बच्चों की अनोखी कहानी, baccho ki kahani

baccho ki kahani

बच्चों की अनोखी कहानी

hindi story.jpg

baccho ki kahani

एक जंगल मैं बहुत ही भयानक चीता रहा करता था. वो अपने से छोटे जानवरो को जान से मारकर खा जाता था. कभी कभी तो वो एक दिन मैं कई जानवरो को मार देता था. जंगल के जानवर डरने लगे कि अगर चीता इसी तरह शिकार करता रहा तो एक दिन ऐसा आयेगा कि जंगल में कोई भी जानवर नहीं बचेगा. सारे जंगल में सनसनी फैल गई. चीता को रोकने के लिये कोई न कोई उपाय करना ज़रूरी था. एक दिन जंगल के सारे जानवर इकट्ठा हुए और इस प्रश्न पर विचार करने लगे.





अन्त में उन्होंने तय किया कि वे सब चीता के पास जाकर उनसे इस बारे में बात करें. दूसरे दिन जानवरों के एक दल चीता के पास पहुंचा. उनके अपनी ओर आते देख चीता घबरा गया और उसने गरजकर पूछा, क्या बात है . तुम सब यहां क्यों आ रहे हो . जानवर दल के नेता ने कहा, हम आपके पास निवेदन करने आये हैं. जब आप शिकार करने निकलते हैं तो बहुत जानवर मार डालते हैं.




आप सबको खा भी नहीं पाते. इस तरह से हमारी संख्या कम होती जा रही है. अगर ऐसा ही होता रहा तो कुछ ही दिनों में जंगल में आपके सिवाय और कोई भी नहीं बचेगा. हर रोज स्वयं आपके खाने के लिए एक जानवर भेज दिया करेंगे. चीता को लगा कि जानवरों की बात में सच्चाई है. उसने पलभर सोचा, फिर बोला अच्छी बात है.

Read More-लालच बुरी बला है कहानी

मैं तुम्हारे सुझाव को मान लेता हूं. लेकिन याद रखना, अगर किसी भी दिन तुमने मेरे खाने के लिये पूरा भोजन नहीं भेजा तो मैं जितने जानवर चाहूंगा, मार डालूंगा. जानवरों के पास तो और कोई चारा नहीं. इसलिये उन्होंने चीता की शर्त मान ली और अपने अपने घर चले गये. उस दिन से हर रोज चीता के खाने के लिये एक जानवर भेजा जाने लगा. इसके लिये जंगल में रहने वाले सब जानवरों में से एक एक जानवर, बारी बारी से चुना जाता था. कुछ दिन बाद खरगोशों की बारी भी आ गई. चीता के भोजन के लिये एक नन्हें से खरगोश को चुना गया.

Read More-बच्चों के ज्ञान की कहानी

वह खरगोश जितना छोटा था, उतना ही चतुर भी था. उसने सोचा, बेकार में चीता के हाथों मरना मूर्खता है. अपनी जान बचाने का कोई न कोई उपाय अवश्य करना चाहिये, और हो सके तो कोई ऐसी तरकीब ढूंढ़नी चाहिये जिसे सभी को इस मुसीबत से सदा के लिए छुटकारा मिल जाये. आखिर उसने एक तरकीब सोच ही निकाली. खरगोश धीरे धीरे आराम से चीता के घर की ओर चल पड़ा. जब वह चीता के पास पहुंचा तो बहुत देर हो चुकी थी.

Read More-शेखचिल्ली की दुकान

भूख के मारे चीता का बुरा हाल हो रहा था. जब उसने सिर्फ एक छोटे से खरगोश को अपनी ओर आते देखा तो गुस्से से बौखला उठा और गरजकर बोला, किसने तुम्हें भेजा है . एक तो पिद्दी जैसे हो, दूसरे इतनी देर से आ रहे हो. जिन बेवकूफों ने तुम्हें भेजा है मैं उन सबको ठीक करूंगा. एक एक का काम तमाम न किया तो मेरा नाम भी चीता नहीं. नन्हे खरगोश ने आदर से ज़मीन तक झुककर, अगर आप कृपा करके मेरी बात सुन लें तो मुझे या और जानवरों को दोष नहीं देंगे. वे तो जानते थे कि एक छोटा सा खरगोश आपके भोजन के लिए पूरा नहीं पड़ेगा, इसलिए उन्होंने 6 खरगोश भेजे थे.

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

लेकिन रास्ते में हमें एक और चीता मिल गया. उसने 5 खरगोशों को मारकर खा लिया. यह सुनते ही चीता दहाड़कर बोला, क्या कहा . दूसरा चीता . कौन है वह . तुमने उसे कहां देखा . वह तो बहुत ही बड़ा चीता है, खरगोश ने कहा, वह ज़मीन के अन्दर बनी एक बड़ी गुफा में से निकला था. वह तो मुझे ही मारने जा रहा था. पर मैंने उससे कहा, सरकार, आपको पता नहीं कि आपने क्या अन्धेर कर दिया है. हम सब अपने महाराज के भोजन के लिये जा रहे थे, लेकिन आपने उनका सारा खाना खा लिया है. हमारे महाराज ऐसी बातें सहन नहीं करेंगे. वे ज़रूर ही यहाँ आकर आपको मार डालेंगे.

Read More-नकल के लिए अक्ल जरूरी

इस पर उसने पूछा, कौन है तुम्हारा राजा . मैंने जवाब दिया, हमारा राजा जंगल का सबसे बड़ा चीता है. मेरे ऐसा कहते ही वह गुस्से से लाल पीला होकर बोला बेवकूफ इस जंगल का राजा सिर्फ मैं हूं. यहां सब जानवर मेरी प्रजा हैं. मैं उनके साथ जैसा चाहूं वैसा कर सकता हूं. जिस मूर्ख को तुम अपना राजा कहते हो उस चोर को मेरे सामने हाजिर करो. मैं उसे बताऊंगा कि असली राजा कौन है. महाराज इतना कहकर उस चीता ने आपको लिवाने के लिए मुझे यहां भेज दिया. खरगोश की बात सुनकर चीता को बड़ा गुस्सा आया और वह बार बार गरजने लगा.

Read More-चार सच्चे दोस्तों की कहानी

उसकी भयानक गरज से सारा जंगल दहलने लगा. मुझे फौरन उस मूर्ख का पता बताओ, चीता ने दहाड़कर कहा, जब तक मैं उसे जान से न मार दूँगा मुझे चैन नहीं मिलेगा. बहुत अच्छा महाराज, खरगोश ने कहा मौत ही उस दुष्ट की सज़ा है. अगर मैं और बड़ा और मज़बूत होता तो मैं खुद ही उसके टुकड़े टुकड़े कर देता. चलो, रास्ता दिखाओ, चीता ने कहा, फौरन बताओ किधर चलना है . इधर आइये महाराज, इधर, खरगोश रास्ता दिखाते हुआ चीता को एक कुएँ के पास ले गया और बोला, वह दुष्ट चीता ज़मीन के नीचे किले में रहता है. जरा सावधान रहियेगा. किले में छुपा दुश्मन खतरनाक होता है.

Read More-सेवा का भाव एक कहानी

मैं उससे निपट लूँगा, चीता ने कहा, तुम यह बताओ कि वह है कहाँ . पहले जब मैंने उसे देखा था तब तो वह यहीं बाहर खड़ा था. लगता है आपको आता देखकर वह किले में घुस गया. आइये मैं आपको दिखाता हूँ. खरगोश ने कुएं के नजदीक आकर चीता से अन्दर झांकने के लिये कहा. चीता ने कुएं के अन्दर झांका तो उसे कुएं के पानी में अपनी परछाईं दिखाई दी. परछाईं को देखकर चीता ज़ोर से दहाड़ा. कुएं के अन्दर से आती हुई अपने ही दहाड़ने की गूंज सुनकर उसने समझा कि दूसरा चीता भी दहाड़ रहा है. दुश्मन को तुरंत मार डालने के इरादे से वह फौरन कुएं में कूद पड़ा.

Read More-गिलहरी की अदभुत कहानी

कूदते ही पहले तो वह कुएं की दीवार से टकराया फिर धड़ाम से पानी में गिरा और डूबकर मर गया. इस तरह चतुराई से चीता से छुट्टी पाकर नन्हा खरगोश घर लौटा. उसने जंगल के जानवरों को चीता के मारे जाने की कहानी सुनाई. दुश्मन के मारे जाने की खबर से सारे जंगल में खुशी फैल गई. जंगल के सभी जानवर खरगोश की जय जयकार करने लगे. तो अपने देखा दोस्तों किस तरह से एक चतुर खरगोश ने एक खूंखार चीते को एक बहुत ही आसानी मौत दे दी. अगर इंसान चाहे तो कोई भी उसका कुछ भी गलत नहीं कर सकता है. बस मन मैं निडरता और आत्मविश्वास होना चाहिए.

Read More-स्वार्थ की हिंदी कहानी

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-नकल के लिए अक्ल जरूरी

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-राजा के खजाने की कहानी

Read More-जलपरियों की कहानी

Read More-सबसे गरीब कौन एक कहानी

Read More-जल परी की कहानी

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-भगत बत्तख की कहानी

Read More-मंद बुद्धि की कहानी

Read More-मोटू पतलू और चिराग

Read More-सोनू के हाथी की कहानी

Read More-गुरु और चेले की कहानी

Read More-राजा और सेवक की कहानी 

Read More-दरबारियों की परीक्षा

Read More-मोटू पतलू और नगर की सफाई

Read More-अकबर और बीरबल की कहानी

Read More-लालच बुरी बला है

Read More-बाघ और पंडित की कहानी

Read More-राजा का गुस्सा एक कहानी

Read More-बच्चों की कहानी

Read More-बोलने वाले पक्षी

Read More-अलादीन का जादुई चिराग

Read More-कौवे और मैना की बाल कहानियां

Read More-चालाक लोमड़ी और भालू की कहानी

Read More-खरगोश की कहानी 

Read More-बच्चों का पार्क

Read More-अकबर बीरबल और युद्ध

Read More-बड़े हाथी की कहानी

Read More-एक शिक्षाप्रद कहानी

Read More-शेर और खरगोश

Read More-मोटू पतलू और साधू बाबा

Read More-मोटू पतलू और फिल्म शूटिंग

Read More-मोटू पतलू और जादुई फूल

Read More-मोटू पतलू और जादुई टापू

Read More-मोटू पतलू और मिलावटी दूध

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-छोटा भीम और क्रिकेट मैच

Read More-मोटू-पतलू का सपना

Read More-चाचा चौधरी और साबू

Read More-पेटू पंडित हास्य कहानी

Read More-शेखचिल्ली की कुश्ती

Read More-शेखचिल्ली का मजाक

Read More-मोटू और पतलू का जहाज

Read More-अकल की दवाई

Read More-कौवे का पेड़

Read More-छोटू का पार्क कहानी 

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-राजा और लेखक

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Read More-मोटू और पतलू के समोसे

Read More-अमरूद किस का हिंदी कहानी

Read More-छोटा भीम और नगर में चोर

Read More-छोटा लड़का और डॉग

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!