केंटीन का भूत कहानी, horror stories in hindi

Horror stories in hindi | Bhoot kahani

Horror stories in hindi, मेरा नाम रमीश है, मुझे अक्सर अपने काम के सिलसिले से दूसरे शहर के हॉस्पिटलों मैं आना जाना पड़ता है. वैसे तो मैं कभी भी भूत या प्रेत मैं विश्वास नहीं करता था but जब से मेरे साथ ये घटना घटित हुई , तब से मैं इन पर बहुत ही ज्यादा विश्वास करने लग गया हु.

केंटीन का भूत एक कहानी :- Horror stories in hindi

horror.jpg
horror stories in hindi

Horror stories in hindi, Bhoot kahani, वो कहते है न की जब तक आप आँखों देखी और अपने कानो सुनी वाली बात ना कर लो , तब तक आप किसी पर भी या बात पर भी विश्वास नहीं करोगे. जब मेरे साथ ये सब कुछ हुआ तब मैंने भी इन पर विश्वास किया. अब मैं आपको अपने साथ घटित हुई इस घटना को बताने जा रहा हु. ये बात सन 2003 की है. मुझे बहुत ही अच्छे से याद है की, दिसंबर का महीना था और बहुत ही तेज़ बारिश हो रही थी जब मैं राजस्थान के एक हॉस्पिटल मैं पंहुचा, दरअसल मुझे एक ऑपरेशन करने के लिए, वहाँ पर बुलाया गया था.

भूतिया होटल की दास्ताँ

मैं लगभग सुबहे के 2.30 बजे वहाँ पर पंहुचा. मेरे वहाँ आने का बाद मुझे पता चला की , ऑपरेशन तो दोपहर मैं 2 बजे होना है. तो मैंने वहाँ की केंटीन मैं जाकर बैठ गया और अपने लिए कॉफ़ी मशीन से कॉफ़ी ले ली. क्योकि मुझे नींद आ रही थी, इसलिए मैंने कॉफ़ी पीनी चाही. मैं उस टाइम केंटीन मैं एकेला था और कोई भी आदमी वहाँ पर मौजूद नहीं था. मैंने अपनी कॉफ़ी लेकर चेयर पर बैठ गया. कुछ लगभग 3 बजे होंगे, की मुझे अपने पीछे किसी के होने का अहसास हुआ. तो मैंने पीछे मुड़कर देखा तो कोई भी नहीं था.मैंने अपना ध्यान फिर कॉफ़ी की और किया, तभी मेरे बालो मैं किसी ने फूँक मारी, मैं तुरंत सीट से उठकर खड़ा हो गया और इधर उधर देखने लग गया.

भूतो का गांव

लेकिन मुझे कोई भी नज़र नहीं आ रहा था. मैं अब बहुत ही परेशान हो चूका था. मैं तुरंत ही अटेंडेंट के पास गया और उसको सब बताने लग गया. but वो मेरी किसी भी बात पर विश्वास नहीं कर रहा था. वो कहने लगा सर हवा चल रही है शायद इसलिए आपको ऐसा लग रहा होगा. मैंने सोचा शायद वो ठीक ही कह रहा है. Because आज हवा भी अपने पुरे ज़ोरो पर थी. साथ ही बिजली भी कड़क रही थी. मेरी कॉफी ख़तम हो चुकी थी. अब मैंने सोचा की कुछ देर सो लिया जय , तो मैं बेंच पर ही लेट गया. मेरे लेटने के कुछ देर बाद मुझे किसी की पायल की आवाज़ सुनाई दे रही थी , तो मैंने उठकर देखना चाहा की कौन है तो कोई भी नहीं दिखा. but आवाज़ मेरे कानो तक साफ़ साफ़ आ रही थी.

वो आदमी एक भूत था

पत्नी की आत्मा एक कहानी 

मानो जैसे मेरे पीछे या अगल बगल ही कोई चल रहा हो. मैं अब बहुत ही डर गया था. अब आवाज़ बंद हो गयी थी अचानक से. आवाज़ के बंद होते ही कोई ज़ोर से चिल्लाया मैं डर गया और अटेंडेंट के पास भाग कर गया तो देखता हु की वो वहाँ पर नहीं है. मैंने सोचा अब मैं क्या करू, अभी रात के केवल 3.30 ही बजे थे. जहा से चिल्लाने की आवाज़ आयी थी मैं उस तरफ चल पड़ा. मैंने जैसे ही उस रूम की और पहुंचने ही वाला था , की अचानक से एक बूढ़े आदमी ने मुझे रोक लिया. उसने पूछा की सेर आप कहा जा रहे हो, मैंने उसे सब बताया.

एक हवैली

horror stories in hindi, Bhoot kahani, तब उसने मुझे कहा की आप जो आवाज़ सुन रहे है वो एक दम सही है. यहाँ पर हॉस्पिटल बनने से पहले कब्रिस्तान हुआ करता था. कब्रिस्तान को तोड़कर यहाँ हॉस्पिटल बना दिया गया. इसलिए यहाँ पर ऐसी आवाज़े सुनाई देती है. तब मैंने तुरंत ही वहाँ से निकलने का फैसला किया और अपनी गाड़ी लेकर वापिस मेरठ की और चल दिया, और अपने घर लोट आया.

 

रास्ते में मिला भूत की कहानी, Horror stories in hindi

horror stories in hindi, Bhoot kahani, अक्सर किसी काम से बाहर जाना पड़ता था जिसकी वजह से बहुत दिनों तक घर भी नहीं आया जाता था यह सफर एक शहर से दूसरे शहर तक चलता रहता था, मुझे भूत की बातो पर विश्वाश नहीं होता है, Because मेरे सामने ऐसी कोई भी घटना नहीं हुई थी, उस दिन भी मुझे काम की वजह से घर से जाना था, इसलिए अपनी कार से सफर किया जाता था, Because समय पर पहुंचा जाता था, उस दिन तो घर से निकलने में ही बहुत देर हो गयी थी,

गोविन्द की भूतिया कहानी

रात का सफर था, इसलिए कार बहुत ही आराम से चला रहा था, सोचा था अब रात का समय है, सुबह तक पहुंच सकता हु but कुछ समय बाद एक आदमी रोड पर देखा था वह अकेला ही खड़ा था उसे मदद चाहिए थी, इसलिए उसकी मदद करने के लिए कार रोक दी थी, जब कार रुकी तो वह कहता है की मुझे आप आगे तक छोड़ सकते है Because मुझे जल्दी है, वह कार में बैठ गया था. उसके बाद उससे पूछा की आप यहां पर रात के समय में क्या कर रहे है वह बताता है की वह गांव से आया था उसे कोई साधन नहीं मिल रहा था इसलिए वह रोड पर खड़ा था

लड़की का प्रेत एक कहानी

horror stories in hindi, Bhoot kahani, उसने मुझे बताया की वह किसी को लेने जा रहा है उसकी बताए यहां तक ठीक लग रही थी, में नहीं जानता था की वह किस गांव से आया है Because उस रस्ते पर कितने गांव है यह बात भी मुझे पता नहीं थी, कुछ समय बाद वह कहता है की मुझे कुछ दुरी से आगे उतार देना जैसा उसने कहा था वैसा ही मुझे करना था but जब कार में पीछे देखा था तो वह गायब हो गया था वह कौन था इस बात को में नहीं जानता था मगर इतना समझ गया था की वह कोई भूत था जोकि गायब हो गया था, उस दिन के बाद यकीन हो गया था की भूत होते है  

Horror stories in hindi :-

उस रात का डर

क्या भूत होते है

भूत या रहस्य एक कहानी

परिवार का भूत

मेरी कहानी

कब्रिस्तान का रास्ता

भूत-प्रेत की सच्ची कहानी 

तालाब का भूत एक सच्ची घटना

कोहरे की रात

किले का रहस्य

कमरे में कौन था

पेड़ का भूत एक कहानी

हवेली का प्रेत

कमरा नंबर 201 की कहानी

कमरा नंबर 303

एक भटकती आत्मा

काला जादू की सच्ची कहानी

मेरी अपनी कहानी

खेत मैं प्रेत से सामना

मैंने देखी जब एक छाया

चलती गुड़िया

भूतो का गांव

पत्नी की आत्मा एक कहानी 

गली नंबर 18 की कहानी

1 thought on “केंटीन का भूत कहानी, horror stories in hindi”

  1. good story

    read more ghost story in hindi
    please check this website- hindistory.ind.in

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!