Lok katha in hindi- सच्चा कौन एक लोक कथा | lok kathayen

Lok katha in hindi | Lok kathayen

सच्चा कौन एक लोक कथा, lok katha in hindi, lok kathayen, एक गांव में अचानक ही चोरी हो गयी, जब चोरी हुई तो बहुत अँधेरा था कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था, चोरी होने के दौरान ही तीन आदमी भागते हुए नज़र आये, तीनो आदमी पर ही सभी लोगो का शक गया, but उन्हें पकड़ नहीं पाए थे,

सच्चा कौन एक लोक कथा : lok katha in hindi

lok katha.jpg
lok katha

lok katha in hindi, जब सुबह हुई तो सभी गांव वालो एक साथ इकट्ठे हुए, और उन तीनो चोरो की बात करने लगे, गांव वालो में से एक आदमी उठा और उसने कहा की जब गांव में चोरी हुई तो मेने उन तीनो को देखा था, उसी समय कुछ रौशनी में मेने उन्हें देखा था, उन तीनो को बुलाया गया और पूछा गया तुम में से चोर कौन है, तीनो एक दूसरे की और देखने लगे, तीनो आदमी बोले की हम चोर नहीं है, lok katha in hindi

दोस्त की सच्ची कहानी

उन तीनो पर किसी को भी विश्वास नहीं हो रहा था, तीनो से सच जानने के लिए तीनो को अलग-अलग बुलया गया जब पहला आदमी आया तो उससे पूछा गया की तुम क्यों भाग रहे थे, उसने कहा की मेने कुछ शोर सुनाई दिया था, इसलिए में घर से बहार आया और देखा की एक आदमी भगा जा रहा है, में उसके पीछे भागा, दूसरे आदमी को बुलाया गया की तुम क्यों भाग रहे थे, वो बोला की मेने देखा की दो आदमी भाग रहे थे, में भी उनके पीछे भागा था, जब तीसरे आदमी को बुलाया गया तो उसने कहा की मेने तो किसी भी आदमी को भागते हुए नहीं देखा था, बल्कि में तो एक बिल्ली के पीछे भाग रहा था,

जादू की किताब पुरानी कहानी

सभी लोग पूछने लगे की बिल्ली के पीछे क्यों भाग रहे थे उसने कहा की मुझे उसके मुँह में एक कपडा नज़र आया था इसलिए में भाग रहा था, अब  सभी लोग परेशान हो गए थे, Because उन्हें यह पता नहीं चल रहा था की चोर कौन है और कौन सच बोल रहा है, सभी लोग बोले की तुममे से कोई चोर है

एक किसान की कहानी

तुम हमे सच में बता दो नहीं तो बहुत पिटाई होगी, तभी उस बिल्ली वाले आदमी ने बोला की मुझे लगता है चोरी बिल्ली ने की है, Because उसके मुँह में कपडा था, उनकी बात मान कर सभी लोग बिल्ली की तलाश में निकल पड़े जब बिल्ली मिली तो उन्हें पता चल गया था की बिल्ली ही उस पोटली को लेकर गयी थी, जिसमे गहने रखे हुए थे, आंखिर गांव वालो को चोर मिल ही गया था, कभी-कभी हमारी आँखे भी देखा खा जा जाती है, सच्चा कौन एक लोक कथा, lok katha in hindi, lok kathayen, जो हमारी आँखे देखती है जरुरी नहीं है की वह सच हो इसलिए आपको सोच समझकर ही जीवन में फैसले लेने चाहिए तभी आप जीवन में सही और गलत का फैसला कर सकते है.

 

धन की पोटली हिंदी कहानी : lok katha in hindi

lok katha in hindi, एक आदमी इस पोटली को देख रहा था और सोच रहा था कि पोटली यहां पर कैसे आ गई है मुझे चल कर देखना चाहिए इस पोटली में क्या रखा हुआ है जैसे ही वह उस पोटली को देखता है तो उसमें उसे बहुत सारा धन नजर आता है वह सोचता है कि यह सारा धन मुझे भगवान ने दिया है इसलिए मुझे यह पोटली अपने घर पर ले जानी चाहिए, “lok katha in hindi”

एक महाराजा की कहानी

but वह कुछ देर रुक कर यह भी सोचता है कि पोटली मेरी नहीं है अगर जिसकी है पोटली खोजता हुआ आ गया तो उसे यह धन मिल जाएगा Because उसका हो सकता है आदमी यही बातें सोच रहा था और इसी वजह से वह इस पोटली को अपने पास रखे हुए था but कुछ समय बाद में सोचता है कि जिसकी पोटली वह अभी तक नहीं आया इसलिए मुझे यह पोटली अपने घर पर ले जाने चाहिए

चालाक किसान किड्स कहानी

यही बात सोचकर वह इस पोटली को अपने साथ में ले जाता है सोचता है कि इस बारे में अपनी पत्नी को बता दूंगा तो शायद मुझे कोई नया रास्ता मिल सकता है कुछ समय बाद वह इस पोटली को लेकर घर चला जाता है और अपनी पत्नी को दिखाता है पोटली में बहुत सारा धन रखा हुआ यह सुनकर उसकी पत्नी कहती है कि यह धन तो हमारा है Because यह पोटली तुम्हें मिली है इसलिए यह सारा धन हमारा ही होगा वह आदमी इस बारे में कुछ भी समझ नहीं पा रहा था Because यह पोटली उसकी नहीं थी

सबसे अच्छी जातक कथा

but उसका यह धन रखना अच्छी बात नहीं, अपनी पत्नी से कहता है कि हमें यह धन अपना नहीं कहना चाहिए Because पोटली हमारी नहीं है पत्नी ने कहा जिसे मिली है उसी की पोटली है इसलिए हमें ज्यादा नहीं सोचना चाहिए Because अभी तक वह आदमी भी नहीं मिला है जिसकी पोटली ली है इसलिए हमें इस धन का प्रयोग कर लेना चाहिए और इस तरह वह प्रयोग कर लेता है कुछ समय बाद एक आदमी उसके पास आता है और कहता है कि कुछ समय पहले की बात है यहां पर एक पोटली रखी हुई थी क्या तुमने देखी है

जादुई कटोरा की कहानी

वह आदमी कहता है कि मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा तुम किस पोटली की बात कर रहे हो उस पोटली में बहुत सारा धन था जो मेरे काम आ सकता था but अब मेरी वह पोटली मुझे नहीं मिल रही है शायद तुमने देखी हो तो मुझे बता सकते हो but सोचता है कि अगर इस वक़्त मेरे पास धन नहीं है Because मैंने तो खर्च कर दिया इसलिए कुछ नहीं कहता है वह घर पर जाकर अपनी पत्नी को बता देता है कि जिसकी पोटली थी वह आज वहीं पर ढूंढता वह आया था और मेरे से बात कर रहा था मैंने तो मना कर दिया कि मैं इस बारे में नहीं जानता पत्नी ने कहा तुमने ठीक किया but वह परेशान लग रहा था इसलिए मैं सोच रहा हूं कि सब बता देना चाहिए

lok katha in hindi | lok kathayen

पत्नी ने कहा कि अगर तुमने ऐसा किया तो धन की मांग करेगा और हमारे पास धन नहीं इस बात को जानता था कि उसके पास आप ध्न नहीं है but मैं उस आदमी से कह नहीं सकता वह इस समस्या में इसी वजह से फस गया था Because वह उस पोटली को अगर घर नहीं लाता तो अच्छा हो सकता था उसे यह बात पसंद नहीं थी, but अब कुछ नहीं कर सकता था, अगर आपको यह lok katha in hindi, lok kathayen, पसंद आयी है तो शेयर करे

Read More Hindi Story :-

एक नाटक से सीख

जादुई बक्सा हिंदी कथा

राजा और मंत्री की कहानी 

एक छोटी सी मदद की कहानी

जब उस पार्क में गए

असली दोस्ती क्या है

एक अच्छी छोटी कहानी

गुफा का सच

बाबा का शाप हिंदी कहानी

यादगार सफर

सब की खातिर एक कहानी

जादू का किला    

मेरे जीवन की कहानी

आखिर क्यों एक कहानी

मेरा बेटा हिंदी कहानी

दूल्हा बिकता है एक कहानी

जादूगर की हिंदी कहानी

छोटी सी मुलाकात कहानी

हीरे का व्यापारी

पंडित के सपने की कहानी

बिना सोचे विचारे

जादू की अंगूठी

गमले वाली बूढ़ी औरत

छोटी सी बात हिंदी कहानी

समय जरूर बदलेगा

सोच का फल कहानी

निराली पोशाक

पेड़ और झाड़ी

राजा और चोर की कहानी

पत्नी का कहना

एक किसान

रेल का डिब्बा

छोटी सी मदद

दिल को छूने वाली कहानी

गुस्सा क्यों

राजा की सोच कहानी

हिंदी कहानी एक सच

दोस्त की सच्ची कहानी

हिंदी कहानी विवाह

गांव में बदलाव

चश्में की हिंदी कहानी

परीक्षा का परिणाम

सफल किसान एक कहानी

एक दूरबीन का राज

1 thought on “Lok katha in hindi- सच्चा कौन एक लोक कथा | lok kathayen”

  1. इस प्रकार की कहानी मुझे अच्छी लगती है,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!