राक्षस का हिस्सा, story of champak in hindi

story of champak in hindi

story.jpg

story of champak in hindi

राक्षस का हिस्सा

story of champak in hindi, all stories in hindi, एक बार एक गांव में एक किसान रहता था उसके पास एक छोटा सा खेत था जिसमें वह फसल उगाकर अपना और अपने घर का खर्चा चलाता था एक दिन किसान अपने खेत में काम कर रहा था तभी एक राक्षस उसके पास आया.



 

उसने अपने मन से बात बनाकर किसान से कहा यह खेत मेरे दादा का है तुम जो भी इस खेत में जो भी उगेगा उसका आधा हिस्सा मुझे दोगे मैं कल फिर देखने के लिए आऊंगा कि तुम इसमें क्या उगाओगे




बेचारा किसान राक्षस की बातों में आ गया और उसको उस से डर लगने लगा जिस के मारे उसके मुंह से एक शब्द भी नहीं निकला और वह चुपचाप खड़ा रहा उस रात किसान सो भी नहीं पाया पूरी रात यही सोचता रहा कि कैसे इस परेशानी से छुटकारा मिले

Read More-बाबा की सीख

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

 उसके दिमाग में एक उपाय आया वह सुबह जल्दी उठा और खेत जाने के लिए तैयार हो गया किसान खेत में पहुंचकर राक्षस का इंतजार करने लगा राक्षस आया और बोला इस फसल का आधा हिस्सा मेरा होगा किसान ने कहा ठीक है

Read More-बाबा की सीख

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

किसान ने कहा राक्षस भाई जमीन के नीचे की फसल मेरी और ऊपर की सारी तुम ले लेना राक्षस मान गया और चला गया इस बार किसान ने अपने खेत में आलू हुआ जब राशस आया तो आलू की पत्ती और पौधे ही उसे मिले क्योंकि आलू जमीन के नीचे होते हैं

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-साधू की पद यात्रा

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी 

राक्षस को गुस्सा आ गया वह बोला इस बार में जमीन के नीचे की फसल लूंगा और तुम ऊपर के लेना किसान ने कहा ठीक है इस बार किसान ने अपने खेत में मक्के की फसल बोई राक्षस आया उसने किसान से कहा मेरा हिस्सा दो.

Read More-ज्ञान का भंडार

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-राजा और लेखक

story of champak in hindi, all stories in hindi, किसान ने कहा है जमीन के अंदर का तुम्हारा और ऊपर कि मेरी राक्षस उस किसान की चालाकी समझ गया वह कहने लगा यह मेरी बातों में नहीं आएगा वह वहां से चला गया और किसान एक घमंडी और चालाक रक्षक से बच गया.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!