राजा का बेटा | Raja rani ki kahani | Raja ki kahani

Raja rani ki kahani | Raja ki kahani

राजा का बेटा, raja rani ki kahani, एक राजा (raja ki kahani) था उसके सात रानी थी सात रानियों के एक-एक बेटा हुआ पर जो सबसे छोटे रानी (Rani) थी उसको कुछ भी नहीं बाकी की रानियां (raja rani ki kahani) सबसे छोटी रानी (Small Rani) को हर समय ताना मारती रहती थी कि इसके कोई बच्चा ही नहीं है.

राजा का बेटा : raja rani ki kahani

raja rani.jpg
raja rani ki kahani

Raja rani ki kahani, एक दिन सबसे छोटी रानी (Rani) ने एक लड़के को गोद ले लिया और उसे अपने बच्चे की तरफ आने लगी राजा उसे कभी अपना बच्चा, बेटा नहीं मानते थे कहते थे यह तो दूसरे का है धीरे-धीरे सभी रानियों के बच्चे बड़े हो गए छह रानियों के राजकुमार बाहर जाने लगे कि वह कुछ पैसा कमा सकते हैं सबसे छोटी रानी का बेटा बोला मा मुझे भी भैया के पास जाना है उसकी मानेगा तुझे तेरे भाई नहीं ले जायेंगे पर वह जिद करने लगा और वह भी चला गया सारे राजकुमार अच्छे अच्छे नौकरी पर लग गए पर सबसे छोटा जो बेटा (Son) था उसको किसी ने कहीं नौकरी नहीं दी. (Raja rani ki kahani)

आखिरी काम की कहानी

वह एक कुम्हार के यहां चला गया जो बर्तन बनाता था इतने कम इतने काम समस्य में उसे कुछ काम दे दो कुम्हार ने कहा था तुम क्या काम कर सकते हो लड़का बोला मैं कुछ नहीं कर सकता हूं कुम्हार ने कहा ठीक है हमारे दो बच्चे हैं तुमको देखभाल करना जब हम घर से बाहर बर्तन  बेचने के लिए जाए तो तुम हमारे बच्चों की देखभाल करना छोटा लड़का बहुत तेज और चालाक था उसने कहा ठीक है एक दिन जब कुम्हार शहर बर्तन बेचने के लिए गया तो लड़के ने उन बच्चों से पूछा बताओ तुम्हारी मां के सारे जेवर और पैसे कहां रखे हैं. Raja rani ki kahani

परेशानियों से बचे एक कहानी

बच्चों ने कहा हम नहीं बताएंगे छोटा लड़का बोला अगर तुम मुझे नहीं बताओगे तो मैं तुम्हें कुछ भी खाने पीने नहीं दूंगा बच्चों ने डर के मारे बता दिए छोटे लड़के ने सारे जेवर को  घास में लपेटकर एक घोड़े को खिला दिए, घोड़ा कुम्हार के घर ही रहता था कुछ दिनों बाद उस लड़के ने कहा अब मुझे अपने घर जाना है थोड़े दिन की छुट्टी दे दो कुम्हार ने कहा ठीक है तुमने इतने दिन हमारे घर काम किया बताओ क्या लोगे उसने कहा मुझे कुछ नहीं चाहिए बस मुझे यह घोड़ा दे दो कुम्हार कहा ठीक है

सब कुछ बह जायेगा हिंदी कहानी

घोड़ा लेकर वह वापस अपने महल में आ गया उसके बाकी के भाई बहुत सारा पैसा और जेवर कमा कर लाये है उसकी मां ने कहा बेटा तू यह घोड़ा क्यों लेकर आया है छोटे लड़के ने कहा मां तू आंगन को गोबर से लेप और उसने आटे से एक गोली बना रानी ने ऐसा ही किया उसके बाद उसने घोड़े को एक हल्की सी डंडी मारी और घोड़े ने अपने पेट से सारे जेवर धीरे-धीरे निकालने शुरू कर दिए

माँ के दिल की कहानी 

आज और कल की कहानी

यह देखकर उसके सारे भाई चौंक गए उसने कहा है यह तो ऐसा घोड़ा लाया है जो पैसे देता है अब छोटा लड़का रोज धीरे धीरे कुछ पैसे निकालते जो कि उसने घास में लपेटकर उसको घोड़े को खिलाए थे थोड़े दिन बाद उसके बड़े भाई बोले तुम हमसे कितना भी पैसा ले लो पर यह घोड़ा मुझे दे दो, छोटे लड़के ने कहा ठीक है तुम अपना सारा राज और उसके पैसे जेवर मुझे दे दो और बदले में यह घोड़ा ले लो सारे भाई मान गए क्यों भाई अपने घर जाकर अपनी मां से बोले आंगन लेप हो और आटे की गोली बनाओ क्या हो रानी होने ऐसा ही किया

परीक्षा का परिणाम

पर एक बार घोड़े ने पैसे नहीं दिए, सारे पैसे तो छोटा लड़का निकाल चुका था राजकुमार घोड़े को बजाने लग गया लेकिन उसने उन्हें एक भी रुपया नहीं दिया मार मार कर उसे उन्होंने अधमरा कर दिया और अपनी बेवकूफी पर पछताने लगे, जब यह सारी बात राजा को पता चली तो उसने सबसे छोटे राजकुमार को ही अपना कहा अपनी जगह राजा बना दिया और कहा यही राज्य को चलाएगा. यह कहानी हमे यही बताती है की जीवन में ऐसा कोई भी काम नहीं करना चाहिए जिससे किसी को कोई भी परेशानी हो,

अच्छे काम करे :-

क्योकि अगर ऐसा होता है तो अच्छा नहीं होता है हमे हमेशा ही अच्छे काम करते हुए आगे बढ़ना चाहिए यह बात अगर हम सभी करते है तो जीवन बहुत अच्छा होगा, राजा का बेटा, raja rani ki kahani, raja ki kahani, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो जरूर शेयर करे  

 

रानी का बेटा हिंदी कहानी, raja rani ki kahani

raja ki kahani, राजा युद्ध में गए थे मगर राजा युद्ध हार गए थे जिसकी वजह से उन्हें पकड़ लिया गया था यह बता जब रानी को पता चली तो वह अपने बेटे को लेकर महल से चली गयी थी अगर वह ऐसा नहीं करती तो शायद उन्हें भी पकड़ लिया जाता, रानी अपने साथ एक बहुत बड़ा हीरा ले गयी थी जोकि राजा ने रानी को दिया था, उनके पास अधिक धन भी नहीं था, वह क्या कर सकते थे, रानी का बेटा कहता है की हम किस जगह पर रह सकते है, पिताजी को पकड़ लिया गया है, (raja rani ki kahani)

अपने मन के राजा की कहानी

हमारे महल पर भी किसी और राजा का अधिकार हो गया है रानी कहती है की यह दुःख की घडी है, हमे शांत ही रहना होगा तभी बेटा कहता है की यह आपके हाथ में क्या है रानी कहती है यह हीरा है, मगर रानी इसकी कीमत नहीं जानती थी, रानी कहती है की यह तुम्हारे पिताजी ने दिया था, यह महल से में लेकर आयी हु मगर इसका प्रयोग हम नहीं कर सकते हमे इस बात का ध्यान रखना है की यह किसी को पता नहीं चलना चाहिए, लेकिन रानी कहती है की मुझे इसकी कीमत जाननी है,

एक आत्मकथा की कहानी

इसके लिए तुम्हे यह बाजार में लेकर जाना चाहिए, क्योकि वही से इसकी कीमत का पता चल जायेगा तुम्हे यह बात भी ध्यान रखनी है की यह तुम्हे बेचना नहीं है, वह बेटा बाजार में हीरा लेकर जाता है मगर वह इस हिरे की कीमत किससे जान सकता है, यह बात सोच रहा था उसके बाद वह लोहार के पास जाता है उससे कहता है की आप इसकी कीमत बता सकते है लोहार कहता है की यह कांच का टुकड़ा है बिलकुल बेकार है, इसकी कोई भी कीमत नहीं है

एक पत्रकार की कहानी

उसके बाद वह उसे सब्जीवाले के पास लेकर जाता है वह देखता है लड़के से कहता है की यह तो बेकार ही है मगर तुम चाहो तो इसके बदले कुछ सब्जी ले सकते हो, वह लड़का चला जाता है उसके बाद वह सुनार के पास जाता है सुनार सोचता है की कम कीमत में वह इसे ले सकता है वह उसकी कीमत कुछ हजार बताता है वह लड़का उस जगह से भी चला जाता है जब वह लड़का अपने घर आ रहा था तभी उसे रस्ते में एक हिरे का व्यापारी मिलता है, उस लड़के से वह हीरा गिर जाता है

बुद्धि की परीक्षा की कहानी

raja rani ki kahani, raja ki kahani, हिरे का व्यापारी उसे उठा लेता है उसे देखता है वह लड़का कहता है की आप इसकी कीमत बता सकते है वह व्यापारी कहता है की इसकी कीमत तुम जानना चाहते हो, वह लड़का कहता है, की मुझे पता करना है की यह कितना कीमती है वह व्यापारी कहता है, की यह बहुत कीमती है इसकी कीमत एक कोई भी अंदाज़ा नहीं है मगर इतना में कह सकता हु यह करोडो का बिक सकता है उसके बाद वह लड़का घर चला जाता है रानी उससे पूछती है की तुम्हे पता चल गया है, की इसकी कीमत कितनी है, वह लड़का कहता है की यह हिरा सब कुछ खरीद सकता है, उसके बाद वह उस हिरे को रख देते है, वह समझ गए थे यह उनके काम आगे आ सकता है

 

राजा का बेटा दूसरी हिंदी कहानी : Raja rani ki kahani

Raja rani ki kahani, Raja ने अपने बेटे को देखा और सोचने लगा कि मेरा बेटा बड़ा हो गया है और इसकी जिम्मेदारियां भी बहुत अधिक बढ़ गई हैं राजा अपने बेटे के पास आता है पूछता है कि तुम्हें राज्य की सभी जिम्मेदारियों को निभाना होगा और सभी जरूरी काम करने होंगे Raja का बेटा कहता है कि आप चिंता ना करें मैं सभी कार्य को आराम से कर लूंगा आप निश्चिंत हो जाइए, (Raja rani ki kahani)

संत के स्वप्न की कहानी

Raja को लग रहा था कि मेरा बेटा अब सब कुछ करने के लिए तैयार है अब मुझे चिंता करने की जरूरत नहीं है 1 दिन राजा किसी काम से बाहर गए हुए थे तभी सेनापति राजा के बेटे के पास आते हैं और कहते हैं कि हमारे राज्य पर कभी भी हमला हो सकता है इसलिए हमें सावधान हो जाना चाहिए Raja का बेटा कहता है कि आप चिंता नहीं कीजिए हम जल्दी ही इस योजना पर काम करना शुरू कर देंगे राज्य पर हमला होने से पहले ही राजा के बेटे ने सेनापति को कहा कि हमें यह पता लगाना होगा कि उनके पास कितनी सेना है और हम उनका मुकाबला कैसे कर पाएंगे

एक जोकर की कहानी

सेनापति ने अपने गुप्तचर को भेजा और इस बारे में पता करने के लिए कहा तभी उन्हें पता चला कि उनके पास सेना बहुत ही कम है जिससे कि वह उस सेना को आराम से हरा सकते हैं युद्ध शुरू हो गया तो Raja के बेटे ने युद्ध में बहुत अच्छा काम किया था जिसकी वजह से उनकी सेना जीत हासिल कर चुकी थी अब उन्हें किसी भी बात की चिंता नहीं थी सेनापति बहुत खुश हो गए थे कि राजा के बगैर भी राजा का बेटा सब कुछ करने के लिए तैयार है इसलिए इस राज्य पर अब किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं आने वाली है

दो मूर्खों की कहानी

कुछ दिन बाद जब Raja वापस लौटे तो उन्हें पता चला कि राज्य पर हमला हुआ था और राजा के बेटे ने आराम से सब कुछ कर लिया था उन्हें किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा Because उनका बेटा बड़ा हो गया है और वह सभी जिम्मेदारियों को आसानी से संभाल सकता है राजा इस बात से खुश थे और Raja को यह लग रहा था कि उनका बेटा अब बहुत अच्छा है और सभी को अच्छी तरह समझने लगा है हमें उसे राजगद्दी पर बैठा देते हैं वह सारी जिम्मेदारियां उसे ही देते हैं

 

Raja rani ki kahani, Raja ki kahani, Because समझते हैं कि उनका बेटा सभी जिम्मेदारियों को पूरा कर पाएगा यह कहानी हमें यही बताती है कि जीवन में कितनी भी परेशानी आ जाएं but हम उनका मुकाबला आसानी से कर सकते हैं इसलिए जीवन में परेशान होने की जरूरत नहीं होती अगर आपको यह Raja rani ki kahani, Raja ki kahani पसंद आई है तो आगे भी शेयर करें कमेंट करके हमें भी बताये है 

 

राजा के बेटे की तीसरी नयी कहानी, Raja rani ki kahani

Raja rani ki kahani, राजा रानी से कहते है की हमे लगता है की हमे अपने बेटे को समझाना चाहिए, Because अगर वह नहीं समझता है तो इससे हमारे राज्य पर परेशानी आ सकती है, Because वह हमारा राज्य को देख सकता है but वह तो अपना समय दुसरो के साथ बिता रहा है वह आने वाले समय पर ध्यान नहीं दे रहा है जोकि चिंता का विषय बन रहा है रानी कहती है की हमे जल्द ही कुछ करना होगा, शायद तभी वह समझ सकता है, (Raja rani ki kahani)

 

वह अपने बेटे से मिलते है but आज भी वह किसी की बात नहीं सुनता है राजा देखते है की यह अच्छी बात नहीं है, Because हमारा बेटा ध्यान नहीं दे रहा है अगर वह ऐसा ही करता है तो हमे सोचना होगा, अगली सुबह राजा अपने बेटे की शादी करने की बात सोचते है, but यह कितना सही हो सकता है, यह बात राजा को पता नहीं है, वह रानी से बात करते है रानी को यह विचार अच्छा लगता है but इसका प्रभाव बेटे पर कैसा होगा वह नहीं जानते थे, राजा कुछ समय बाद उसका विवाह कर देते है

 

Raja rani ki kahani, यह बदलाव राजा ने अपने बेटे में कभी भी नहीं देखा था वह अचानक ही बदल गया था शायद वह सब कुछ समझ गया था उसका व्यवहार बदल गया था ऐसा क्या हुआ था यह बात कोई भी नहीं जानता था मगर ऐसा लग रहा था की शायद विवाह के बाद सब ठीक हो गया है रानी को जब यह पता चला तो उन्हें बहुत ख़ुशी हुई थी, Because उसका बेटा अब समझ गया था की उसे क्या करना है जीवन में बदलाव के बहुत से कारण हो सकते है मगर जो बदलाव हमारे जीवन को अच्छा बनांते है वह बहुत अच्छे होते है,

Related Posts:-

अंधे को मिली सजा की कहानी

एक पिता की कहानी

मेहनत का फल हिंदी कहानी

भिखारी और राजा की कहानी

हिंदी कहानी विवाह

सच्चे दोस्त की कहानी

गांव में बदलाव

सफल किसान एक कहानी

एक दूरबीन का राज

चश्में की हिंदी कहानी

हिंदी कहानी एक सच

दोस्त की सच्ची कहानी

साधू और गिलहरी की कहानी

दानवीर सुखदेव सिंह की कहानियां

गुलाब के फूल की कहानी

व्यापारी के अहंकार की कहानी

सच्चे मन की प्रार्थना की कहानी

राजा और मंत्री की कहानी 

एक छोटी सी मदद की कहानी

मूर्खो से बचे एक कहानी

व्यापारी के अहंकार की कहानी

सच्चे मन की प्रार्थना की कहानी

इंसान और क्रोध की कहानी

एक नाटक से सीख

जादुई बक्सा हिंदी कथा

समय का महत्व

एक किसान की कहानी

पशु की भाषा हिंदी कहानी

जीवन की सीख एक कहानी

उस पल की कहानी

एक महाराजा की कहानी

वो सोता और खाता था हिंदी कहानी

मंगू और दूसरी पत्नी की कहानी

सोच की कहानी

एक शादी की कहानी

छोटा सा गांव हिंदी कहानी

एक बोतल दूध की कहानी

सुबह की हिंदी कहानी

जादुई लड़के की हिंदी कहानी

दोस्त की सच्ची कहानी

आईने की हिंदी कहानी

जादुई कटोरा की कहानी

एक चोर की हिंदी कहानी

जीवन की सच्ची कहानी

छज्जू की प्रतियोगिता

जब उस पार्क में गए

असली दोस्ती क्या है

एक अच्छी छोटी कहानी

गुफा का सच

बाबा का शाप हिंदी कहानी

यादगार सफर

सब की खातिर एक कहानी

जादू का किला    

मेरे जीवन की कहानी

आखिर क्यों एक कहानी

मेरा बेटा हिंदी कहानी

दूल्हा बिकता है एक कहानी

जादूगर की हिंदी कहानी

छोटी सी मुलाकात कहानी

हीरे का व्यापारी

बिना सोचे विचारे

जादू की अंगूठी

गमले वाली बूढ़ी औरत

छोटी सी बात हिंदी कहानी

समय जरूर बदलेगा

सोच का फल कहानी

निराली पोशाक

पेड़ और झाड़ी

राजा और चोर की कहानी

पत्नी का कहना

एक किसान

रेल का डिब्बा

छोटी सी मदद

दिल को छूने वाली कहानी

गुस्सा क्यों

राजा की सोच कहानी

दाढ़ी में आग की कहानी

2 thoughts on “राजा का बेटा | Raja rani ki kahani | Raja ki kahani”

  1. Kshitij Shukla

    Thank you so much for keeping these stories alive! Keep posting, I know not much comments or visits are disheartening, but good things are not for everyone!

    1. duniahub

      आपने कमेंट की इसके लिए आपका बहुत बहुत ध्यानवाद, अगर आपको कोई भी और जानकारी चाहिए तो आप हमे लिख सकते है,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!