भूत का साया, bhoot pret ki kahani

bhoot pret ki kahani

भूत का साया

real bhoot.jpg
bhoot ka saya

bhoot ka saya, bhoot pret ki kahani, वो हर जगह नज़र आ रहा था, कितना भी सोचा की नज़र न आये लेकिन फिर भी कुछ नहीं हो रहा था, ये बात उस दिन की थी जब रमेश अपनी गाड़ी से अपने गांव जा रहा था तभी एक जगह आकर गाड़ी रुक गयी बहुत कोशिश  की पर गाडी ठीक ही नहीं हो रही थी, रमेश उस दिन अपने गांव अकेला ही जा रहा था रमेश को अपने ऑफिस से कुछ दिन की छुट्टी मिली थी इसलिए वह अपने गांव जा रहा था, जिस रस्ते जहा पर गाड़ी रुकी थी, वह कुछ अजीब सी जगह थी रोड तो थी लेकिन कुछ दुरी पर एक कब्रिस्तान था रमेश को कुछ अच्छा नहीं लग रहा था, बस यही से शुरुवात हुई उस काम की जिससे रमेश कुछ दिन परेशान रहा था,

रमेश अपने गांव में पहुंच चूका था और दो दिन तक वही पर रुकना था, गांव में रमेश के दादा-दादी ही रहते थे वो उनसे हर साल में दो बार जरूर मिलने आता था जब रमेश रात को सोने जा रहा था तो उसे लगा की कोई उसे देख रहा था पर रमेश को कुछ भी समझ नहीं आ रहा था, आधी रात हुई तो रमेश को प्यास लगी हुई थी उसने पानी पीने के लिए अपना गिलास उठाया हुआ था तभी उसकी नज़र अपनी छत पर बैठे एक आदमी पर गयी वो उसे देखे ही जा रहा था जब रमेश भागकर छत पर गया तो वह पर कोई नहीं था रमेश तो कुछ समझ ही नहीं प् रहा था,    

दो दिन बाद जब रमेश को जाना था तो वह अपना समान पैक कर रहा था अब वह सोच रहा था की वो कौन है जो रात को छत पर दिखा था उसने यह बात अपने दादा जी से बोली लेकिन उन्हें भी नहीं पता था की रमेश किस बारे में बाते कर रहा था क्योकि यहां पर तो ऐसा कुछ भी नहीं है, रमेश अपनी गाड़ी लेकर निकल गया तभी रमेश को लगा की पिछली सीट पर कोई बैठा है गाडी रोकी पर कोई नहीं था, रमेश को यह वहम लग रहा था क्योकि देखने पर कोई नहीं था, रमेश गाडी चला रहा था उसके सामने वाले सीसे में हमेशा कोई बैठा नज़र आ रहा था पीछे देखने पर कोई नहीं था

Read More-डरावनी रात एक कहानी

Read More-एक हवैली

Read More-अनहोनी एक कहानी

Read More-दहशत की एक रात कहानी

bhoot ka saya, bhoot pret ki kahani, गाडी उसी जगह पर फिर से रुकी और कुछ देर बाद फिर से चालू हो गयी रमेश को समझ नहीं आ रहा था की गाडी यहां पर क्यों रूकती है कुछ देर बाद रमेश गाडी लेकर वह से चला गया और जब वह अपने घर पहुंच गया तो उसके साथ ऐसा कभी नहीं हुआ, आज रमेश यही सोचता है की वह कौन है और जब फिर रमेश गांव में जाएगा तो कही वो चीज उसे नज़र तो नहीं आएगी ऐसा दर जो आज भी उसे डरा रहा है, कुछ ऐसी ही घटनाये जीवन में होती है जिसका असर पूरी ज़िंदगी पर पड़ता है,

Read More-एक पुराना किला

Read More-वो सुनसान रास्ता

Read More-एक दानव कुत्ते की कहानी

Read More-कब्रिस्तान मैं वो इंसान

Read More-एक भूत की फोटो जब देखी

Read More-उस रात का डर

Real More-जब हुआ रूह से सामना

Read More-क्या भूत होते है

Read More-गोविन्द की भूतिया कहानी

Read More-भूत या रहस्य एक कहानी

Read More-परिवार का भूत

Read More-मेरी कहानी

Read More-कब्रिस्तान का रास्ता

Read More-भूत-प्रेत की सच्ची कहानी 

Read More-तालाब का भूत एक सच्ची घटना

Read More-कोहरे की रात

Read More-किले का रहस्य

Read More-कमरे में कौन था

Read More-पेड़ का भूत एक कहानी

Read More-हवेली का प्रेत

Read More-कमरा नंबर 201 की कहानी

Read More-कमरा नंबर 303

Read More-एक भटकती आत्मा

Read More-काला जादू की सच्ची कहानी

Read More-केंटीन का भूत कहानी

Read More-मेरी अपनी कहानी

Read More-खेत मैं प्रेत से सामना

Read More-लड़की का प्रेत एक कहानी

Read More-मैंने देखी जब एक छाया

Read More-चलती गुड़िया

Read More-भूतो का गांव

Read More-पत्नी की आत्मा एक कहानी 

Read More-गली नंबर 18 की कहानी

Read More-आत्मा की कहानी

Read More-असली भूत की कहानी

Read More-उस रात की खौफनाक कहानी

Read More-जब उस चुड़ैल ने देखा

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!