्ट कहानी

भूत का साया

एक दानव कुत्ते की कहानी

क्या सच मैं भूत होते है

कब्रिस्तान मैं वो इंसान

एक भूत की फोटो जब देखी

उस रात का डर

जब हुआ रूह से सामना

क्या भूत होते है

गोविन्द की भूतिया कहानी

भूत या रहस्य एक कहानी

परिवार का भूत

मेरी कहानी

कब्रिस्तान का रास्ता

भूत-प्रेत की सच्ची कहानी 

तालाब का भूत एक सच्ची घटना

कोहरे की रात

किले का रहस्य

कमरे में कौन था

पेड़ का भूत एक कहानी

हवेली का प्रेत

कमरा नंबर 201 की कहानी

कमरा नंबर 303

एक भटकती आत्मा

काला जादू की सच्ची कहानी

केंटीन का भूत कहानी

मेरी अपनी कहानी

खेत मैं प्रेत से सामना

लड़की का प्रेत एक कहानी

मैंने देखी जब एक छाया

चलती गुड़िया

भूतो का गांव

पत्नी की आत्मा एक कहानी 

गली नंबर 18 की कहानी

आत्मा की कहानी

असली भूत की कहानी

उस रात की खौफनाक कहानी

जब उस चुड़ैल ने देखा

Read More-Horror real spirit stories in hindi

Mirror bloody mary real story in hindi

Ghost story of bloody mary in hindi

Queen bloody mary story in hindi

dar ki raat very short story in hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!