जाधव ताऊ की कहानी, Jadhav Tau story in hindi

Jadhav Tau story in hindi

जाधव ताऊ की कहानी

hindi story.jpg

Jadhav Tau hindi story

बात है रामपुर के गांव  की. जहाँ का एक जाधव ताऊ जिसका नाम जाधव था वो बड़ा ही मशहूर हुआ करता था. एक समय की बात है. जब जाधव ताऊ जवान हुआ करता था. जाधव ताऊ घर पर सोया था. ओर उधर नहर वाले खेत के पास से तीन अजनबी लोग गुजर रहे थे. दोपहर का समय था. ओर आसपास भी कोई नही था. अब तीनो ने सोचा चलो खेत मे चने लगे हे.

 

ओर आसपास भी कॊई नही. ओर हमे भूख भी लगी हे. तो चने खाये जाये. यह तीनो लोग मे से एक संत था. एक क्षत्रिय था. ओर एक नाई. बहुत सोच समझ के बाद तीनो ने चने उखाडे ओर वही बेठ के खाने लगे. जाधव ताऊ घर मे बेठा मक्खी मार रहा था. तभी ताई ने कहा जरा खेतो मे देख आ कोई जानवार ना घुस गया हो. बात जाधव ताऊ के दिमाग मे आई.

जाधव ताऊ डंडा ले कर खेतो की तरफ़ चल पडा. अब जाधव ताऊ ने दुर से देखा कि तीन लोग चने के पोधे उखाड उखाड कर फ़सल खराब कर रहे है. खाते कम ओर नुक्सान ज्यादा कर रहे हे. गुस्सा तो जाधव ताऊ को बहुत आया. फ़िर जाधव ताऊ ने चारो ओर देखा. आसपास कोई नजर भी नही आया. अब जाधव ताऊ ने सोचा कि सीधा जाकर अगर मेने लडाई की तो यह तीन है.

Read More-आखिरी काम की कहानी

Read More-संत के स्वप्न की कहानी

Read More-अपने मन के राजा की कहानी

ओर मै अकेला कही यह भारी ना पड जाये. तो फ़िर जाधव ताऊ ने अपनी बुद्धी का प्रयोग किया. केसे. जाधव ताऊ गया उन के पास ओर पहले आदमी से बोला भाई साहब आप कोन. जबाब मे उस ने कहा मे एक संत हुं. तो जाधव ताऊ बडा खुश हुआ. बोला महा राज आप ने तो मेरा खेत ही पबित्र कर दिया अरे मुझे हुकम देते मे घर पर छोड आता.

Read More-परेशानियों से बचे एक कहानी

Read More-एक जोकर की कहानी

Read More-एक पत्रकार की कहानी

खाईये जितना चाहे.ओर हां अगर आप को घर के लिये भी चाहिये तो मे अपनी बेलगाडी से आप के घर पर चार पांच गठरी चनो की छोड आऊगां फ़िर जाधव ताऊ दुसरे आदमी के पास गय. ओर बोला भाई सहाब आप कोन? तो उसने कहा मै क्षत्रिय हुं. इतना सुनते ही जाधव ताऊ बोला अरे कुवर जी आप तो हमारे अन्नदाता है. मेरे कितने अच्छॆ भाग्या है मेरे कुवरं साहब पाधारे आप भी खाईये जितना चाहे. अगर घर के लिये भी चाहिये तो हुकम मेरे महाराज कुवर साहव. अब आप खाईये मै जरा इन से बात कर लू. फ़िर जाधव ताऊ तीसरे के पास गये. ओर बोले भाई साहब आप कोन तो तीसरा आदमी बोला जी मै नाई. अब जाधव ताऊ बोला नाइ तेरी हिम्मत केसे हुयी मेरे खेत मे घुसने की. इन संत ने चने उखाडे यह हमरे पुजनिया है.

Read More-सब कुछ बह जायेगा हिंदी कहानी

Read More-दो मूर्खों की कहानी

Read More-बुद्धि की परीक्षा की कहानी

हमारे विवाह शादी पर . किसी के मरने पर. दुख सुख मे हमे कथा सुनाते हे काम आते है. ओर यह कुवर साहब तो हमारी सरकार है. हमारे राजा. यह भि दुख सुख मे हमारे काम आते है. संत ओर क्षत्रिय दोनो नाई को पिटता देख कर खुश हो रहे थे. जब जाधव ताऊ ने नाई को अच्छी तरह से बजा दिया तो उसे टागं से पकड कर खेत से बाहर फ़ेंक दिया.फ़िर जाधव ताऊ आया उस क्षत्रिय की तरफ़ तौ बोला संत तो हमारे पुज्निय ठहरे . लेकिन आप ने फ़िर क्यु उखाडे हमारे चने.

Read More-माँ के दिल की कहानी 

Read More-आज और कल की कहानी

Read More-अंधे को मिली सजा की कहानी

हे बोलो ओर फ़िर जाधव ताऊ ने अपना डंडा उस क्षत्रिय पर खुब मांजा.क्षत्रिय को पिटाता देख कर नाई ओर संत बहुत खुश हुये. नाई मन ही मन कह रहा था जब मेरी पिटाई हुयी तो बहुत खुश था अब तु भी पिट. ओर जाधव ताऊ ने उसे भी मारा. उधर संत कह रहा था तो जाधव ताऊ ने उसे भी इतना मारा कि बेचारे से खडा भी ना हो पाया जा रहा था. ओर उसे भी टांग से पकड कर नाई की बगल मे फ़ेंक दिया.

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-एक आत्मकथा की कहानी

Read More-एक पिता की कहानी

उधर क्षत्रिय सोच रहा था अब गाव मे जा कर यह संत हम दोनो की खिली उडायेगा. देखो नाई ओर क्षत्रिय खुब पिटे. ओर हमे देख देख कर खुश भी हो रहा था. हे भगवान इस की भि पिटाई करवा.ओर अब जाधव ताऊ चले संत की ओर . ओर बोले पूजनीय जी अब आप की भी पुजा हो जाये तो केसा रहेगा.क्यो मेरे पुजनिया क्या यह खेत युही तेयार हो जाता है क्या. अरे इस मे बीज डालना पडता है. खाद डालनी पडती है. फ़िर मेहनत ओर फ़िर इस की हिफ़ाजत करनी पडती है. जब आप पुजा वगेरा करते हो तो कोई एक पेसा भी कम लेते हो.

Read More-मेहनत का फल हिंदी कहानी

Read More-भिखारी और राजा की कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read More-सच्चे दोस्त की कहानी

Read more-गांव में बदलाव

Read More-सफल किसान एक कहानी

Read More-एक दूरबीन का राज

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-साधू और गिलहरी की कहानी

Read More-दानवीर सुखदेव सिंह की कहानियां

Read More-गुलाब के फूल की कहानी

Read More-व्यापारी के अहंकार की कहानी

Read More-सच्चे मन की प्रार्थना की कहानी

Read More-राजा और मंत्री की कहानी 

Read More-एक छोटी सी मदद की कहानी

Read More-मूर्खो से बचे एक कहानी

Read More-व्यापारी के अहंकार की कहानी

Read More-सच्चे मन की प्रार्थना की कहानी

Read More-इंसान और क्रोध की कहानी

Read More-एक नाटक से सीख

Read More-जादुई बक्सा हिंदी कथा

Read More-समय का महत्व

Read More-एक किसान की कहानी

Read More-पशु की भाषा हिंदी कहानी

Read More-जीवन की सीख एक कहानी

Read More-उस पल की कहानी

Read More-एक महाराजा की कहानी

Read More-वो सोता और खाता था हिंदी कहानी

Read More-मंगू और दूसरी पत्नी की कहानी

Read More-सोच की कहानी

Read More-एक शादी की कहानी

Read More-छोटा सा गांव हिंदी कहानी

Read More-एक बोतल दूध की कहानी

Read More-सुबह की हिंदी कहानी

Read More-जादुई लड़के की हिंदी कहानी

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-आईने की हिंदी कहानी

Read More-जादुई कटोरा की कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-जीवन की सच्ची कहानी

Read More-छज्जू की प्रतियोगिता

Read More-जब उस पार्क में गए

Read More-असली दोस्ती क्या है

Read More-एक अच्छी छोटी कहानी

Read More-गुफा का सच

Read More-बाबा का शाप हिंदी कहानी

Read More-यादगार सफर

Read More-सब की खातिर एक कहानी

Read More-जादू का किला 

Read More-मेरे जीवन की कहानी

Read More-आखिर क्यों एक कहानी

Read More-मेरा बेटा हिंदी कहानी

Read More-दूल्हा बिकता है एक कहानी

Read More-जादूगर की हिंदी कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-पंडित के सपने की कहानी

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-जादू की अंगूठी

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-छोटी सी बात हिंदी कहानी

Read More-समय जरूर बदलेगा

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-दाढ़ी में आग की कहानी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!