चलती गुड़िया की सच्ची हिंदी कहानी, Annabelle doll real horror story in hindi

Annabelle doll real horror story in hindi

Annabelle doll real horror story in hindi, चलती गुड़िया की सच्ची हिंदी कहानी, एक गुड़िया जो अपने आप ही चल पड़ती है, अगर हम ये आपसे कहे तो आपको यकीन नहीं होगा पर यह सच है एक गुड़िया जिसमे अपने आप ही जान आ जाती है और वह चल पड़ती है यह घटना पेरू की है पेरू में रहने वाले एक परिवार ने यह सब बताया पर किसी को भी इस बात पर यकीन नहीं हुआ

चलती गुड़िया की सच्ची हिंदी कहानी :- Annabelle doll real horror story in hindi

horror story.jpg
horror story hindi

Annabelle doll real horror story in hindi, इस परिवार में चार लोग रहते है माता-पिता और उनके दो बच्चे एक बेटा जिसकी उम्र अठारह वर्ष और एक बेटी जिसकी उम्र बीस वर्ष की है यह एनाबेली गुड़िया  उन बच्चो को गिफ्ट में मिली थी बच्चे हर रोज इसे अपने कमरे में लेकर सोते थे पर हैरानी की बात जब सामने आयी जब यह एनाबेली गुड़िया  अपने आप स्थान बदल लेती थी

वह कौन थी हिंदी कहानी

यह बच्चे इसे अपने पास लेकर सोते थे और यह एनाबेली गुड़िया  पलंग से उतर कर दूर बैठ जाती थी इस बात पर यकीन करना शायद मुमकिन न हो लेकिन जब एक दिन उनके लड़के ने इस गुड़िया को बहुत जोर से दक्खा दिया तो यह एनाबेली गुड़िया  कुछ बड़बड़ाने लगी, इसके बाद दोनों बच्चे के हाथ पर नाखुनो के निशाँ पाए गए और इस बात को जानकार उन्होंने ने भूत भगाने के लिए किसी को बुलाया और उसने बताया की इस एनाबेली गुड़िया  में किसी महिला की आत्मा है खोजबीन करने पर पता चला की यहां  पर किसी महिला ने अपनी जान दी थी अब इस बात से पूरा परिवार डर में जी रहा है

 

Annabelle doll real horror story in hindi, क्योकि यह आत्मा सभी को परेशान करती है और कोई कुछ भी नहीं कर पा रहा है हम सभी यही सोचते है की ऐसा कुछ नहीं है पर हमारे सामने तो बहुत से ऐसे प्रमाण है जिनसे इनकी मौजूदगी का एहसास होता है.आज भी हमारा विज्ञान इन सबका पता नहीं लगा पा रही है जो है भी या नहीं भी, एनाबेली डॉल की कहानी आपने पढ़ ली है, इससे हमे पता चल गया है की यह एनाबेली गुड़िया किसी को भी नुकसान पहुंचा सकती है, आपको यह जानकारी बहुत पसंद आयी होगी, अब हम इस डॉल से जुडी हुई एक कहानी यहां पर लाये है, आपको वह पसंद आएगी,  

 

एक डॉल की काल्पनिक हिंदी कहानी :- horror story in hindi

horror story in hindi, यह कहानी एक गांव की उस गांव में एक लड़का उस डॉल को लेकर आ जाता है, वह नहीं जानता था की वह जिस डॉल  को लाया है, वह उसके लिए मुसीबत बन सकती है, जब लड़के की माता ने डॉल को देखा तो उससे पूछा की यह तो बहुत सुन्दर डॉल है, तुम कहा से लाये हो, वह लड़का कहता है की यह डॉल  मुझे रस्ते में मिली थी, मेने सभी जगह पर देखा था but कोई नज़र नहीं आया था, मुझे लग रहा था, जब कोई इसे लेने नहीं आया तो में इसे लेकर आ गया था,

राजकुमार की खोज हिंदी कहानी

उसके बाद वह लड़का कहता है की मुझे यह बहुत अच्छी डॉल लग रही है but माता कहती है की यह किसी की गिर गयी होगी, हमे यह अपने पास नहीं रखनी चाहिए, कुछ समय पिताजी आते है वह भी उस लड़के से यही सवाल करते है, वह कहते है की तुम्हे ऐसे ही कोई भी चीज घर में नहीं लानी चाहिए भले ही हम बहुत गरीब है हम इसे खरीद नहीं सकते है, but फिर भी हमे इस तरह का लालच नहीं रखना चाहिए क्योकि जिसकी यह डॉल है वह इसे खोज रहा होगा,

 

वह कौन है, यह कोई नहीं जानता है, तभी लड़का कहता है की यह मुझे बहुत अच्छी लग रही है मुझे रास्ते में मिली है इसलिए में लेकर आ गया हु मेने यह किसी से मांगी नहीं है, तभी माता कहती है ठीक है रात हो गयी है, अब तुम्हे सो जाना चाहिए, वह उस डॉल को लेकर सो जाता है, आधी राटा का समय हो गया था, वह डॉल उठ जाती है ऐसा लगता है की वह डॉल अभी तक सो रही थी, कुछ समय बाद वह चलने लगती है, पुरे घर को देखती है, शायद उसे यह घर अच्छा लग रहा है, पूरी रातभर वह चलती रहती है

राजा और भूत की कहानी

सुबह हो जाती है, वह लड़का उठ जाता है वह कहता है की मुझे मेरी डॉल नहीं मिल रही है, उसकी आवाज सुनकर माता कहती है की सुबह तुम्हे वह डॉल क्यों चाहिए वह डॉल कही और पर रख दी होगी, अब तुम्हे याद नहीं है पिताजी कहते है की अधिक डॉल से नहीं खेलना चाहिए वह लड़का सोचता है की वह डॉल रात  के समय में मेरे पास थी तभी वह अपनी माता के पास जाता है वह बताता है की डॉल उसके पास थी अब नहीं मिल रही है, माता कहती है की तुम्हे याद नहीं है,

 

तभी वह लड़का छत पर देखता है वह छत की दिवार पर बैठी हुई मिलती है वह अपनी माता को आवाज लगा देता है, वह कहता है की यह डॉल छत पर कैसे आयी है, माता को कुछ समझ नहीं आता है क्योकि उन अच्छे से याद है वह अपने साथ डॉल को लिए हुए था शाम को जब पिताजी आते है, उन्हें वह सब कुछ बता देती है but वह बात पर ध्यान नहीं देते है अगली रात को वह डॉल उस लड़के पर हमला करती है वह लड़का उठ जाता है वह कहता है की यह सब तुमने किया है लड़के की आवाज सुनकर माता कहती है

एक डायन का साया भूत की कहानी

रात हो गयी है अब तुम्हे यह खेल बंद करो वह लड़का कहता है की इस डॉल ने मुझ पर हमला किया है माता को यह बात अजीब लगती है तभी माता देखती है की वह डॉल चल रही है, यह कैसे हो सकता है वह अपने पति को जगा देती है, वह उठ जताए है वह भी देखते है की वह डॉल चलती है सभी घर में बहुत डर जाते है क्योकि इस तरह उन्होंने किसी भी डॉल को चलते हुए नहीं देखा था, अपने आप यह डॉल कैसे चल सकती है, पत्नी कहती है की इसे यह से बाहर फेंक दो,

भूतिया अस्पताल

Annabelle doll real horror story in hindi, लड़के का पिता उस डॉल को बाहर फेंक देता है but कोई फायदा नहीं था वह फिर से अंदर आ जाती है वह बहुत परेशानी हो जाते है अब कोई रास्ता नज़र नहीं आता है, सुबह हो गयी थी, लड़के के पिताजी किसी से मिलते है, उन्हें सब कुछ बता देते है, अब वह डॉल को बहुत दूर छोड़ने जाते है उसके बाद वह घर वापिस आते है वह बहुत अधिक डरे हुए लग रहे थे आज उन्हें पता चल गया था की बाहर की कोई भी चोज घर के अंदर नहीं रखनी चाहिए, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो शेयर करे

Read More Hindi Horror Story :-

भयानक भूत

वो भूतिया रास्ता

डायन की डरावनी कहानी

भूत ही भूत

डर की रियल कहानी

पीपल का भूत

खौफनाक जंगल की दास्तां

एक भूतिया हवेली की कहानी-1

एक भूतिया हवेली की कहानी भाग-2

एक भूतिया हवेली की कहानी भाग-3

1 thought on “चलती गुड़िया की सच्ची हिंदी कहानी, Annabelle doll real horror story in hindi”

  1. Deepak chandel

    brother nice story hai aapki, bahut baht good . me bhi meri site per story likhta hu.jarur dekhna ek baar. ho shake to apni website me bhi hame samil kar lena.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!