जलपरियों की कहानी,Fish story for kids in hindi

Fish story for kids in hindi

जलपरियों की कहानी

hindi story.jpg

story for kids in hindi Fish

गंगा नदी के तट पर जलपरी नाम की कुछ मछलिया निवास किया करती थी. वो अपने अंडे वही पर देती थी. लेकिन एक दिन कुछ एक मछुवारो की नज़र उनपर पड़ गयी और फिर क्या हुआ देखते है आगे. उन सभी मछलियों का स्वाभाव बहुत ही अलग था. संकट आने के लक्षण मिलते ही संकट टालने का उपाय करने में विश्वास रखती थी. लता कहती थी कि संकट आने पर ही उससे बचने का यत्न करो.




प्रिया का सोचना था कि संकट को टालने या उससे बचने की बात बेकार हैं करने कराने से कुछ नहीं होता जो किस्मत में लिखा है, वह होकर रहेगा. एक दिन शाम को मछुआरे नदी में मछलियां पकडकर घर जा रहे थे. बहुत कम मछलियां उनके जालों में फंसी थी. अतः उनके चेहरे उदास थे. तभी उन्हें झाडियों के ऊपर मछली खोर पक्षियों का झुंड जाता दिकाई दिया. सबकी चोंच में मछलियां दबी थी. वे चौंके . एक ने अनुमान लगाया, लगता हैं झाडियों के पीछे नदी से जुडा जलाशय हैं, जहां इतनी सारी मछलियां पल रही हैं. मछुआरे पुलकित होकर झाडियों में से होकर जलाशय के तट पर आ निकले और ललचाई नजर से मछलियों को देखने लगे.




एक मछुआरा बोला अहा इस जलाशय में तो मछलियां भरी पडी हैं. आज तक हमें इसका पता ही नहीं लगा. यहां हमें ढेर सारी मछलियां मिलेंगी. दूसरा बोला. तीसरे ने कहा आज तो शाम घिरने वाली हैं. कल सुबह ही आकर यहां जाल डालेंगे. इस प्रकार मछुआरे दूसरे दिन का कार्यक्रम तय करके चले गए. तीनों मछ्लियों ने मछुआरे की बात सुन ला थी. स्नेहा मछली ने कहा साथियो तुमने मछुआरे की बात सुन ली. अब हमारा यहां रहना खतरे से खाली नहीं हैं. खतरे की सूचना हमें मिल गई हैं. समय रहते अपनी जान बचाने का उपाय करना चाहिए. मैं तो अभी ही इस जलाशय को छोडकर नहर के रास्ते नदी में जा रही हूं. उसके बाद मछुआरे सुबह आएं, जाल फेंके, मेरी बला से. लता मछली बोली तुम्हें जाना हैं तो जाओ, मैं तो नहीं आ रही. अभी खतरा आया कहां हैं, जो इतना घबराने की जरुरत हैं हो सकता है संकट आए ही न. उन मछुआरों का यहां आने का कार्यक्रम रद्द हो सकता है, हो सकता हैं रात को उनके जाल चूहे कुतर जाएं, हो सकता है.

Read More-बच्चों के ज्ञान की कहानी

Read More-शेखचिल्ली की दुकान

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

उनकी बस्ती में आग लग जाए. भूचाल आकर उनके गांव को नष्ट कर सकता हैं या रात को मूसलाधार वर्षा आ सकती हैं और बाढ में उनका गांव बह सकता हैं. इसलिए उनका आना निश्चित नहीं हैं. जब वह आएंगे, तब की तब सोचेंगे. हो सकता हैं मैं उनके जाल में ही न फंसूं. प्रिया ने अपनी भाग्यवादी बात कही भागने से कुछ नहीं होने का. मछुआरों को आना हैं तो वह आएंगे. हमें जाल में फंसना हैं तो हम फंसेंगे. किस्मत में मरना ही लिखा हैं तो क्या किया जा सकता हैं. इस प्रकार स्नेहा तो उसी समय वहां से चली गई. लता और प्रिया जलाशय में ही रही. भोर हुई तो मछुआरे अपने जाल को लेकर आए और लगे जलाशय में जाल फेंकने और मछलियां पकडने . लता ने संकट को आए देखा तो लगी जान बचाने के उपाय सोचने . उसका दिमाग तेजी से काम करने लगा. आस पास छिपने के लिए कोई खोखली जगह भी नहीं थी. तभी उसे याद आया कि उस जलाशय में काफी दिनों से एक मरे हुए ऊदबिलाव तैरती रही हैं. वह उसके बचाव के काम आ सकती हैं. जल्दी ही उसे वह मिल गई. 

Read More-नकल के लिए अक्ल जरूरी

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-राजा के खजाने की कहानी

लता ऊदबिलाव के पेट में घुस गई और अपने ऊपर लपेटकर बाहर निकली. कुछ ही देर में मछुआरे के जाल में लता फंस गई. मछुआरे ने अपना जाल खींचा और मछलियों को किनारे पर जाल से उलट दिया. बाकी मछलियां तो तडपने लगीं, परन्तु लता दम साधकर मरी हुई मछली की तरह पडी रही. मचुआरे को भभका लगा तो मछलियों को देखने लगा. उसने निश्चल पडी लता को उठाया और सूंघा आक यह तो कई दिनों की मरी मछली हैं. सड चुकी हैं. ऐसे बडबडाकर बुरा सा मुंह बनाकर उस मछुआरे ने लता को जलाशय में फेंक दिया. लता अपनी बुद्धि का प्रयोग कर संकट से बच निकलने में सफल हो गई थी.

Read More-सबसे गरीब कौन एक कहानी

Read More-जल परी की कहानी

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

पानी में गिरते ही उसने गोता लगाया और सुरक्षित गहराई में पहुंचकर जान की खैर मनाई. प्रिया भी दूसरे मछुआरे के जाल में फंस गई थी और एक टोकरे में डाल दी गई थी. भाग्य के भरोसे बैठी रहने वाली प्रिया ने उसी टोकरी में अन्य मछलियों की तरह तडप तडपकर प्राण त्याग दिए. सीखः भाग्य के भरोसे हाथ पर हाथ धरकर बैठे रहने वाले का विनाश निश्चित हैं. इसलिए ही तो जो लोग भाग्य के भरोसे बैठे रहते है. उनका विनाश होना निश्चित होता है.

Read More-भगत बत्तख की कहानी

Read More-मंद बुद्धि की कहानी

Read More-मोटू पतलू और चिराग

Read More-सोनू के हाथी की कहानी

Read More-गुरु और चेले की कहानी

Read More-राजा और सेवक की कहानी 

Read More-दरबारियों की परीक्षा

Read More-मोटू पतलू और नगर की सफाई

Read More-अकबर और बीरबल की कहानी

Read More-लालच बुरी बला है

Read More-बाघ और पंडित की कहानी

Read More-राजा का गुस्सा एक कहानी

Read More-बच्चों की कहानी

Read More-बोलने वाले पक्षी

Read More-अलादीन का जादुई चिराग

Read More-कौवे और मैना की बाल कहानियां

Read More-चालाक लोमड़ी और भालू की कहानी

Read More-खरगोश की कहानी 

Read More-बच्चों का पार्क

Read More-अकबर बीरबल और युद्ध

Read More-बड़े हाथी की कहानी

Read More-एक शिक्षाप्रद कहानी

Read More-शेर और खरगोश

Read More-मोटू पतलू और साधू बाबा

Read More-मोटू पतलू और फिल्म शूटिंग

Read More-मोटू पतलू और जादुई फूल

Read More-मोटू पतलू और जादुई टापू

Read More-मोटू पतलू और मिलावटी दूध

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-छोटा भीम और क्रिकेट मैच

Read More-मोटू-पतलू का सपना

Read More-चाचा चौधरी और साबू

Read More-पेटू पंडित हास्य कहानी

Read More-शेखचिल्ली की कुश्ती

Read More-शेखचिल्ली का मजाक

Read More-मोटू और पतलू का जहाज

Read More-अकल की दवाई

Read More-कौवे का पेड़

Read More-छोटू का पार्क कहानी 

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-राजा और लेखक

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Read More-मोटू और पतलू के समोसे

Read More-अमरूद किस का हिंदी कहानी

Read More-छोटा भीम और नगर में चोर

Read More-छोटा लड़का और डॉग

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!