राजा के विचार की कहानी, stories in hindi

 stories in hindi

राजा के विचार की कहानी

hindi story.jpg
hindi story

ये कहानी चार भाइयो की है जो की बहुत ही निकम्मे और लालची है. कोई भी काम को करने को तैयार नहीं होते है. लेकिन राजा ने उन्हें एक काम दिया , देखते है की क्या वो इस काम को कर पते है या नहीं. देश के एक गाँव मे एक धनी पंडित रहता था. उसके तीन पुत्र थे. एक बार पंडित ने एक यज्ञ करना चाहा. उसके लिए एक मछली की जरूरत हुई.

 

उसने चारो भाइयों को मछली लाने को कहा. वे चारो समुद्र पर पहुँचे. वहाँ उन्हें एक मछली मिल गया. बड़े ने कहा, मैं मोहन हूँ, इसलिए मछली को नहीं छुऊँगा. मझला बोला, मैं सोहन हूँ, मैं नहीं ले जाऊँगा. सबसे छोटा बोल, मैं रोहन हूँ, सो मैं नहीं ले जाऊँगा, मैं दोहन हूँ मैं नहीं ले जाऊँगा. वे चारो इस बहस में पड़ गये कि उनमें कौन बढ़कर है. जब वे आपस में इसका फैसला न कर सके तो राजा के पास पहुँचे. राजा ने कहा, आप लोग रुकें. मैं चारो की अलग-अलग जाँच करूँगा.

इसके बाद राजा ने बढ़िया भोजन तैयार कराया और चारो खाने बैठे. सबसे बड़े ने कहा, मैं खाना नहीं खाऊँगा. इसमें गन्ध आती है. वह उठकर चला. राजा ने पता लगाया तो मालूम हुआ कि वह भोजन श्मशान के पास के खेत का बना था. राजा ने कहा, तुम सचमुच मोहन हो, तुम्हें भोजन की पहचान है.

Read More-राजा और मंत्री की कहानी 

Read More-एक छोटी सी मदद की कहानी

रात के समय राजा ने एक सुन्दर स्त्री को मझले भाई के पास भेजा. ज्योंही वह वहाँ पहुँची कि मझले भाई ने कहा, इसे हटाओ यहाँ से. इसके शरीर से बकरी का दूध की गंध आती है. राजा ने यह सुनकर पता लगाया तो मालूम हुआ कि वह स्त्री बचपन में बकरी के दूध पर पली थी. राजा बड़ा खुश हुआ और बोला, तुम सचमुच सोहन हो.

Read More-एक नाटक से सीख

Read More-जादुई बक्सा हिंदी कथा

इसके बाद उसने तीसरे भाई को सोने के लिए सात गद्दों का पलंग दिया. जैसे ही वह उस पर लेटा कि एकदम चीखकर उठ बैठा. लोगों ने देखा, उसकी पीठ पर एक लाल रेखा खींची थी. राजा को ख़बर मिली तो उसने बिछौने को दिखवाया. सात गद्दों के नीचे उसमें एक बाल निकला. उसी से उसकी पीठ पर लाल लकीर हो गयी थीं. राजा को बड़ा अचरज हुआ उसने चारो को एक-एक लाख अशर्फियाँ दीं. अब वे चारो मछली को ले जाना भूल गये, वहीं आनन्द से रहने लगे.

Read More-समय का महत्व

Read More-एक किसान की कहानी

राजा ने कहा, मेरे विचार से सबसे बढ़कर रोहन था, क्योंकि उसकी पीठ पर बाल का निशान दिखाई दिया और ढूँढ़ने पर बिस्तर में बाल पाया भी गया. बाकी दो के बारे में तो यह कहा जा सकता है कि उन्होंने किसी से पूछकर जान लिया होगा. तो दोस्तों आपको ये कहानी कैसी लगी. मुझे जरूर बताये.

Read More-उस पल की कहानी

Read More-एक महाराजा की कहानी

Read More-वो सोता और खाता था हिंदी कहानी

Read More-सोच की कहानी

Read More-एक शादी की कहानी

Read More-छोटा सा गांव हिंदी कहानी

Read More-एक बोतल दूध की कहानी

Read More-सुबह की हिंदी कहानी

Read More-जादुई लड़के की हिंदी कहानी

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-आईने की हिंदी कहानी

Read More-जादुई कटोरा की कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-जीवन की सच्ची कहानी

Read More-छज्जू की प्रतियोगिता

Read More-जब उस पार्क में गए

Read More-असली दोस्ती क्या है

Read More-एक अच्छी छोटी कहानी

Read More-गुफा का सच

Read More-बाबा का शाप हिंदी कहानी

Read More-यादगार सफर

Read More-सब की खातिर एक कहानी

Read More-जादू का किला    

Read More-मेरे जीवन की कहानी

Read More-आखिर क्यों एक कहानी

Read More-मेरा बेटा हिंदी कहानी

Read More-दूल्हा बिकता है एक कहानी

Read More-जादूगर की हिंदी कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-पंडित के सपने की कहानी

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-जादू की अंगूठी

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-छोटी सी बात हिंदी कहानी

Read More-समय जरूर बदलेगा

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-सफल किसान एक कहानी

Read More-एक दूरबीन का राज

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!