दौलतमंद भिखारी, hindi story online reading

Hindi story online reading | Hindi short story

दौलतमंद भिखारी :- hindi story online reading, story read in hindi, story hindi, hindi short story, एक शहर में अमीरचंद नाम का एक व्यापारी रहता था एक दिन अमीरचंद अपनी गाड़ी में बैठकर मंदिर गया जैसे ही अमीरचंद अपनी गाड़ी से नीचे उतरा (hindi short story) उसके सामने एक भिखारी आ गया और बोला भगवान के नाम पर कुछ दे दो सेठ जी,

दौलतमंद भिखारी : Hindi story online reading

hindi story online reading
hindi story online reading

सेठ अमीरचंद ने कहा तुम मेरे साथ चलो मेरे यहां काम करना तुम्हें बहुत सारे पैसे मिलेंगे भिखारी ने कहा मेरी तबीयत ठीक नहीं है मैं आपके यहां नहीं चल सकता मुझे कुछ दे दो हमें अमीरचंद ने कहा क्या दे दूं तुम मेरे साथ चलो काम करो और उसके बदले मैं तुम्हें पैसे दे दूंगा भिखारी  बार-बार कहने लगा मुझे कुछ पैसे दे दो मुझे कुछ पैसे दे दो हमें अमीरचंद ने कहा तुम मुझे गरीब तो नहीं लगते तुम्हारे पास तो बहुत सारे पैसे और दौलत है भिखारी अमीरचंद की बात सुनकर चौंक गया बोला सेठजी आप मेरा क्यों मजाक उड़ा रहे हो मैं तो बहुत गरीब हूं

बाबा की सीख

ढोंगी पंडित की कहानी 

बेवकूफ दोस्त की कहानी

इसीलिए तो भीख मांगकर अपना पेट पालता हूं अमीरचंद ने कहा अच्छा तुम मुझे एक बात बताओ मैं तुम्हें 1000 दूंगा क्या तुम मुझे अपना एक हाथ दे सकते हो अधिकारी ने कहा मैं बिना हाथ के कैसे काम करूंगा मैं आपको अपना हाथ नहीं दे सकता अमीरचंद ने का अच्छा तो मुझे अपना एक पैर दे दो मैं तुम्हें 2000 दूंगा भिखारी  ने कहा बिना पैर के तो मैं चल भी नहीं पाऊंगा फिर भीख कैसे मांगूंगा मैं नहीं दे सकता अमीरचंद ने कहा की अच्छा ठीक है मैं तुम्हें एक लाख रुपए दूंगा तुम मुझे अपनी एक आंख दे दो

सेब का फल हिंदी कहानी

साधू की पद यात्रा

धनवान आदमी हिंदी कहानी 

भिखारी बोला आंख बिना तो मैं देख भी नहीं पाऊंगा मैं आपको अपनी एक आंख नहीं दे सकता यह सुनकर अमीरचंद,  तुम तो मुझे कुछ भी नहीं दे सकते और मैं तुम्हें पैसे देने के लिए तो तैयार हूं भिखारी समझ गया बोला सेठ जी आपने मेरी आंखें खोल दी मैं गरीब नहीं हूं मेरे पास  लाखों की दौलत है Because मेरे हाथ पैर सब सलामत है इनसे मैं कमा कर अपना और अपने परिवार का पेट पाल सकता हूं मुझे भीख मांगने की कोई जरूरत नहीं है भीख तो वह लोग मानते हैं जिनके हाथ पैर सलामत नहीं होते मेरे तो सब है.

ज्ञान का भंडार

बिना सोचे विचारे

राजा और लेखक

यह कहानी हमे सही और गलत का फैसला करने में सहायता करती है जीवन में ऐसा कोई भी काम नहीं करना चाहिए जिससे कभी भी सुनना पड़े, दौलतमंद भिखारी, hindi story online reading, hindi short story, story read in hindi, story hindi, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो शेयर जरूर करे.

Read More Hindi Story :-

बरसात के दिन आये कहानी

आप क्या करते हो हिंदी कहानी

बदलते विचार की हिंदी कहानी

एक कहानी सोचना जरुरी है

सुखमय जीवन की कहानी

जीवन की सफलता की कहानियां

सही दिशा में सपनों की कहानी

अकेले ही चलते रहे हिंदी कहानी

एक सच्चे दोस्त की कहानी

उड़ती हुई रेत की कहानी

कला का ज्ञान हिंदी कहानी

मेहनत बेकार नहीं जाती कहानी

जीवन में कामयाबी की कहानी

सीखने की कला हिंदी कहानी

यादगार पल की हिंदी कहानी

परेशानियों का सामना हिंदी कहानी

विचित्र हिंदी कहानियां

सब-कुछ संभव है कहानी

आप कैसे हो एक कहानी

पहाड़ी की दूरिया हिंदी कहानी

कबीले के पास की गुफा हिंदी कहानी

जीवन के सही मूल्यों की कहानी

राजकुमारी और तितली की कहानी

सेवा का सही मूल्य हिंदी कहानी

राजा और चोर की कहानी

ईश्वर से बड़ा कोई नहीं

महात्मा बुद्ध की सीख हिंदी कहानी

बाबा का भविष्य

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!