चमत्कार की कहानी, stories in hindi

stories in hindi 

चमत्कार की कहानी

hindi story.jpg

stories in hindi

देव नगर मैं एक साधुओ का परिवार रहा करता था. सदैव अपने में लीन रहते थे. इसी का फल हुआ कि उन्हें प्राप्त हो गया. सब कुछ त्यागकर तप करने चल पड़े. वन के किसी नदी में खड़े होकर वे तप करने लगे. गहरे जल में उनका केवल चेहरा ही बाहर दिखता था, बाकी शरीर पानी में रहता था. दस माह की कठोर तपस्या के बाद भगवान शिव उनसे प्रसन्न हुए, आकर दर्शन दिए. वरदान मांगने को कहा. कहा, भगवन्, मैंने शास्त्रों में पढ़ा है, यह सारा विश्व आपकी माया ने ही रचा है. वह बड़ी अद्भुत है.

 

मैं आपकी उसी माया का चमत्कार देखना चाहता हूं. तुम उस माया का चमत्कार देखोगे, तभी उसे छोड़ोगे भी. शिव जी ने कहा और वरदान देकर अंतर्ध्यान हो गए. सुखदेव ने तप करना छोड़ दिया, किंतु उसी नदी के किनारे रहते थे. कंद मूल खाकर प्रभु के भजन गाते थे. इसी प्रतीक्षा में थे, कब भगवान की माया के दर्शन होंगे. एक दिन सुखदेव नदी में स्नान करने गए. मंत्र पढ़कर पानी में डुबकी लगाने लगे. अचानक वह मंत्र भूल गए. उन्हें लगा, जैसे वह पानी में नहीं हैं. कहीं और हैं, फिर उन्हें लगा, जैसे वह सब कुछ भूलते जा रहे हैं. भूत मंडल नामक गांव में कन्ट्ज़ जन्म लिया. उनका नाम रखा गया कन्ट्ज़.

कन्ट्ज़ बहुत सुंदर और बलवान था. युवा होने पर वह शिकार खेलने में बहुत होशियार हो गया. फिर उसका विवाह एक सुंदर कन्या से हुआ. उसके दो पुत्री भी हुए. एक समय की बात, उस गांव में महामारी फैल गई. महामारी भी ऐसी कि पूरा गांव ही उजड़ गया. कन्ट्ज़ की पत्नी और दोनों पुत्री भी महामारी में चल बसे. वह बड़ा दुखी हुआ. परिवार के शोक में उसने गांव छोड़ दिया. भटकता हुआ कन्ट्ज़ कीर देश की राजधानी श्रीमती पुरी में पहुंच गया. उन दिनों वहां कोई राजा नहीं था. किसी युद्ध में राजा मारा गया था. राजा चुनने का भी वहां अनोखा तरीका था.

Read More-जैसा करोगे वैसा पाओगे

Read More-एक जोकर की कहानी

सिखाए हुए हाथी पर सोने की अम्बारी रखकर हाथी छोड़ दिया जाता था. हाथी मार्ग में चलते चलते जिस आदमी को सूंड से उठाता, अम्बारी पर बैठा लेता, वही वहां का राजा बना दिया जाता था. श्रीमती पुरी में घूमता हुआ कन्ट्ज़ एक बाजार में पहुंचा. उसी समय हाथी भी सामने से आ रहा था. कन्ट्ज़ को देख, हाथी उसके पास आकर रुका, फिर सूंड से उठाकर उसे अम्बारी पर बैठा लिया. नए राजा को पाकर दरबारी जय जयकार करने लगे. मंगलगीत गाए जाने लगे. बाजे बजने लगे.

Read More-साईकिल की कहानी

Read More-शायद वो सही था एक कहानी

कन्ट्ज़ ने अपना असली नाम छिपा, अपना नाम गवल बता दिया. शुभ मुहूर्त में कन्ट्ज़ का राजतिलक कर दिया गया. वह राजमहल में आनंद से रहने लगा. एक दिन गवल अपने राजमहल की अटारी पर खड़ा था,. उसने उत्सुकता से राजा को देखा, तो उसे पहचान गया. वहीं से चिल्लाकर कहा, अरे कन्ट्ज़, तुम यहां आकर राजा बन बैठे. चलो, बहुत अच्छा हुआ. अब तक कोई राजा नहीं बना था. मंत्री और सेनापति भी राजा के पास खड़े थे. उन्होंने यह सुना तो चौंके, आपस में कहने लगे, क्या हमारा राजा चांडाल है, धीरे धीरे कन्ट्ज़ के होने की बात चारों तरफ फैल गई.

Read More-परेशानियों से बचे एक कहानी

Read More-एक पत्रकार की कहानी

मंत्री और दरबारी राजा से दूर भागने लगे. कुछ दिन तक तो वह अकेला रहा. फिर सोचने लगा, जब मुझे कोई नहीं चाहता तो यहां रहना व्यर्थ है. ऐसा सोचकर वह भी राजपाट त्यागकर चलता बना. चलते चलते दिन छिप गया. अंधेरी रात के कारण कुछ भी दिखाई नहीं पड़ रहा था. वह नदी के तट पर गया. नदी अंधेरे में दिखी नहीं. कन्ट्ज़ आगे बढ़ा, तो छपाक से जल में जा पड़ा. अपने को बचाने के लिए हाथ पैर मारे ही थे कि नदी के पानी में बेसुध पड़े सुखदेव को होश आ गया. अभी घड़ीभर में उन्होंने जो लीला देखी भोगी थी, उसे याद कर उन्हें अति आश्चर्य हुआ.

Read More-भाग्य की कहानी

Read More-निस्चन ऋषि की कहानी

बस, सोचने लगे, जप जप करते समय ऐसा तो कभी हुआ नहीं. भूला हुआ मंत्र भी अब उन्हें याद आ गया था. उन्होंने स्नान करके संध्या की, फिर पानी से बाहर निकल आए. फिर विचारने लगे, ऐसा तो सपने में भी होता है. हो सकता है, वह सपना हो, उसी में मैंने सब कुछ किया हो, भोगा हो. इस प्रकार की बातें सोचते विचारते सुखदेव धीरे धीरे इस बात को भूलने लगे. कुछ दिन बीत गए. एक दिन उनके नगर का एक साधु उधर आया. सुखदेव उसे बचपन से ही जानते थे. सुखदेव ने साधु की आवभगत की फिर पूछा, आप इतने दुर्बल कैसे हो गए. क्या किसी रोग ने आ घेरा है.

Read More-सब कुछ बह जायेगा हिंदी कहानी

Read More-क्रोध से दूर रहे कहानी

भइया सुखदेव, आपसे क्या छुपाना, कुछ वर्ष पहले मैं तीर्थयात्रा पर गया था. घूमना हुआ कीर देश जा पहुंचा, वहां बड़ा आदर सम्मान हुआ मेरा. मैं एक माह तक वहीं रहा. एक दिन मुझे पता चला कि उस देश का राजा एक है. फिर एक दिन यह भी खबर सुनी, वह नदी में डूब मरा. मुझे बहुत ही दुख हुआ. हृदय को कुछ ऐसी ठेस लगी कि मैं बीमार हो गया. बीमारी में ही अपने घर चला आया. इसी कारण मेरी यह बुरी हालत हो गई है. साधु ने बताया.

Read More-दो मूर्खों की कहानी

Read More-बुद्धि की परीक्षा की कहानी

सुनकर सुखदेव का सिर चकराने लगा. कुछ देर विश्राम करने के बाद साधु चल दिया, तो सुखदेव व्याकुल हो उठे. उन्हें फिर से भूली बातें याद आ गईं. उसी समय चल पड़े भूत मंडल गांव को खोजने. मार्ग जानते नहीं थे. किसी तरह पूछते हुए पहुंचे. वह गांव उन्हें जाना पहचाना सा लगा. फिर उस घर में पहुंचे, जहां कन्ट्ज़ रहता था. यह घर भी उन्हें परिचित सा लगा. वहां की हर वस्तु उनकी जानी पहचानी थी. वह चकराए. सोचने लगे, मैं तो इस गांव और घर में कभी आया नहीं, फिर ये मुझे अपरिचित से क्यों लग रहे हैं. इसके बाद सुखदेव कीर नगर की राजधानी पहुंचे. राजमहल में गए. राजमहल के दरवाजे, शयनकक्ष, राजदरबार सभी कुछ उन्हें जाने पहचाने लगे. यह सब क्या है. मैं पानी में केवल दो क्षण डुबकी लगाए रहा. उसी में मैंने इतना बड़ा दूसरा जीवन भी जी लिया.

Read More-माँ के दिल की कहानी 

Read More-आज और कल की कहानी

फिर भी पानी में ही रहा. इसमें सत्य क्या है. इसी उधेड़बुन में डूबे वह नदी तट पर आ पहुंचे. फिर तप करने लगे. अन्न जल त्याग भी दिया. भगवान शिव जी ने उन्हें फिर दर्शन दिए. बोले, साधु, तुमने मेरी माया का चमत्कार देख लिया. मेरी इस माया ने ही विश्व को भ्रम से ढंका हुआ है. सभी विश्व को सत्य मानते हैं, जबकि वह उसी प्रकार है, जैसे तुमने राजा के अपने जीवन को देखा. सुनकर सुखदेव की सारी शंका मिट गई. वह उसी क्षण सब कुछ त्याग, गुफा में जाकर लीन हो गए. क्योकि यही उनकी दुनिया थी.

Read More-बाहुबली के क्रोध की कहानी

Read More-बदले की भावना की कहानी

Read More-अंधे को मिली सजा की कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-एक आत्मकथा की कहानी

Read More-एक पिता की कहानी

Read More-आखिरी काम की कहानी

Read More-संत के स्वप्न की कहानी

Read More-अपने मन के राजा की कहानी

Read More-अंधे को मिली सजा की कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-एक आत्मकथा की कहानी

Read More-एक पिता की कहानी

Read More-आखिरी काम की कहानी

Read More-संत के स्वप्न की कहानी

Read More-अपने मन के राजा की कहानी

Read More-अंधे को मिली सजा की कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-एक आत्मकथा की कहानी

Read More-एक पिता की कहानी

Read More-मेहनत का फल हिंदी कहानी

Read More-भिखारी और राजा की कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read More-सच्चे दोस्त की कहानी

Read more-गांव में बदलाव

Read More-सफल किसान एक कहानी

Read More-एक दूरबीन का राज

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-साधू और गिलहरी की कहानी

Read More-दानवीर सुखदेव सिंह की कहानियां

Read More-गुलाब के फूल की कहानी

Read More-व्यापारी के अहंकार की कहानी

Read More-सच्चे मन की प्रार्थना की कहानी

Read More-राजा और मंत्री की कहानी 

Read More-एक छोटी सी मदद की कहानी

Read More-मूर्खो से बचे एक कहानी

Read More-व्यापारी के अहंकार की कहानी

Read More-सच्चे मन की प्रार्थना की कहानी

Read More-इंसान और क्रोध की कहानी

Read More-एक नाटक से सीख

Read More-जादुई बक्सा हिंदी कथा

Read More-समय का महत्व

Read More-एक किसान की कहानी

Read More-पशु की भाषा हिंदी कहानी

Read More-जीवन की सीख एक कहानी

Read More-उस पल की कहानी

Read More-एक महाराजा की कहानी

Read More-वो सोता और खाता था हिंदी कहानी

Read More-मंगू और दूसरी पत्नी की कहानी

Read More-सोच की कहानी

Read More-एक शादी की कहानी

Read More-छोटा सा गांव हिंदी कहानी

Read More-एक बोतल दूध की कहानी

Read More-सुबह की हिंदी कहानी

Read More-जादुई लड़के की हिंदी कहानी

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-आईने की हिंदी कहानी

Read More-जादुई कटोरा की कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-जीवन की सच्ची कहानी

Read More-छज्जू की प्रतियोगिता

Read More-जब उस पार्क में गए

Read More-असली दोस्ती क्या है

Read More-एक अच्छी छोटी कहानी

Read More-गुफा का सच

Read More-बाबा का शाप हिंदी कहानी

Read More-यादगार सफर

Read More-सब की खातिर एक कहानी

Read More-जादू का किला 

Read More-मेरे जीवन की कहानी

Read More-आखिर क्यों एक कहानी

Read More-मेरा बेटा हिंदी कहानी

Read More-दूल्हा बिकता है एक कहानी

Read More-जादूगर की हिंदी कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-पंडित के सपने की कहानी

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-जादू की अंगूठी

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-छोटी सी बात हिंदी कहानी

Read More-समय जरूर बदलेगा

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-दाढ़ी में आग की कहानी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!