ख़ुशी जीवन का रहस्य, psychology in hindi

psychology in hindi

ख़ुशी जीवन का रहस्य 

psychology in hindi, मनुष्य ही ऐसा प्राणी है जिसके पास बुद्धि है और सोचने की समझ है फिर भी मनुष्य ही दुखी क्यों है, क्या वो अपने दुखो दूर नहीं कर सकता,




अब एक सवाल माना की एक जानवर को प्यास लगती है तो वो पानी ढूढने जाता है और पानी उसे उस जंगल में मिल जाता है अगर उसे भूख लगती है तो वो खाना भी ढूंढ लेता है. इस प्रकार उनका जीवन चलता है,




अब हम देखते है की मनुष्य इस बात पर कहा तक सही है. हमारे जन्म के बाद हम सब कुछ सीखते है , अपने जीवन में पढ़ते है, जीवन चलाने के लिए नहीं अपना भविष्य सुधारने के लिए क्योकि ये सब तो हमारे भविष्य मैं ही काम आएगा, जब हमे नोकरी मिलती है तो उसका फल महीने के अंत में मिलता है.

यही से हमारी परेशानिया शुरू होती है,

ये परेशानी बढ़ते बढ़ते बहुत बढ़ जाती है, हम जितने मैं खुश हो सकते है हमे उससे ज्यादा ही चाहिए होता है. क्योकि हम सब एक तरह की रेस में लगे हुए है. आगे बढ़ने की, हम जितना आगे बढ़ रह है, उतना ही परेशानिया भी बढ़ रही है.

अब ये परेशानी है की, क्या किया जाये.

• सबसे पहले तो आप थोड़े में जीना सीखे और भविष्य की नहीं आज की चिंता करे .

• अपनी सेहत का ध्यान रखे और जितना फिट रह सकते हो रहिये ,

• आप स्वस्थ होंगे तो अच्छे फैसले ले पायंगे

• सादा जीवन व्यतीत करे क्योकि सादगी मैं ही सब राज छिपे है.

• हमे भविष्य की साडी परेशानी आज में नहीं लेनी चाहिए उससे दूर रहे.

• अगर हमारा आज अच्छा है तो कल बेहतर होगा.

• रोज सुबह मॉर्निंग वाक पर जरूर जाये

psychology in hindi, पोस्ट अच्छी लगे तो शेयर जरूर करे.

अन्य कहानी भी पढ़े 

भूत कहा रहते है जानिये

हमारे रिश्ते

एक लड़की  की कहानी

एक आदमी

एक निठला व्यक्ति 

एक साधु

सच्चा भक्त

रेल  का डिब्बा

बीरबल की कहानी

एक किसान 

Leave a Reply

error: Content is protected !!