पुराने दिन हिंदी कहानी, hindi stories

hindi stories

पुराने दिन हिंदी कहानी

hindi stories.jpg
hindi stories

hindi stories, यह बात 1997 की है तभी अचानक दरवाजे की घंटी बजी और दरवाजे को खोलने में कुछ वक़्त लग गया और जब दरवाजा खोला तो सामने हमारे जाने पहचाने दोस्त खड़े हुए थे उन्हें देखकर तो बहुत ज्यादा यादे ताजी हो गयी क्योकि हम और वो दोनों साथ पढ़े हुए थे

 

बच्पन्न की दिन किसी ये याद नहीं रहते ये तो वो दिन थे जो हर कोई याद करके खुश हो जाता है पहले तो एक पूरा मिनट तो उसे देखने में ही लग गया हरे भाई बहुत साल बाद आये थे अब सुनाओ क्या हाल है इतने साल बाद यहां आना हुआ तुम तो हमे भूल ही गए अब क्या चल रहा है

हम दोनों की वार्ता चल रही थी तभी हमारी गरमा गर्म चाय भी आ गयी अब मौसम भी ठंडा है नवंबर का महीना और ठण्ड तो है ही, लीजिये चाय पीजिये हम दोनों चाय पीने लग गए उन दिनों मनोरजन का कुछ जायद साधन भी नहीं था

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-चमत्कारी तेल

आजकल की तरह मोबाइल भी कहा थे जिसके सहारे टाइम पास हो जाता अब तो बहुत कुछ बदल गया है अब लोगो की पास समय नहीं है काम का बोझ ज्यादा है किसी के पास किसी से मिलने का समय नहीं है अब जमाना बहुत बदल गया है पहले लोग कुछ समय निकाल कर मिलने जाते थे अब समय ही नहीं है तो निकले भी तो क्या, खेर आगे हमारी बाते शुरू हुई

Read More-जीवन का सच

Read More-मन की आवाज

पुराने यादे फिर से ताजा हो गयी पुराने दिन याद दिला दिए उसने और अब दोहपहार का समय हो गया था खाने की भी तैयारी हो चुकी थी साथ में खाना खाया और बहुत सारी बाते की, बाते करते हुए समय बीत गया और शाम कब हो गयी पता नहीं चला 

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-विश्वास की कहानी

अब क्या चल रहा है जीवन में हमने पूछा तो उसने बताय की अभी लड़का दसवीं कक्षा में है और छोटी बेटी अभी सातवीं में पढ़ रही है और बस वो ही चल रहा है जो हर घर की कहानी है हर रोज सुबह काम पर जाओ और शाम को वापिस आ जाओ.

Read More-राजा की मनमानी

Read More-भोला का गांव हिंदी कहानी

आज बहुत दिन बाद सोचा की फुर्सत है तो तुमसे मिला जाए नहीं तो जवानी से बुढ़ापा कैसे आ जाएगा पता नहीं चलेगा हमने भी कहा की सच है यही सब उलझन में आदमी फंस जाता है और वक़्त का तो पता ही नहीं होता की कब चला जाए

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

आज अगर हम रिश्तो की बात करे तो सिर्फ नाम के ही रह गए है अब वो मिठास नहीं है जो पहले हुआ करती थी पहले हर त्योहार पर मिलने आते थे अब पता ही नहीं चलता की सब कहा गए क्योकि अब कोई नहीं आता है पहले सब एक साथ रहते थे अब छोटी फॅमिली में ही सब खुश रहना चाहते है

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

क्योकि अब कोई साथ रहना ही नहीं चाहता अगर ऐसे ही चलता रहा तो एक दिन वो भी आएगा जब लोग पगले बच्पन्न में और फिर बुढ़ापे में मिलेंगे पता नहीं चलेगा की वक़्त कैसे बीत जाएगा मेरा तो यही मानना है की सबको एक साथ रहना चाहिए क्यों आपको नहीं लगता है की ऐसा होना चाहिए आप हमे जरूर बातये

Read More-सच्चा भक्त

Read More-तलाक का एक किस्सा

hindi stories, शाम होते ही हमारे दोस्त ने चलने की इच्छा जाहिर की और कहा की आते रहना और वह अपने घर की और चल पड़े आज यह कहानी हम लिख रहे है जानते है की आज इस बात को काफी साल बीत गए है इस बात से हमे यही सीख मिली है की हमे साथ रहना चाहिए अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो आगे भी सहारे करे और हमे भी बताये  

हिंदी कहानी:-पुराने दिन 

लेखक:- संजीत कुमार 

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!