shekh chilli ka safar hindi kahani

shekh chilli ka safar hindi kahani

shekh chilli.jpg
shekh chilli ka safar hindi kahani

 शेखचिल्ली का सफर

shekh chilli ka safar hindi kahani, एक दिन शेखचिल्ली बस में सफ़र कर रहा था जैसे ही वह बस में चढ़ा तो देखा कि सवारी तो बहुत ज्यादा थी और शेखचिल्ली को बैठने की जगह बिल्कुल भी नहीं मिल रही थी और वह सोचने लगा कि इस तरह तो मेरा सफ़र काफी लंबा है और मैं खड़े-खड़े कहां तक जाऊंगा.

 

फिर उसने सोचा कि ऐसे तो बात नहीं बनेगी मुझे तो सीट चाहिए अब वह सीट की तलाशी करने लगा कि कहां पर मुझे जगह मिल सकती है तभी पीछे की सीट पर दो औरतें बैठी हुई थी शेखचिल्ली उनके पास गया और कहने लगा कि अम्मा जी थोड़ा उधर सरक जाइए तभी शेखचिल्ली के अम्मा कहते ही दोनों औरतों ने उसकी पिटाई की और कहा कि यहां से भाग जा नहीं तो तेरी और पिटाई कर देंगे

 

शेखचिल्ली को बिल्कुल भी समझ में नहीं आ रहा था कि उन्होंने मुझे क्यों मारा लेकिन फिर भी वह सोचता रहा कि सीट तो मुझे चाहिए ही फिर थोड़ा वह आगे बढ़ा तो देखा कि एक बूढी अम्मा वहां पर बैठी हुई थी शेखचिल्ली ने बूढी अम्मा से कहा कि मुझे थोड़ी सी सीट दे देंगे क्या आप,

Read More-मुर्ख दोस्त की कहानी

 बूढी अम्मा ने कहा कि बेटा मैं तो वैसे ही खड़ी नहीं रह सकती और तुम तो बहुत अच्छे जवान हो तुम आराम से खड़े हो सकते हो फिर भी तुम्हें सीट चाहिए शेखचिल्ली के समझ में बिल्कुल भी नहीं आ रहा है सफर काफी लंबा है और मुझे सीट नहीं मिल रही है और कोई भी उठने को तैयार नहीं है

Read More-शेखचिल्ली की कुश्ती

शेखचिल्ली के दिमाग में एक तरकीब आई और शेखचिल्ली ने कहा कि अगर तुम में से मुझे कोई सीट नहीं देगा तो मेरी तबीयत खराब हो जाएगी और मैं किसी पर भी उल्टी कर सकता हूं सभी लोग घबराने लगे वह सोचने लगे कि पता नहीं किस पर कर दे और जैसे ही वह पीछे की औरतों के पास गया तो

Read More-शेखचिल्ली का मजाक

 वहां पर उल्टी होने का नाटक करने लगा और वहां से दोनों खड़ी हो गई और शेखचिल्ली को सीट मिल गई बल्कि शेखचिल्ली को इतनी बड़ी सीट मिल गई की शेखचिल्ली बड़े आराम से लेटा हुआ बस में जा रहा था

Read More-शेखचिल्ली की तबीयत

shekh chilli ka safar hindi kahani, शेखचिल्ली ने सोचा कि जब मैं बड़े आराम से सीट मांग रहा था तो कोई भी देने को तैयार नहीं था और अब इतनी बड़ी सीट मिली है कि मैं इतने आराम से जा रहा हूं सच ही कहा है अपने दिमाग का इस्तेमाल सही जगह पर और सही वक्त में जरूर करना चाहिए.

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-सफल किसान एक कहानी

Read More-एक दूरबीन का राज

Read More-मोटू और ठण्ड

Read More-राजा और मंत्री की कहानी 

Read More-एक छोटी सी मदद की कहानी

Read More-एक नाटक से सीख

Read More-जादुई बक्सा हिंदी कथा

Read More-गुलाब के फूल की कहानी

Read More-समय का महत्व

Read More-एक किसान की कहानी

Read More-पशु की भाषा हिंदी कहानी

Read More-मेरे जीवन की कहानी

Read More-आखिर क्यों एक कहानी

Read More-मेरा बेटा हिंदी कहानी

Read More-दूल्हा बिकता है एक कहानी

Read More-जादूगर की हिंदी कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-पंडित के सपने की कहानी

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-जादू की अंगूठी

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-छोटी सी बात हिंदी कहानी

Read More-समय जरूर बदलेगा

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-सफल किसान एक कहानी

Read More-एक दूरबीन का राज

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!