दिमाग की उपज एक कहानी, bhuto ki kahani

bhuto ki kahani

दिमाग की उपज एक कहानी

bhoot.jpg
bhoot ki kahani

bhuto ki kahani, मेरा नाम योगेश है और मैं राजस्थान का रहने वाला हु और बीए क्लास का स्टूडेंट हु. मुझे हॉरर मूवी देखना बहुत ही अच्छा लगता है. जब भी मुझे मौका मिलता है में हॉरर या भूतिया मूवी देखने लग जाता हु. मैं सारी हॉरर मूवी रात के समय ही देखता हु. एक दिन की बात है

 

जब मैं कॉलेज से वापिस घर आया तो मेरे परिवार के सभी लोग घर से बहार घूमने जाने के लिए तैयार थे. बस मैं ही नहीं जा सकता था क्युकि मेरे कॉलेज के एग्जाम स्टार्ट होने वाले थे. लेकिन उनके घर से बहार जाने की बात सुनकर मैं बहुत ही खुश हो गया था , क्युकि अब मुझे मौका मिलने वाला था की मैं रात भर मूवी देख सकता हु.

 

मुझे अच्छे से याद है की जब वो सब लोग चले गए तो उस रात बहुत ही ठंडी हवा चल रही थी क्युकि वो नवंबर का महीना था. हलकी सी रात को बारिश भी स्टार्ट हो गयी थी. और मैंने हॉरर मूवी स्टार्ट कर दी थी. मूवी का नाम था “हवेली का शैतान”. रात के लगभग 11 बज गए थे जब मैंने मूवी देखना शुरू किया.

Read More-भूतिया होटल की दास्ताँ

मैंने कमरे मैं अँधेरा कर लिया था और मूवी स्टार्ट कर दी थी. मूवी बहुत ही अच्छी थी ऐसा मेरे दोस्तों ने मुझे बताया था. मूवी मैं दिखाया जा रहा था की किस तरहे से हवेली का भूत सभी लोगो को मरता है और उनका खून पी जाता है.

Read More-पत्नी की आत्मा एक कहानी 

मुझे बहुत डर लग रहा था. लेकिन मैं फिर भी मूवी देखने मैं लगा हुआ था. क्युकि मुझे भूत की मूवी देखना अच्छा लगता है. मूवी ख़तम होते होते रात के 2 बज चुके थे. मैं अब सोने की तैयारी ही कर रहा था की मुझे कुछ आवाज सुनाई दी मुझे ऐसा लगा की शायद कोई घर मैं घुम्म रहा है.

Read More-भूतो का गांव

अचानक से लाइट जा चुकी थी. घर का इन्वर्टर भी काम नहीं कर रहा था. तो मैंने मोमबत्ती ही जला ली लेकिन उससे भी कुछ खास रौशनी नहीं हो पा रही थी और बाहर बारिश अपने जोरो पर थी और साथ ही बिजली भी कड़क रही थी.

Read More-चलती गुड़िया

खिड़की दरवाजे ऐसे आवाज कर रहे थे की मानो उन्हें कोई ज़ोर ज़ोर से मार रहा हो. मैंने खिड़की बंद करने के लिए गया तो मुझे कमरे की दिवार पर एक साया सा नज़र आया, मैं पीछे मुदा तो देखा की कुछ भी नहीं था. एक दम से खिड़की के धदमममम की आवाज़ आयी मैं डर गया .

Read More-वो आदमी एक भूत था

फिर मैंने खिड़की बंद की और रूम के सोफे पर जाकर बेथ गया. घर के बाहर लगे पेड़ के पत्तो की आवाज़ भी मुझे आज डरा रही थी. ऐसा लग रहा था की कोई अंदर आ जायेगा और मुझे मार डालेगा.

Read More-एक साया जब दिखा

मुझे बहुत तेज़ प्यास लग रही थी लेकिन मेरी बिलकुल भी हिम्मत नहीं हो रही थी की मैं किचिन तक जाओ और पानी पी स्कू. मैंने वही पर बैठा सुबह होने का इंतज़ार कर रहा था. की तभी मुझे किचिन से गिलास गिरने की आवाज़ सुनाई दी , मैं किचिन की और चला ही की मुझे फिर से दिवार पर एक साया नज़र आया तो मैं एक दम से किचिन की और भगा.

Read More-एक हवैली

bhuto ki kahani, देखता क्या हु की एक बिल्ली किचिन मैं थी , जिससे ग्लास गिरा था. तब मेरी साँस मैं साँस आयी और मैंने तभी पानी पी लिया. तब मैंने अपने ठन्डे दिमाग से सोचा की ये सब एक वेहम है जो की मेरी भोटिया मूवी देखने से उत्पन्न हुआ है. ऐसा कुछ नहीं होता है की भूत आ जाए. तब मैं रात भर आराम से सोया और सुबह मैं तरोताज़ा होक उठा और अपने कॉलेज चले गया.

Read More-दहशत की एक रात कहानी

Read More-भूतिया जंगल

Read More-आसमान से गिरती है अजीब वस्तुए

Read More-रहस्मयी मंदिर जहाँ आज भी

Read More-जब उस चुड़ैल ने देखा

Read More-किले का रहस्य

Read More-पेड़ का भूत एक कहानी

Read More-हवेली का प्रेत

Read More-कमरा नंबर 201 की कहानी

Read More-कमरा नंबर 303

Read More-एक भटकती आत्मा

Read More-काला जादू की सच्ची कहानी

Read More-एक दानव कुत्ते की कहानी

Read More-वो सुनसान रास्ता

Read More-एक पुराना किला

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!