भूत की सच्ची घटना-bhoot ki story

 Bhoot ki story

भूत की सच्ची घटना

real bhoot.jpg
bhoot ki story

bhoot ki story, ये मेरी भूत को देखने की एक सच्ची घटना है. मैं पेशे से एक किसान हु और मेरा नाम जगमोहन है. वैसे तो मैं भूतो पर बिलकुल भी विस्वास नहीं करता हु , लेकिन जब मैंने खुद ही भूत को देखा तो मैं उन पर विसवास करने लग गया. मैं अक्सर रात को अपने खेतो मैं पानी देने के लिए जाता हु. उस दिन भी मैं ही गया था रात को खेतो पर. मैंने अपने खेत पर ही एक कुटिया बना रखी है, जिसमे मैं कभी रात को लेट हो जाओ तो वही पर सो जाता हु.उस रात भी कुछ ऐसा ही हुआ , मुझे काफी रात हो गयी थी खेत मैं पानी देते हुए. तो मैंने रात को खेत पर ही सोने का फैसला लिया. मैं रात मैं लगभग 2.30 के आस पास सो गया था.

 

लेकिन जब मुझे अपनी कुटिया के बहार किसी के चलने की आवाज आयी तो मैं एक दम से उठ गया और कुटिया से बाहर आ गया. देखा तो कोई भी नज़र नहीं आया. मैं फिर से सो गया. कुछ देर बाद फिर मुझे आवाज आने लग गयी. तो मैंने कुटिया के गेट से बाहर झाँखा तो मुझे किसी के पैर नज़र आये, मैं उन्हें गौर से देखा तो मुझ वो किसी औरत के लग रहे थे. मैं ये सोचने लग गया की आखिर इतनी रात को कोई भला औरत खेत मैं क्यों घूमेंगी. मैंने जब अपनी कुटिया से बाहर निकलकर देखा तो उसका शरीर तो था लेकिन शरीर पर धड़ यानि की उसका चेहरा उसके शरीर पर नहीं था.

मैं उसे ऐसा देख कर बहुत ही ज्यादा डर गया, मेरी तो अब आवाज भी नहीं निकल रही थी. मानो ऐसा लग रहा था की मैं जिन्दा नहीं बल्कि मर चूका हु. मैं वहा से भाग जाना चाहता था पर कैसे. मेरी कुटिया के बाहर तो चुड़ैल घूम रही थी. मुझे उसकी पायल की आवाज छम्म छम्म छम्म छम्म छम्म साफ़ सुनाई दे रही थी. मेरी साँस ऊपर की ऊपर और निचे की निचे थी. कुछ देर मैं कुटिया के अंदर ही बैठा रहा. मुझे अब उसके चलने की आवाज नहीं सुनाई दे रही थी. ऐसा प्रतीत हो रहा था की वो सायद वहा से चली गयी है. लेकिन जब मैंने कुटिया के बाहर झाँखा कर देखा तो वो मेरे गेट के बाहर सामने वाले पेड़ पर लटक रही थी, वो भी उलटी.

Read More-एक पुराना किला

Read More-वो सुनसान रास्ता

Read More-एक दानव कुत्ते की कहानी

Read More-कब्रिस्तान मैं वो इंसान

मैं उसे देखकर फिर दोबारा से अपनी कुटिया कर अंदर घुस गया और दरवाजा भी बंद कर लिया, ताकि वो अंदर ना आ जाए. उसका सर ना होने के बावजूद भी , वो गाना गुनगुना रही थी. मैं समझ नहीं पा रहा था की वो यहाँ पर क्यों है और चाहती क्या है आखिर मैं. ना तो वो यहाँ से जा ही रही थी और ना ही मेरी कुटिया के अंदर ही आ रही थी. बस या तो पेड़ पर लटक रही थी या फिर मेरी कुटिया की इर्द गिर्द ही घुम्म रही थी. और मुझे डर लग रहा था की कही वो मुझे जान से ना मर दे.

Read More-डरावनी रात एक कहानी

Read More-एक हवैली

Read More-अनहोनी एक कहानी

Read More-दहशत की एक रात कहानी

bhoot ki story, क्योकि मैं ऐसे पहले कभी भी किसी चुड़ैल या भूत को नहीं देखा था. इतना सब कुछ होने के बाद आखिर मैं सुबह के 6 बज गए थे और अब वो चुड़ैल वहा से जा चुकी थी. तब मैं अपनी कुटिया से बाहर निकला और तुरंत ही भाग कर अपने घर चला गया. घर जाकर मैंने ये सब बात अपने घरवालों को बताई तो उन्हें मेरी बात पर बिलकुल भी विस्वास नहीं हुआ. और मेरा मजाक उड़ने लग गए. और कहने लगे भला चुड़ैल कही होती भी है क्या. ये थी मेरी भूत की सच्ची घटना.

Read More-असली भूत की कहानी

Read More-उस रात की खौफनाक कहानी

Read More-जब उस चुड़ैल ने देखा

Read More-उस रात का डर

Real More-जब हुआ रूह से सामना

Read More-क्या भूत होते है

Read More-गोविन्द की भूतिया कहानी

Read More-भूत या रहस्य एक कहानी

Read More-परिवार का भूत

Read More-मेरी कहानी

Read More-कब्रिस्तान का रास्ता

Read More-भूत-प्रेत की सच्ची कहानी 

Read More-तालाब का भूत एक सच्ची घटना

Read More-कोहरे की रात

Read More-किले का रहस्य

Read More-कमरे में कौन था

Read More-पेड़ का भूत एक कहानी

Read More-हवेली का प्रेत

Read More-कमरा नंबर 201 की कहानी

Read More-कमरा नंबर 303

Read More-एक भटकती आत्मा

Read More-काला जादू की सच्ची कहानी

Read More-केंटीन का भूत कहानी

Read More-मेरी अपनी कहानी

Read More-खेत मैं प्रेत से सामना

Read More-लड़की का प्रेत एक कहानी

Read More-मैंने देखी जब एक छाया

Read More-चलती गुड़िया

Read More-भूतो का गांव

Read More-पत्नी की आत्मा एक कहानी 

Read More-गली नंबर 18 की कहानी

Read More-आत्मा की कहानी

1 thought on “भूत की सच्ची घटना-bhoot ki story”

  1. Bhut pret hote hai ya nahi iske baare me mujhe kuch pata toh nahi hai par logo ko is andhvishwashi se ghire dekha hoon ek baar ki baat hai mere dost ke bhai ko kabrishtan ke paas dekha gaya jab use ghar laya gaya to wo ajeeb bartao kar raha tha khana ajeeb tarah se kha raha tha aur bhi bahut tarah ki ajeeb ajeeb harkate kar raha tha usi doran main koi logo se suna isme (jin)jinnath bhut khabbis aadi log keh rahe the kya ye sach hota hai reply kare

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!