बदलते विचार की हिंदी कहानी, hindi stories

hindi stories

बदलते विचार की हिंदी कहानी, (hindi stories) यह कहानी आपको जरूर पसंद आएगी, यहां पर हमने बदलते विचार देखे है,

बदलते विचार की हिंदी कहानी : hindi stories

hindi stories.jpg

hindi stories

उस दिन दादाजी अचानक ही घर पर आ गए थे, कोई भी यह बात नहीं जानता था, कि दादा जी घर पर आ रहे हैं, क्योंकि दादाजी ने कहा था कि मैं अगले महीने में आऊंगा लेकिन वह अचानक ही आ गए थे इसलिए किसी को भी यह ध्यान नहीं था कि दादा जी आ जाएंगे तभी दादा जी जब घर पर आए तो देखा कि उनका बेटा फोन पर बात कर रहा था तभी दादाजी की नजर अपने पोते पर गयी,

 

पोता भी किसी से बात कर रहा था उन दोनों को बातें करते हुए देख दादा जी नाराज हो गए उन्होंने किसी से कुछ भी नहीं कहा चुपचाप बैठ गए तभी उनके बेटे की नजर दादाजी पर गई और वह देखकर पूछने लगे कि आप कब आए हमें तो पता ही नहीं चला तभी दादाजी ने कहा कि जब तुम सब लोग बातें कर रहे थे तभी मैं आ गया था तुम सभी लोग मोबाइल फोन पर हमेशा लगे रहते हो, तुम्हें यह भी ध्यान नहीं कि मैं कब आया हूं जब से फोन आया है तब से सभी की जिंदगी में बहुत ज्यादा बदलाव आ गया है कोई किसी को भी याद नहीं करता है और ना ही किसी के पास मिलने का समय है बस फोन घुमा दिया और बातें हो गई

 

अब उनके बेटे को लग रहा था कि पिताजी शायद नाराज हो गए हैं तभी वह अंदर गए और उनके लिए पानी की व्यवस्था की, वह दिन गर्मियों के थे, फोन सभी के पास नहीं हुआ करते थे मोबाइल जब आए तब ही की यह बात हैं, दादाजी ने पानी पिया और पानी पी कर बैठ गए अभी उनके पास आया हूं दादा जी ने पूछा कि तुम भी अब बड़े हो गए हो और हमेशा फोन पर लगे रहते हो फोन में ऐसा क्या है जो तुम हमेशा बातें करते रहते हो. पोता  बोला कि यह आप नहीं जानते, फोन से हम बहुत कुछ कर सकते हैं, दूसरों से बातें कर सकते हैं और कभी-कभी जब हमारा होमवर्क छूट जाता है तब हम फोन से भी पूछ लेते हैं

Read More-एक घर की कहानी

मोबाइल फोन बहुत ही जरुरी हो गया है यह सभी के पास है और हम कुछ ही सेकंड में बातें कर सकते हैं तभी दादा जी ने समझाया कि फोन आ जाने से कुछ नहीं होता है उनके आने से रिश्ते थोड़ी फीके पड़ गए हैं क्योंकि पहले लोग मिलने आया करते थे और आज फोन पर ही हाल चाल पूछ लेते हैं, किसी के भी पास मिलने का समय नहीं है शायद दादा जी को फोन से बात करना पसंद नहीं था क्योंकि वह यह समझते थे कि फोन के आने से हमेशा दूरियां बढ़ी है, सुबह हुई सभी के लिए नाश्ता बनने लगा और दादाजी भी नाश्ता कर रहे थे तभी उनका बेटा आया और कहने लगा कि मुझे शाम की गाड़ी से बाहर जाना है मुझे आने में 2 दिन लगेंगे और 2 दिन बाद में आ जाऊंगा तब तक पिताजी यही पर रहेंगे.

 

उसके बाद वह ऑफिस चले गए जब शाम को आए तभी उन्होंने कहा कि मेरा सामान जल्दी से पैक कर दो उसके बाद उनका सामान पैक कर दिया गया और खाने की भी तैयारी की क्योंकि शाम को उन्हें निकलना था और रात 9:00 बजे की गाड़ी थी वह 9:00 बजे गाड़ी से उन्हें बाहर जाना था दादा जी बैठे अखबार पढ़ रहे थे और पूछ रहे थे कि यहां पर क्या-क्या काम होगा तभी उनके बेटे ने बताया कि वहां पर मुझे कंपनी के काम से जाना है और उन्हीं के काम करके मैं 2 दिन में वापस आ जाऊंगा

Read More-कामयाबी का सफर हिंदी कहानी

तब तक आप यहां पर आराम से रहें और सबका ध्यान रखिए, अपना सारा सामान लेकर जल्दी ही स्टेशन की ओर निकल गए और उन्हें यह भी याद नहीं था कि उनका मोबाइल वहीं पर छूट गया है वह अपना मोबाइल नहीं ले पाए थे और ऐसे ही निकल गए थे जल्दबाजी में ऐसा हो गया था इसलिए मोबाइल नहीं उठा पाए थे और जब 2 घंटे बीत चुके थे और उनके बाद उनकी गाड़ी स्टेशन पर आ गई थी वह अपनी गाड़ी में बैठे और सफर के लिए निकल गए और सभी घरवाले रात होने की वजह से सो गए

Read More-राजमहल की हिंदी कहानी

जब सुबह हुई तो घर वालों ने सोचा कि उनसे बात कर ली जाए क्योंकि हमें यह पूछना चाहिए कि वह कहां तक पहुंचे हैं जब फोन मिला रहे थे फोन की घंटी घर पर ही बज रही थी दादा जी वहां से कह रहे थे कि उसे कुछ भी याद नहीं रहता, अपना सामान भी ठीक तरह से नहीं रख सकता और मोबाइल को भी यहीं पर छोड़ गया है अब उसकी खैरियत के बारे में हमें कैसे पता चलेगा सभी लोग पूरी तरह से घबरा गए थे सुबह हो चुकी थी लेकिन किसी का भी काम में मन नहीं लग रहा था क्योंकि उनकी खैरियत के बारे में जानना चाहते थे

Read More-समय निकलने बाद हिंदी कहानी

तभी उनके मोबाइल पर एक फोन आया वह फोन उन्हीं का था क्योंकि उन्होंने किसी से मोबाइल लेकर बात की और कहा कि मैं ठीक तरह से पहुंच गया हूं मेरा मोबाइल घर पर ही रह गया था इसलिए मैं तुम लोगों से बात नहीं कर पाया जब उनका फोन आया तब सभी लोग शांति से बैठ गए क्योंकि अब यह समझ चुके थे कि खैरियत से पहुंच चुके हैं जब तक फोन नहीं आया था उनके मन में हमेशा परेशानी थी दादा जी ने आज पहली बार सबको ऐसे करते हुए देखा था वह समझ चुके थे कि मोबाइल होना बहुत बड़ी बात है

Read More-एक महारानी की हिंदी कहानी

अगर आज उसके पास मोबाइल होता तो कोई भी घर पर परेशान नहीं होता तब से दादाजी समझ चुके थे कि मोबाइल बहुत ही अच्छी चीज है जिससे हम दूसरों की खैरियत पता कर सकते हैं उस दिन के बाद सही दादाजी ने भी ने भी अपने लिए एक मोबाइल ले लिया था और उसी मोबाइल का प्रयोग कर रहे थे दादा जी का फोन आया और पोता कहने लगा कि आपने भी एक नया मोबाइल ले लिया तभी दादा जी ने कहा कि यह तो बहुत ही जरूरी चीज है मैं इस बारे में नहीं जानता था जब मैं इसके उपयोग जान गया हूं तो मैं समझ सकता हूं कि यह बहुत ही उपयोगी चीज है.

बदलते विचार की हिंदी कहानी, (hindi stories) अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो आप इसे शेयर जरूर करे और कमेंट करके हमे भी बताये,

Read More Hindi Story :-

Read More-राजकुमारी और तितली की कहानी

Read More-सेवा का सही मूल्य हिंदी कहानी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-परेशानियों का सामना हिंदी कहानी

Read More-विचित्र हिंदी कहानियां

Read More-सब-कुछ संभव है कहानी

Read More-आप कैसे हो एक कहानी

Read More-पहाड़ी की दूरिया हिंदी कहानी

Read More-कबीले के पास की गुफा हिंदी कहानी

Read More-जीवन के सही मूल्यों की कहानी

Read More-चिराग और जिन्न की हिंदी कहानी

Read More-जीवन में कामयाबी की कहानी

Read More-सीखने की कला हिंदी कहानी

Read More-यादगार पल की हिंदी कहानी

Read More-सेनापति की हिंदी कहानी

Read More-जादू का भ्रम कहानी

Read More-पुराने दोस्त की कहानी

Read More-एक राजा की हिंदी कहानी

Read More-उड़ती हुई रेत की कहानी

Read More-कला का ज्ञान हिंदी कहानी

Read More-मेहनत बेकार नहीं जाती कहानी

Read More-जीवन की सफलता की कहानियां

Read More-सही दिशा में सपनों की कहानी

Read More-अकेले ही चलते रहे हिंदी कहानी

Read More-एक सच्चे दोस्त की कहानी

Read More-सुखमय जीवन की कहानी

Read More-राजा की प्रजा हिंदी कहानी

Read More-राजकुमार की कहानी

Read More-परिश्रम की हिंदी कहानी

Read More-एक कहानी सोचना जरुरी है

Read More-मन की जीत एक कहानी

Read More-मेरी नयी हिंदी कहानी

Read More-आईने की हिंदी कहानी

Read More-जादुई कटोरा की कहानी

Read More-जीवन में बदलाव लाये कहानी

Read More-बांसुरी की धुन एक लघु कहानी

Read More-सही मार्ग कौनसा है हिंदी कहानी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!