तेनालीराम की कहानी, tenaliram ki kahani

 Tenaliram ki kahani

तेनालीराम की कहानी, tenaliram ki kahani, ये कहानी है एक महान विद्वान की. एक बार राजा मूलचंद राव के दरबार में एक महान विद्वान आया. उसने वहां दरबार में उपस्थित सभी विद्वानों को चुनौती दी कि पूरे विश्व में उसके समान कोई बुद्धिमान व विद्वान नहीं है.

तेनालीराम की कहानी : tenaliram ki kahani

hindi story.jpg
tenaliram ki kahani

उसने दरबार में उपस्थित सभी दरबारियों से कहा कि यदि उनमें से कोई चाहे तो उसके साथ किसी भी विषय पर वाद विवाद कर सकता है, परंतु कोई भी दरबारी उससे वाद विवाद करने का साहस न कर सका. अंत में सभी दरबारी सहायता के लिए तेनालीराम के पास गए. तेनालीराम ने उन्हें सहायता का आश्वासन दिया और दरबार में जाकर तेनालीराम ने विद्वान की चुनौती स्वीकार कर ली. दोनों के बीच वाद विवाद का दिन भी निश्चित कर दिया गया. निश्चित दिन तेनालीराम एक विद्वान पंडित के रूप में दरबार पंहुचा.

 

उसने अपने एक हाथ में एक बड़ा सा गट्ठर ले रखा था, जो देखने में भारी पुस्तकों के गट्ठर के समान लग रहा था. शीघ्र ही वह महान विद्वान भी दरबार में आकर तेनालीराम के सामने बैठ गया. तेनालीराम ने राजा को सिर झुकाकर प्रणाम किया और गट्ठर को अपने और विद्वान के बीच में रख दिया, तत्पश्चात दोनों वाद विवाद के लिए बैठ गए. राजा जानते थे कि पंडित का रूप धरे तेनालीराम के मस्तिष्क में अवश्य ही कोई योजना चल रही होगी.

Read More-शेखचिल्ली की दुकान

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

अब राजा ने वाद विवाद आरंभ करने का आदेश दिया. पंडित के रूप में तेनालीराम पहले अपने स्थान पर खड़ा होकर बोला, विद्वान महाशय. मैंने आपके विषय मैं बहुत कुछ सुना है. आप जैसे महान विद्वान के लिए मैं एक महान तथा महत्वपूर्ण पुस्तक लाया हूं जिस पर हम लोग वाद विवाद करेंगे. विद्वान हैरान हो गया. अपने पूरे जीवन में उसने इस नाम की कोई पुस्तक न तो सुनी थी न ही पढ़ी थी.

Read More-आसमान की कहानी

Read More-दो तोते की कहानी

वह घबरा गया कि बिना पढ़ी व सुनी हुई पुस्तक के विषय में वह कैसे वाद विवाद करेगा. फिर भी वह बोला, अरे, यह तो बहुत ही उच्च कोटि की पुस्तक है. इस पर वाद विवाद करने में बहुत ही आनंद आएगा, परंतु आज यह वाद विवाद रहने दिया जाए. मेरा मन भी कुछ उद्विग्न है और इसके कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों को मैं भूल भी गया हूं. कल प्रातः स्वस्थ व स्वच्छ मस्तिष्क के साथ हम वाद विवाद करेंगे.

Read More-नकल के लिए अक्ल जरूरी

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

तेनालीराम के अनुसार वह विद्वान तो आज के वाद विवाद के लिए पिछले कई दिनों से प्रतीक्षा कर रहा था, परंतु अतिथि की इच्छा का ध्यान रखना तेनालीराम का कर्तव्य था इसलिए वह सरलता से मान गया. परंतु वाद विवाद में हारने के भय से वह विद्वान नगर छोड़कर भाग गया. अगले दिन प्रातः जब विद्वान शाही दरबार में उपस्थित नहीं हुआ तो तेनालीराम बोला, महाराज, वह विद्वान अब नहीं आएगा.

Read More-राजा के खजाने की कहानी

Read More-सबसे गरीब कौन एक कहानी

वाद विवाद में हार जाने के भय से लगता है, वह नगर छोड़कर चला गया है. तेनालीराम, वाद विवाद के लिए लाई गई उस अनोखी पुस्तक के विषय में कुछ बताओ जिससे कि डरकर वह विद्वान भाग गया. राजा ने पूछा. महाराज, वास्तव में ऐसी कोई भी पुस्तक नहीं है. मैंने ही उसका यह नाम रखा था. मेरे हाथ में वह गट्ठर वास्तव में शीशम की सूखी लकड़ियों का था, जो कि भैंस को बांधने वाली रस्सी से बंधी थीं. उसे मैंने मलमल के कपड़े में इस तरह लपेट दिया था ताकि वह देखने में पुस्तक जैसी लगे. तेनालीराम की बुद्धिमता देखकर राजा व दरबारी अपनी हंसी नहीं रोक पाए.

 

राजा ने प्रसन्न होकर तेनालीराम को ढेर सारा पुरस्कार दिया. इस तरह से फिर से तेनालीराम ने राजा को बेइज्जत होने से बचा लिया और साथ ही  तेनालीराम को बहुत सारी शाबाशी भी मिली. तेनालीराम की कहानी, tenaliram ki kahani, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो आगे भी शेयर कर सकते है और आप हमे भी बता सकते है, 

Read More Tenaliram ki kahani :-

Read More-तेनालीराम और सैनिक की कहानी

Read More-तेनाली रमन और राजगुरु की कहानी

Read More-तेनाली रमन और झरने का राज कहानी 

Read More-तेनालीराम और गांव की समस्या कहानी

Read More Akbar birbal ki kahani :-

Akbar birbal ki kahani :- बीरबल की समझ नयी कहानी

Akbar birbal ki kahani :- बीरबल की कहानी

Akbar birbal ki kahani :- अकबर के कौन नजदीक है कहानी

Akbar birbal ki kahani :- अकबर बीरबल की मजेदार नयी कहानियां

Akbar birbal ki kahani :- बीरबल ने बचाया अकबर को नयी कहानी

Akbar birbal ki kahani :- अकबर-बीरबल और मुखिया की कहानी

Akbar birbal ki kahani :- बीरबल और नगर की कहानी

Akbar birbal ki kahani :- बीरबल और सैनिक की कहानी

Akbar birbal ki kahani :- पोटली किसकी है बीरबल की कहानी

Read More Hindi Kids Story :-

Read More-राजा और सेवक की कहानी 

Read More-दरबारियों की परीक्षा

Read More-मोटू पतलू और चिराग

Read More-सोनू के हाथी की कहानी

Read More-मोटू पतलू और नगर की सफाई

Read More-अकबर और बीरबल की कहानी

Read More-लालच बुरी बला है

Read More-बाघ और पंडित की कहानी

Read More-राजा का गुस्सा एक कहानी

Read More-बच्चों की कहानी

Read More-बोलने वाले पक्षी

Read More-अलादीन का जादुई चिराग

Read More-कौवे और मैना की बाल कहानियां

Read More-चालाक लोमड़ी और भालू की कहानी

Read More-खरगोश की कहानी 

Read More-बच्चों का पार्क

Read More-अकबर बीरबल और युद्ध

Read More-बड़े हाथी की कहानी

Read More-एक शिक्षाप्रद कहानी

Read More-शेर और खरगोश

Read More-मोटू पतलू और साधू बाबा

Read More-मोटू पतलू और फिल्म शूटिंग

Read More-मोटू पतलू और जादुई फूल

Read More-मोटू पतलू और जादुई टापू

Read More-मोटू पतलू और मिलावटी दूध

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-छोटा भीम और क्रिकेट मैच

Read More-मोटू-पतलू का सपना

Read More-चाचा चौधरी और साबू

Read More-पेटू पंडित हास्य कहानी

Read More-शेखचिल्ली की कुश्ती

Read More-शेखचिल्ली का मजाक

Read More-मोटू और पतलू का जहाज

Read More-अकल की दवाई

Read More-कौवे का पेड़

Read More-छोटू का पार्क कहानी 

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-राजा और लेखक

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Read More-मोटू और पतलू के समोसे

Read More-अमरूद किस का हिंदी कहानी

Read More-छोटा भीम और नगर में चोर

Read More-छोटा लड़का और डॉग

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!