बरसात की रात, upanyas in hindi

upanyas in hindi

बरसात की रात उपन्यास

upanyas.jpg

upanyas in hindi

upanyas in hindi, novel in hindi, एक दिन बरसात हो रही थी कमला मेरी पत्नी और मैं बरसात होने का आनंद ले रहे थे वक़्त भी ज्यादा नहीं हुआ था शाम के सात बजे थे अभी उजाला था सब कुछ साफ़ साफ़ दिखाई दे रहा था





कुछ लोग अपने घर से निकलकर घूम रहे थे बारिश इतनी ज्यादा नहीं थी पर फिर भी हो रही थी, कुछ देर बाद अँधेरा हो गया बारिश भी तेज हो गयी थी अब बिजली भी नहीं आ रही थी





कमला कुछ दिखाई नहीं दे रहा कहा हो तुम,

 

मै यही पर हु अभी मोमबत्ती जला के ला रही हु,

 

ले आओ कहीं हम टकरा न जाए,

 

टकराने की कोई जरूरत नहीं जहा हो वही पर खड़े रहो,

 

कुछ देर बाद मोमबत्ती भी आ गयी ये लो अब ऐसे जहा पर रखना हो रख दो,

 

कमला ने कहा ये बारिश अब पहले से भी तेज हो गयी है ऐसा लगता है की रात भर होती रहेगी, चलो अब खाना खा लो मुझे नहीं लगता की अब बिजली आएगी,

 

हां तुम ऐसा करो की लगा लो मै भी हाथ धोकर आता हु खाना खा कर कुछ देर टहल कर सोने के लिए चले गए .

 

बहार अब काफी अँधेरा हो गया था बहुत से लोग अब दिखयी नहीं दे रहे थे और इस बारिश के मौसम बाहर कौन होगा अब बारिश पहले से भी काफी तेज हो गयी थी,

   

Read More-बाबा की सीख

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

अब तो सोने के अलावा कोई और काम भी नहीं बचा था और हम दोनों सोने के लिए चले गए अद्धी रात ही बीती थी की बाहर कुछ चहल-पहल सुनाई दी, ऐसा लग रहा था की बाहर कोई है पर इतनी रात को कौन हो सकता है यही सोच रहे थे हम दोनों, सोचा की चल कर देखना चाहिए तभी पता चलेगा कौन है,

 

अपनी छत पर जाकर देखा तो बाहर दो लोग खड़े थे जो शायद चोर हो सकते थे पर चोर का मुकाबला करना इतना आसान नहीं था ये दोनों चोर अपनी योजना बना रहे थे उन्होंने ऊपर की और देखा शायद ये हमारे घर मै ही चोरी करने की सोच रहे थे  

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी 

Read More-साधू की पद यात्रा

घर पर हम दोनों ही थे चोर छत की और से घर मै घुसने लगे कुछ समझ मै नहीं आ रहा था की क्या किया जाए तभी दिमाग मै एक तरकीब नज़र आयी की ये दोनों तो छत की दिवार से चढ़ रहे है और हम दोनों बाहर से ताला लगा कर पडोसी को जगा देंगे

 

दोनों चोर छत से ऊपर आ गए और हम दोनों बाहर आ गए और पड़ोशियो को जगा दिया और बहुत से लोगो को इकट्ठा कर लिया

 

upanyas in hindi, novel in hindi, पता नहीं उस दिन बिजली भी आ गयी और सभी लोगो ने चोर को घेर लिया और दोनों चोर पकडे गए और उनकी जमकर पिटाई हुई शायद वो अब चोरी नहीं करेंगे दोस्तों ये एक छोटी सी और सच्ची कहानी शायद आपको पसंद आयी हो हमे हर मुसीबत से लड़ना आना चाहिए तभी हम मुसीबत को टाल सकते है.

Read More-हौसला बनाये रखना

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-छोटी सी बात हिंदी कहानी

Read More-समय जरूर बदलेगा

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Leave a Reply

error: Content is protected !!