अकबर-बीरबल और मुखिया की कहानी, akbar birbal story in hindi

Akbar birbal story in hindi

अकबर-बीरबल और मुखिया की कहानी, akbar birbal story in hindi, इस कहानी में बीरबल अपनी सूझ-भूज से काम लेता है, और अकबर को बचा लेता है, अगर वह ऐसा न करता तो वह मुसीबत में पड़ जाता, यह कहानी आपको पसंद आएगी,  

अकबर-बीरबल और मुखिया की कहानी : Akbar birbal story in hindi

birbal story.jpg
akbar birbal story in hindi

Akbar birbal story in hindi, एक बार Akbar and birbal घूमते हुए काफी दूर निकल आए थे, वह अपने राज्य से बहुत ज्यादा दूर थे, उनके साथ कोई भी सैनिक नहीं था, तभी birbal ने कहा कि महाराज हम बहुत ज्यादा दूर आ गए हैं और हमें यह समझ में नहीं आ रहा है, कि यह सीमा कहां से कहां तक फैली हुए हैं Akbar ने कहा कि हमें कुछ दूरी पर कुछ लोग दिखाई दे रहे हैं हमें उनके पास चलना चाहिए और आज रात को वहीं पर रहना चाहिए उसके बाद ही हम आगे बढ़ेंगे क्योंकि वह ज्यादा समय बीत चुका है अब हम अपने महल पर वापस नहीं लौट सकते, “akbar birbal story in hindi”

अकबर-बीरबल और मुखिया की कहानी

उसके बाद Akbar and birbal उन लोगों की तरफ बढ़ने लगे जो दूर से दिखाई दे रहे थे तभी उन्होंने रुक कर कहा कि लगता है यह कोई गांव है अकबर ने कहा कि ठीक है हम इस गांव के मुखिया के बारे में जरूर जानना चाहेंगे इसलिए हमें आगे की ओर बढ़ते रहना चाहिए बीरबल ने कहा कि मेरा घोड़ा ज्यादा दूर तक नहीं चल पा रहा है इसलिए आप आगे चलिए मैं अपने घोड़े को थोड़ा सा पानी पिला कर ले कर आता हूं आप चलते रहिए मैं आपके पीछे-पीछे आ जाऊंगा अकबर ने कहा कि ठीक है मैं उस गांव में चलता हूं तुम मुझे वहीं पर मिलना है, “akbar birbal story in hindi”

कबीले के पास की गुफा हिंदी कहानी

इस प्रकार राजा Akbar आगे की ओर बढ़ते रहे और birbal वहीं पर रुक गए जब अकबर गांव में पहुंचे तो सभी लोग अकबर को देखने लगे क्योंकि वह अकबर से कभी भी नहीं मिले थे जब अकबर उस गांव में पहुंचे तो पूछने लगे कि तुम्हारा मुखिया कहां पर है मुझे उनसे मिलना है तभी गांव वाले कहने लगे कि आप कौन हम आपको नहीं जानते हैं और आप यहां पर क्या कर रहे हैं आप हमारे मुखिया के बारे में क्यों पूछ रहे हैं उसके बाद मुखिया आया और कहने लगा कि आप कौन हैं मैं आपको नहीं जानता आप यहां पर क्या कर रहे हैं, “akbar birbal story in hindi”

दो शेर की नयी कहानी

तभी Akbar ने कहा कि हम बहुत दूर निकल आए हैं और इसी वजह से रास्ता भटक गए हैं इसलिए हमें आज रात को आपके यहां पर रुकने आज्ञा दे दीजिए मुखिया ने कहा कि हम आपको नहीं जानते इसलिए हम आपको यहां पर नहीं ठहरा सकते हैं हमें लगता है कि आप कोई जासूसी कर रहे हैं तभी राजा ने कहा कि मैं Akbar राजा हूं तभी मुखिया कहने लगा कि हमें तो लगता है यह जासूस है इसे पकड़ लेना चाहिए यह हमारे गांव की जासूसी करने आया है उस राजा को पकड़ लिया गया राजा को बंदी बनाकर रखा गया और उसके बाद Birbal भी धीरे-धीरे उसी गांव की ओर बढ़ रहे थे Birbal ने देखा कि काफी लोग इधर उधर भाग रहे हैं बीरबल की समझ में आ गया था कि राजा को शायद बंदी बना लिया गया है और इसी प्रकार वह सभी लोग बहुत ही चिंतित दिखाई दे रहे हैं और मुझे अपनी सूझबूझ से काम लेना होगा नहीं तो यह मुझे भी बंदी बना लेंगे, “akbar birbal story in hindi”

बीरबल की समस्या भी दूर हुई कहानी

उसके बाद Birbal ने गांव वालों का ही वेशभूषा बनाकर गांव की तरफ बढ़ने लगे क्योंकि इस प्रकार वह गांव वालों जैसे दिख रहे थे जब बीरबल गांव में पहुंचे तो एक आदमी से पूछने लगे कि यहां पर क्या हुआ था तब वह कहने लगा कि यहां पर कोई जासूस आया है जो हमारे गांव की जासूसी कर रहा है मुखिया ने उसे पकड़ लिया है और बंदी बना दिया है उसके बाद मुखिया उस आदमी से बात कर रहे हैं कि जासूसी करने के लिए यहां पर क्यों आया है उसके बाद Birbal ने सोचा कि अगर मैं भी यह बात कहता हूं तो यह मुझे पकड़ लेंगे और बंदी बना लेंगे इस प्रकार राजा बीरबल वहां से वापस चले गए और अपने सेनापति के साथ अगले दिन में उस गांव की ओर पधारे, “akbar birbal story in hindi”

आठ सबसे अच्छी कहानी

कुछ सैनिकों को गांव में लेकर आए तो गांव वाले घबरा गए और कहने लगे कि हमसे क्या गलती हो गई है जो कि यहां पर सेना को लेकर आए हैं तभी Birbal कहने लगे कि आपने जिन्हें बंदी बनाया है वह Akbar राजा हैं जब मुखिया को यह बात पता चली तो वह अपनी गलती पर पछता रहे थे और उन्हें छोड़ दिया गया मुखिया ने अकबर से माफी मांगी और कहने लगे कि हमें माफ कर दीजिए हमसे गलती हो गई हम नहीं पहचान पाए कि आप हमारे राजा हैं अकबर ने कहा कि तुम्हें इस बात के लिए सजा मिलेगी तुम्हें यह सोचना चाहिए कि जब मैं राजा के बारे में बात कर रहा हूं तो तुम्हें समझ जाना चाहिए था कि मैं ही उस राज्य का राजा हूं, “akbar birbal story in hindi”

बीरबल और नगर की कहानी

but तुमने मेरी कोई बात नहीं सुनी इसलिए तुम्हें सजा दी जाएगी उसके बाद Birbal वहां पर पहुंच गए और कहने लगे महाराज जी हमें इन्हें सजा नहीं देनी चाहिए इनसे गलती हो गई है यह आपको पहचान नहीं पा रहे थे इसी वजह से आप को बंदी बना लिया गया Akbar ने कहा कि जब मैंने बहुत बार कहा कि मैं राजा हूं तभी यह सुनने को तैयार नहीं थे बीरबल ने कहा कि यह आप को नहीं पहचानते इसी वजह से ऐसा हुआ है बीरबल की बात सुनकर अकबर कहने लगे ठीक है मैं तुम्हारे कहने पर ही नहीं छोड़ देता हूं, “akbar birbal story in hindi”

राजकुमारी का विवाह किड्स कहानी

उसके बाद Birbal और Akbar राजा वहां से वापस अपने महल की ओर चले गए बीरबल ने अपनी चालाकी से राजा को बचा लिया और मुखिया को भी सजा होने से उन्होंने बचा लिया तो उन्होंने अपनी सूझबूझ के परिणाम से यह सब कुछ किया था, अगर हम अपनी सूझभूज का सही प्रयोग समय आने पर करते है, तो इससे सभी को फायदा होता है, इसलिए आपको भी ऐसा ही करना चाहिए, जिससे आप अपनी समझ का सही प्रयोग कर पाए, और आप से कभी भी गलती न होने पाए, यह कहानी हमे यही बताते है की आप अपनी सूझ-भुज कर प्रयोग समय आने पर जरूर करे,

Tag- akbar birbal story in hindi, akbar birbal story in hindi, akbar birbal story in hindi, akbar birbal story in hindi, akbar birbal story in hindi, akbar birbal story in hindi,

अकबर-बीरबल और मुखिया की कहानी, (akbar birbal story in hindi), अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो आप इसे शेयर जरूर करे और कमेंट करके हमे भी बताये, 

Read More Hindi Story :-

अकबर और जंगली शेर की कहानी

बीरबल की खिचड़ी की नयी कहानी

बीरबल ने बचाया अकबर को नयी कहानी

बीरबल और दुकान की कहानी

बीरबल और गरीब आदमी की कहानी

राजकुमारी और तितली की कहानी

राजकुमारी और जादूगर बुढ़िया की कहानी

धन का पेड़ बहुत छोटा है किड्स कहानी

जादुई नाव की कहानी

अकबर और बीरबल की साथ नयी कहानी 

दादी माँ की कहानी

जामुन की तलाश बच्चों की कहानी

खाने की समस्या बच्चों की कहानी

अकबर बीरबल की मजेदार नयी कहानियां

नानी की पुरानी कहानी

साथ देना जरुरी एक कहानी

भाषाओं का ज्ञान कहानी

अनोखी भाषा की हिंदी कहानी

Read More hindi kahani :-

तेनाली रमन के डर की कहानी

तेनाली रमन और राजा की सैर कहानी

तेनाली रमन और राजगुरु की कहानी

तेनालीरमन की दावत कहानी

तेनाली रमन पर हमला कहानी

तेनाली ने सिखाया सबक कहानी

तेनालीराम और सोने की गुफा

1 thought on “अकबर-बीरबल और मुखिया की कहानी, akbar birbal story in hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!