Dost giraffe kids hindi story

giraffe kids hindi story

hindi story.jpg

giraffe kids hindi story

Dost

giraffe kids hindi story, बहुत समय पहले जिराफ भी और जानवरों की तरह छोटी गर्दन और छोटे पैरों वाला जानवर था उस समय जंगल में अकाल और सूखा पड़ा था कहीं पर भी पानी और हरी भरी घास नहीं थी




एक  दिन  जिराफ अपने दोस्त गैंडे के साथ जंगल में घूम रहा था तो उसकी नजर ऊंचे पेड़ों पर पड़ी उसने कहा देखो हम जानवर की इस सूखी घास को खा खाकर कितने परेशान हो गए हैं और उनके ऊपर हरी हरी पत्तियां है अगर हमारी गर्दन लंबी होती और टांगे लंबी होती तो हम उन्हें खा सकते थे




बाकी जानवरों के लिए भी तोड़ सकते गेंडे ने ऊपर देखा और कहा हां यह बात तो तुम्हारी सही है चलो इसी जंगल में एक जादूगर रहता है उसके पास चलते हैं उसे अपनी समस्या बताते हैं जादूगर की झोपड़ी में चले गए जादूगर उन दोनों की बातों को सुनकर जोर से हंसा और बोला यह तो मेरे लिए बहुत आसान काम है

 

मैं तुम्हारी गर्दन और पैरों को लंबा कर सकता हूं अपनी जड़ी-बूटी तुम्हें खिला कर तुम कल दोपहर को मेरे पास आना अगले दिन दोपहर को जिराफ जादूगर के पास पहुंच गया उसे देखकर जादूगर ने कहा तुम्हारा दोस्त गैंडा नहीं आया उसने कहा उसे कुछ हरी हरी पत्तियां मिल गई थी

 

जिन्हें खाकर वह थोड़ी देर लेट गया और सो गया इसलिए नहीं आ सका मैंने उसको बहुत उठाया पर वह नहीं उठा  जादूगर ने कहा कोई बात नहीं जादू करने पर आपको कुछ जड़ी बूटियां पेस्ट कर खिला दे और आंख बंद करके थोड़ी देर बैठने के लिए कहा

 

थोड़ी देर बाद जब जिराफ अपनी आंखें खोली तो उसे ऐसा लगा मानो वह आसमान में पहुंच गया और ऊपर उड़ रहा हो क्योंकि उसकी गर्दन लंबी हो चुकी थी और टांगे भी लंबी हो चुकी थी कुछ देर में गैंडा वहां पहुंच गया उसने जादूगर से पूछा मेरा दोस्त कहां है

 

giraffe kids hindi story, जादूगर ने कहा अब वह तुम्हारा पहले वाला दोस्त नया बन गया है वह देखो उसे देखकर गेंडे ने कहा अगर मैं इतना ना खाया होता और ना सोया होता तो आज मैं भी जिराफ की तरह लंबा होता और जिराफ की तरह हरी हरी पत्तियां रोज खा सकता इसीलिए कहते हैं कि हमें अपना सारा काम सही समय पर करना चाहिए नहीं तो हम औरों से बहुत पीछे रह जाएंगे.

Related Posts:-

Read More-बाबा की सीख

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!