उस रात की खौफनाक कहानी, khofnak kahani

Khofnak kahani | thriller stories in hindi

khofnak kahani, thriller stories in hindi, उस रात अचानक ही बस खराब हो गयी बस के अंदर सिर्फ बीस लोग थे, रात का सफर वैसे ही डरा देता है और ऊपर से बस भी ऐसी जगह खराब हुई की दूर-दूर तक कोई भी मदद के लिए नहीं दिख रहा था रात को मदद मिलनी भी बहुत मुश्किल थी अगर हम नज़र डाले तो सभी और जंगल ही नज़र आ रहा था

उस रात की खौफनाक कहानी, khofnak kahani

horror kahani.jpg
khofnak kahani

khofnak kahani, उस रोड पर एक दो गाड़ी नज़र आ रही थी पर कोई भी मदद नहीं थी कुछ यात्री तो बस में ही बैठे थे और कोई सात लोग ही नीचे थे जब बस को पूरी तरह से देखा गया तो पता चला की बस का टायर भी खराब हो चुका था दूसरी समस्या तो ठीख हो सकती थी पर रात में टायर ठीख होना बहुत मुश्किल था, बस में और कोई भी टायर नहीं था अब कुछ नहीं हो सकता था अगर दिन होता तो आदमी कुछ कर भी सकता था but रात में कुछ कर पाना बहुत मुश्किल था सभी लोग सोच रहे थे की क्या किया जाए पर कोई भी रास्ता नज़र नहीं आ रहा था, (khofnak kahani)  

एक पुराना किला

वो सुनसान रास्ता

तभी उनमे से एक आदमी कहने लगा की सामने देखो एक झोपडी में रौशनी आ रही है चल कर देखा जाए पर कुछ लोग कहने लगे की हमे यह भी पता नहीं की वह पर कौन है और तुम वह जाने की सोच रहे है, कुछ ने कहा की अब बस ठीक नहीं हो सकती है और इस बस में बैठे रहने से अच्छा है चलकर वह पर देखा जाए, सभी लोग तैयार नहीं थे पर तीन लोग जाने को तैयार हो गए और उस झोपडी की और बढ़ने लगे उन्हें ऐसा लग रहा था की अगर वह पर कोई है तो हमे मदद मिल सकती है पर जब नज़र चारो और गयी तो देखा की, यहां पर कोई कैसे रह सकता है

एक दानव कुत्ते की कहानी

कब्रिस्तान मैं वो इंसान

अब उनमे से दो लोग यही सोचने लगे की रहने देते है यार हमे नहीं पता की वह पर कौन है पर यह सोच कर की अब इतना तो आ गए है कुछ ही दुरी बची है तीनो आगे की और बढे और झोपडी के दरवाजे पर जा कर रुक गए और आवाज लगायी की कोई अंदर है आवाज लगाने पर भी कोई आवाज नहीं है, but जब नज़र पड़ी तो झोपडी की रौशनी पहले से बढ़ चुकी थी पर अंदर से आवाज नहीं आ रही थी दुबारा फिर से आवाज लगायी और इस बार भी कोई नहीं बोला, उनमे से एक ने कहा की में अंदर जा रहा हु तुम बहार ही रहना अगर कुछ भी गलता लगे तो भाग जाना और वह अंदर गया 

डरावनी रात एक कहानी

एक हवैली

जब वह अंदर गया तो एक तेज आवाज आयी वह आवाज थी भागो यहां से, यह सुनकर बहार खड़े लोग भाग गए और वह अंदर से गिरता हुआ उन्ही के साथ भागा, सभी लोग उस बस में गए और अंदर से दरवाजा बंद कर दिया उन्हें आता देख सभी लोग उनसे पूछने लगे की वह क्या हुआ था, थोड़ी देर बाद साँस भर कर उसने बताया की अंदर कुछ भी नहीं था जब झोपडी के अंदर गया तो वह बहुत ही अँधेरा था कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था वो झोपडी बहार से छोटी और अंदर से एक गुफा जैसी लगती थी और वह पर इतनी ठण्ड थी की वह पर रुकना मुश्किल था जबकि ये गर्मी के दिन है

दहशत की एक रात कहानी

जब उस चुड़ैल ने देखा

khofnak kahani, thriller stories in hindi, जब यह बात सबने सुनी तो वो भी डरने लगे और अब उन्हें यहां पर रात भर रुकना था जबकि एक डर वह पर था की कोई वह से आ न जाए तभी एक ने कहा की देखो अब भी वह से रौशनी आ रही है रह देखते हुए रात बीत गयी और सुबह जब हुई तो क्या देखते है की वहा पर कुछ नहीं था कुछ रहस्य तो रहस्य ही बने रहते है जीका पता कभी नहीं लग सकता,

 

कब्रिस्तान का भूत खौफनाक हिंदी कहानी, thriller stories in hindi

khofnak kahani, यह उस दिन की बता है जब में अपने ऑफिस से घर आ रहा था मुझे नहीं पता था की उस दिन मुझे सवारी नहीं मिलेगी, Because रात होने की वजह से कोई भी सवारी नहीं मिल पायी थी, इसलिए सोचा की पैदल ही जाना पड़ेगा कुछ समय तक चलने के बाद एक बाईक नज़र आयी थी शायद वह अकेला ही जा रहा था उससे मदद मानगी उसने मेरी मदद की थी but वह मेरे घर की और नहीं जा रहा उसने मुझे घर से कुछ दूर पर छोड़ दिया था, (khofnak kahani)

गोविन्द की भूतिया कहानी

मेने सोचा की अगर जल्दी ही घर जाना है तो मुझे कब्रिस्तान का रास्ता लेना होगा, उस रात बहुत देर हो गयी थी कब्रिस्तान से चलते हुए मुझे बहुत डर लग रहा था उस जगह पर कोई नहीं रहता है उस वक़्त में अकेला ही जा रहा था तभी एक आवाज आती है वह मुझे रुकने के लिए कहती है but जब पीछे मुड़कर देखा तो कोई भी नहीं था यह आवाज किसने मुझे लगाई थी वह नज़र तो नहीं आ रहा है यह बात मुझे बहुत डरा रही थी उस वक़्त भागने में भलाई थी but डर की वजह से भाग नहीं पाया था उसी जगह पर गिर गया था

क्या भूत होते है

मुझे यह भी लग रहा था की किसे यह मुझे गिराने की कोशिश की होगी, तभी वह मेरे सामने था उसे देखकर उस जगह पर रुकना आसान नहीं था Because जब उसे देखा तो उसके पास भी सब कुछ नज़र आ रहा था यह कैसे हो सकता है यह बात समझ नहीं आती है but एक बात थी जो समझ आ गयी थी यहां नहीं रुका जा सकता है, उसके बाद वहा से भागना चाहा था, अब मुझे यकीन हो गया था की वह भूत कुछ भी कर सकता है दुनिया में भूत होते है इस बात पर यकीन हो गया था

उस रात का डर

khofnak kahani, thriller stories in hindi, Because जो देख लेता है उसे यकीन हो जाता है जब तक कोई देख नहीं पाता है तब तक यकीन करना बहुत मुश्किल होता है भूतो की बातो पर यकीन नहीं होता है Because इससे पहले मुझे भी यकीन नहीं हुआ था आज पता चल गया है की भूत होते है,

Read More khofnak kahani :-

Read More-भूत या रहस्य एक कहानी

Read More-परिवार का भूत

Read More-मेरी कहानी

Read More-कब्रिस्तान का रास्ता

Read More-भूत-प्रेत की सच्ची कहानी 

Read More-तालाब का भूत एक सच्ची घटना

Read More-कोहरे की रात

Read More-किले का रहस्य

Read More-कमरे में कौन था

Read More-पेड़ का भूत एक कहानी

Read More-हवेली का प्रेत

Read More-कमरा नंबर 201 की कहानी

Read More-कमरा नंबर 303

Read More-एक भटकती आत्मा

Read More-काला जादू की सच्ची कहानी

Read More-केंटीन का भूत कहानी

Read More-मेरी अपनी कहानी

Read More-खेत मैं प्रेत से सामना

Read More-लड़की का प्रेत एक कहानी

Read More-मैंने देखी जब एक छाया

Read More-चलती गुड़िया

Read More-भूतो का गांव

Read More-पत्नी की आत्मा एक कहानी 

Read More-गली नंबर 18 की कहानी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!