गोविन्द की भूतिया कहानी, bhutiya kahani

Bhutiya kahani | Bhoot kahani

bhutiya kahani, ये कहानी एक ऐसी आत्मा की है जो की मरने के बाद भी जिन्दा थी , और भटक रही थी , की कोई तो हो जो उसे इस दुनिया से मुक्ति दिला सके | जी हां कुछ आत्माये ऐसी भी होती है | जो मरने के बाद भी इसी दुनिया मैं रह जाती है , ऐसी ही एक कहानी मैं आज आपको बताने जा रहा हु |

गोविन्द की भूतिया कहानी, Bhutiya kahani

real bhoot.jpg
real bhoot ki kahani

bhutiya kahani, मेरा नाम रोहित तिवारी है और मैं जिला लखनऊ उत्तर प्रदेश का रहने वाला हु | वैसे तो मैं भी आत्माओ मैं विश्वास नहीं करता हु , but जब अपने साथ या अपने सामने कुछ ऐसा हो जाए , जिस पर हम विस्वास नहीं करते है | फिर भी हमे उन पर विश्वास करना ही पड़ता है |

 

बात उन दिनों की है जब मैं जयपुर से माउंट आबु जा रहा था , तो मेरे साथ रास्ते मैं कुछ ऐसा हुआ , जिस पर किसी भी इंसान का यकीन करना नामुमकिन है , but मैं आज भी अपने साथ हुई उस घटना को जीता हु | ये बात लगभग 20 से 25 साल पुरानी है | but जब भी वो मुझे घटना याद आती है तो ऐसा लगता है की मानो वो कल की ही बात हो | मुझे पूरी रात सफर करना था , तो मैं शाम को जल्दी ही निकल लिया अपने घर से | मैं कुछ लगभग अपने घर जयपुर से २५० किलोमीटर ही चला हुँगा , अचानक से एक सुनसान सड़क के आने पर मेरी गाड़ी अचानक से रुक गयी यानि की बंद पड़ गयी |

डरावनी रात एक कहानी

जब ऐसा हुआ तो रास्ते मैं हलकी हलकी बारिश पड़ रही थी | मैं गाड़ी से उतरा और अपनी गाड़ी को चेक करने लग गया , but मेरी समझ मैं नहीं आ रहा था , की आखिर गाड़ी को हुआ क्या है | जो अचानक से बंद पड़ गयी | मैं बिलकुल भी समझ नहीं पा रहा था, की तभी मेरे पीछे से कोई आकर खड़ा हो गया | मैं अचानक से डर गया , और उससे पूछा की भाई तुम, कौन हो और इतनी रात को भला यहाँ क्या कर रहे हो | उसने बताया की मेरा नाम गोविन्द है और मैं पुणे का रहने वाला हु | मैंने पूछा की तुम इतनी रात को यहाँ कैसे आ गए | गोविन्द ने कहा की मैं यहाँ पर आज से लगभग 10 साल पहले घूमने आया था , और मेरा एक्सीडेंट हो गया | जिस कारण से मेरी मोत हो गयी |

एक पुराना किला

bhutiya kahani, bhoot kahani, तब से लेकर आज तक मैं यही पर भटक रहा हु एक जिन्दा लाश बनकर | मैं मरकर भी मर नहीं पाया हु | शायद यही लिखा था मेरी किस्मत मैं | पहले तो मुझे उसकी बातो पर विश्वास नहीं हुआ, but जैसे जैसे वो मुझे अपने बीते हुए लमहो को मेरे सामने रखता गया, मैं उसकी बातो को समझता गया | और आखिर मैं मुझे ये विश्वास हो ही गया की अब मेरे सामने जो खड़ा है , वो जिन्दा है बल्कि मरा हुआ गोविन्द है | जिसकी आत्मा आज भी भटक रही है मुक्ति पाने के लिए.

Read More bhutiya kahani :-

Read More-एक हवैली

Read More-दहशत की एक रात कहानी

Read More-जब उस चुड़ैल ने देखा

Read More-वो सुनसान रास्ता

Read More-एक दानव कुत्ते की कहानी

Read More-कब्रिस्तान मैं वो इंसान

Read More-भूत या रहस्य एक कहानी

Read More-परिवार का भूत

Read More-मेरी कहानी

Read More-कब्रिस्तान का रास्ता

Read More-भूत-प्रेत की सच्ची कहानी 

Read More-तालाब का भूत एक सच्ची घटना

Read More-कोहरे की रात

Read More-किले का रहस्य

Read More-कमरे में कौन था

Read More-पेड़ का भूत एक कहानी

Read More-हवेली का प्रेत

Read More-कमरा नंबर 201 की कहानी

Read More-कमरा नंबर 303

Read More-एक भटकती आत्मा

Read More-काला जादू की सच्ची कहानी

Read More-केंटीन का भूत कहानी

Read More-मेरी अपनी कहानी

Read More-खेत मैं प्रेत से सामना

Read More-लड़की का प्रेत एक कहानी

Read More-मैंने देखी जब एक छाया

Read More-चलती गुड़िया

Read More-भूतो का गांव

Read More-पत्नी की आत्मा एक कहानी 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!