जैसा बोयेंगे वैसा ही पाएंगे, story in hindi

story in hindi

जैसा बोयेंगे वैसा ही पाएंगे हिंदी कहानी

hindi story.jpg
story in hindi

ये कहानी गांव मैं रहने वाले भानू नाम के एक बहुत ही गरीब आदमी की है. भानू के घर में कई कई दिन तक भोजन नसीब नहीं होता था . भानू की पत्नी दीपा उसे रोज समझाती कि समझ और मेहनत से काम किया करो, परंतु भानू बहुत सीधा, भोला भाला, मासूम था . इसी कारण हर जगह धोखा खा जाता था . एक दिन भानू की पत्नी ने समझाया कि क्यों न तुम अपने मित्र सुरेश के पास जाकर कोई काम मांगो .

 

कम से कम वह धोखा तो न देना . उसके पास ढेर सारी जमीन, घोड़े हैं . वह तुम्हें खेतों का या जानवर देखने का काम अवश्य दे देगा . फिर हमें हर महीने गुजारे लायक कुछ न कुछ अवश्य मिल जाएगा . अपनी पत्नी की सलाह मानकर भानू सुरेश के पास पहुंच गया . सुरेश बहुत चालाक और स्वार्थी बन चुका था . फिर भी अपनापन दिखाते हुए भानू से बोला ठीक है, अपने एक खेत की जिम्मेदारी हम तुम्हें दे देते हैं . इस पर सारी खेती तुम करोगे . जो भी फसल होगी, आधी तुम्हारी आधी मेरी . भानू खुश हो गया .

अपने घर जाकर खुशखबरी अपनी पत्नी दीपा को सुनाई . पत्नी खुश हो गई और सोचने लगी . अब हमारे दिन बदल जाएंगे . हमें पैसे की कमी नहीं रहेगी . अगले दिन भानू सुरेश के पास काम के लिए पहुंच गया . सुरेश ने अपना एक खेत दिखाते हुए कहा कि इसी खेत पर तुम्हें मेहनत से खेती करनी है . खाद, बीज सब मैं दूंगा . तुम्हारे घर खर्च को कुछ धन भी दे दूंगा परंतु जब फसल होने लगेगी तो आधी मेरी होगी और आधी तुम्हारी . भानू राजी हो गया तो सुरेश बोला ऐसे ठीक नहीं रहेगा हम लिखित सौदा कर लेते हैं . फसल का ऊपरी भाग तुम्हारा, जमीन के नीचे का हिस्सा मेरा . भानू ने कहा ठीक है सौदा तय रहा . भानू ने अगले दिन से मेहनत से काम करना शुरू कर दिया . उसने सुरेश के दिए हुए बीज धरती में बो दिए . कुछ ही दिन में पौधे निकल आए . खेत हरा भरा हो उठा . अब भानू खूब मेहनत से काम करता और सोचता कि फसल कटने पर क्या क्या खरीदूंगा .

Read More-अपनेपन की कहानी

Read More-एक नाटक से सीख

आखिरकार फसल तैयार हो गई . भोला भानू अपने मित्र की चालाकी अभी तक नहीं भांप सका था . फसल कटने के वक्त सुरेश भी खेत पर आ गया . शर्त के मुताबिक फसल का ऊपरी भाग भानू को मिलना था व जमीन के नीचे का भाग सुरेश को मिलना था . सुरेश ने चालाकी की थी और शलगम की फसल बोई थी . फसल काटकर कर दो बैलगाड़ियों में भर दी गई . सुरेश शलगम लेकर बाजार चला गया . वहां उसकी फसल खूब अच्छे दामों पर बिकी . भानू बैलगाड़ी में अपनी फसल भर कर बाजार पहुंचा तो शलगम के पत्तों को खरीदने वाला कोई न था . जानवरों का चारा खरीदने वालों ने थोड़े बहुत पत्ते खरीद लिए . शाम तक पत्ते सूखने सड़ने लगे . बेचारा भानू दुखी होते हुए घर पहुंचा . पत्नी को सारी बात विस्तार से सुनाई . वह सुरेश की चालाकी पर मन ही मन क्रोधित हो रही थी परंतु वह कुछ कर नहीं सकती थी . आखिर भानू इतना सीधा था कि समझाने से बात नहीं बन सकती थी .

Read More-एक कहानी आदर

Read More-सच्चे भरोसे की एक कहानी

थोड़े दिन बाद जब वह पुन: सुरेश के खेत पर काम करने लग गया तो उसने पुन: यही शर्त रखी कि आधी फसल तुम्हारी और आधी मरी . भानू ने कहा मुझे इस बार नीचे की फसल चाहिए . सुरेश मान गया . वह पहले की भांति सुरेश के दिए बीज खेत पर बो आया और खूब मेहनत से खेती करने लगा . जब फसल पक कर तैयार हुई तो उसे पता लगा कि यह तो गेहूं की फसल है . परंतु वह कुछ नहीं कर सकता था . शर्त के अनुसार सुरेश ने फसल का ऊपरी हिस्सा यानी गेहूं की बालियां ले लीं और उसकी नीचे की शाखाएं भानू को दे दीं . भानू को इस बार भी बहुत नुकसान उठाना पड़ा . भानू ने सूखी डालियों को कुटवा कर भूसा बनवाकर बाजार में बेच दिया . परंतु सुरेश गेहूं बेचकर मालामाल हो गया . सुरेश की चतुराई सुनकर भानू की पत्नी दीपा से न रहा गया . उसने चाल चलने की सोची और योजना बना डाली . इस बार भानू के साथ दीपा भी सुरेश के पास गई .

Read More-भिखारी की कहानी

Read More-पुरानी हिंदी कथा

वहां पहले की भांति खेती पर आधी आधी फसल की बात तय हुई . भानू ने इस बार नीचे की फसल चुनी . पत्नी चाहती थी कि शर्तें उसी के समाने पक्की हों . अत: सारी शर्तें लिखित में पक्की हो गईं . इसके बाद भानू अपनी पत्नी के साथ सुरेश के गोदाम से बीज लेने पहुंचा . पत्नी ने उनके दिए बीज का बोरा बदल कर दूसरे बीज का बोरा ले दिया और खेत में जाकर बो दिया . हमेशा की भांति सुरेश इस बार भी खेतों की बुआई देखने नहीं आया . भानू ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर खेती करनी शुरू कर दी . दिन रात मेहनत करके ये दोनों खेतों में लगे रहते उनकी मेहनत रंग लाई . फसल पकने पर सुरेश बड़ी खुशी और घमंड के साथ खेत पर आया तो हरी भरी लहलहाती फसल देखकर खुशी से नाच उठा . परंतु जब सुरेश के मुंशी ने उसके कान में फूंक कर कहा कि इस बार तो भानू की नीचे की फसल है, तो सुरेश के पैरों तले से जमीन खिसक गई .

Read More-फैसले की कहानी

Read More-कोशिश की कहानी

सुरेश समझ नहीं पा रहा था कि इस बार धान की फसल के बदले आलू की फसल कैसे बन गई . परन्तु सबके सामने कुछ नहीं बोल सका . सामने ही भानू की पत्नी भी खड़ी मुस्करा रही थी . फिर फसल की कटाई शुरू हुई . शर्त के अनुसार फसल दो जगह लादी जाने लगी . इस बार फसल ज्यादा हुई थी . इस कारण बैलगाड़ी की जगह फसल को ट्रक में लादा जा रहा था . एक ट्रक में आलू लादे जा रहे थे तो दूसरी तरफ इसके पौधे . भानू अपनी आलू की फसल लेकर मंडी में पहुंचा तो बहुत अच्छे दामों पर फसल बेच दी . भानू के साथ उसकी पत्नी भी गई थी . दोनों फसल बेचकर खुशी खुशी घर लौटे . उधर सुरेश के आलू के पौधे मंडी पहुंचते पहुंचते सूख चुके थे, अत: उन्हें जानवरों के चारे के लिए भी कोई खरीदने वाला न था . उसको पहली बार ऐसा झटका मिला था . इस बार जैसे को तैसा मिला था . उसने मन ही मन निश्चय किया कि अगली फसल में वह बदला जरूर निकालेगा .

Read More-एक छोटी सी मदद की कहानी

Read More-महात्मा और शेर की कहानी

उसने अपने नौकर के हाथ भानू के यहां खबर भिजवाई कि अगली फसल के लिए वह भानू का इंतजार कर रहा है . भानू की पत्नी दीपा ने कहला भेजा कि हमने आधी फसल का सौदा करना बंद कर दिया है . इस बार फसल बेचकर मिली रकम से भानू और दीपा ने मिलकर छोटा सा खेत खरीदा और उस पर मेहनत करके सुख से रहने लगे . तो दोस्तों लोगो का ये कहना एक दम से सही है की जो जैसा बोता है आखिर मैं वो वैसा ही काटता है.

Read More-सेवा की कहानी

Read More-इंतज़ार की कहानी

Read More-गुलाब के फूल की कहानी

Read More-एक साधू की कहानी

Read More-महात्मा बुद्ध और भिखारी की कहानी

Read More-समय का महत्व

Read More-एक किसान की कहानी

Read More-पशु की भाषा हिंदी कहानी

Read More-उस पल की कहानी

Read More-एक महाराजा की कहानी

Read More-वो सोता और खाता था हिंदी कहानी

Read More-मंगू और दूसरी पत्नी की कहानी

Read More-सोच की कहानी

Read More-एक शादी की कहानी

Read More-छोटा सा गांव हिंदी कहानी

Read More-एक बोतल दूध की कहानी

Read More-सुबह की हिंदी कहानी

Read More-जादुई लड़के की हिंदी कहानी

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-आईने की हिंदी कहानी

Read More-जादुई कटोरा की कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-जीवन की सच्ची कहानी

Read More-छज्जू की प्रतियोगिता

Read More-जब उस पार्क में गए

Read More-असली दोस्ती क्या है

Read More-एक अच्छी छोटी कहानी

Read More-गुफा का सच

Read More-बाबा का शाप हिंदी कहानी

Read More-यादगार सफर

Read More-सब की खातिर एक कहानी

Read More-जादू का किला    

Read More-मेरे जीवन की कहानी

Read More-आखिर क्यों एक कहानी

Read More-मेरा बेटा हिंदी कहानी

Read More-दूल्हा बिकता है एक कहानी

Read More-जादूगर की हिंदी कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-पंडित के सपने की कहानी

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-जादू की अंगूठी

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-छोटी सी बात हिंदी कहानी

Read More-समय जरूर बदलेगा

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-सफल किसान एक कहानी

Read More-एक दूरबीन का राज

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!