वो सुनसान रास्ता,real ghost stories in hindi

real ghost stories in hindi

वो सुनसान रास्ता

real bhoot.jpg

real ghost stories in hindi

real ghost stories in hindi, यह बात सन 2007 की है जब रामनरेश अपने ऑफिस जाया करते थे उनको इस बात का पता बहुत बाद में लगा. पहले तो उन्होंने कभी ध्यान नहीं दिया लेकिन जब उन्हें कुछ महसूस हुआ तभी उन्हें यकीन हुआ की यह पर कोई न कोई है जो कभी नुक्सान तो नहीं करता पर दर जरूर लगता है





रामनरेश एक कंपनी में काम करते है और अपने ऑफीस समय पर आते और जाते है ऑफिस में जाने और आने का उन्हें एक शॉर्टकट पता है जो की बाद में मैं रोड पर जाता है वो हर रोज उसी रास्ते से जाते है रामनरेश जब अपने ऑफिस से घर आते है तो उनको हमेशा रात हो जाती है





अगर हम समस्य की बात करे तो लगभग रात के दस उन्हें बज ही जाते है जब भी रामनरेश घर वापिस आते है तो उसी रस्ते से घर आते है रामनरेश ये सब अपना समय बचने के लिए करते है जिससे उनका वक़्त भी बच जाए नहीं तो उन्हें घूमकर अपने घर पर आना पड़ता है इसलिए वो हमेशा इस शॉर्टकट का प्रयोग करते है  

Read More-भूतिया होटल की दास्ताँ

एक दिन की बात है जब रामनरेश घर आ रहे थे तो उन्हें ऐसा लगा की उनके पीछे कोई है पर जब उन्होंने ने मुड़कर देखा तो कोई नहीं था फिर वो चलने लगे पर जब भी चलते तो उन्हें फिर कुछ महसूस होता की कोई है पर पीछे जितनी बार मुड़ते उन्हें कोई नहीं दीखता है

Read More-पत्नी की आत्मा एक कहानी 

अब रामनरेश थोड़ा घबरा रहे थे की पता नहीं कौन है कही कोई चोर तो नहीं, और उस चोर को में क्यों नहीं देख पा रहा हु खेर ऐसा सोचते हुए वो घर आ गए और अपनी पत्नी को यह बात बताई तो पत्नी ने कहा की मेने तुमसे कई बार कहा है की उस जगह से मत आया करो एक तो वहा से कोई आता नहीं है ऊपर से वो सुनसान इलाका है

Read More-भूतो का गांव

रास्ता भी थोड़ा टुटा हुआ है ये रास्ता लगभग एक मील का था जिसको रामनरेश हमेशा छोटा समझता था बल्कि अगर राम नरेश घूमकर आये तो कम-से-कम दो मील का पड़ता है पत्नी के कई बार कहने पर भी वो कभी नहीं सुनते थे 

Read More-चलती गुड़िया

सुबह की तरह फिर रामनरेश तैयार हुए और उसी रस्ते से जाने लगा अब सुबह का समय और फिर उन्हें ऐसा लगा की उनके पीछे कोई है पीछे मुड़े तो कोई नहीं था अब रामनरेश की कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था अब रामनरेश यही सोच रहे थे की इतना समय हो गया मुझे ऐसा कभी नहीं लगा

Read More-वो आदमी एक भूत था

लेकिन कुछ दिनों से पता नहीं ये मेरा वहम है या सच में ऐसा कुछ है जो मुझे ही महसूस हो रहा है पहले तो कभी नहीं होता था अब पता नहीं की ऐसा क्यों हो रहा है किसी के चलने की आवाज आती है पर कोई दिखाई नहीं देता है शाम जब हो गयी तो फिर राम नरेश उसी रास्ते से वापिस आने लगे

Read More-एक साया जब दिखा

इस बार उस रास्ते में बहुत ही बड़ी झाड़ी पड़ी थी राम नरेश ने देखा की ये पता नहीं कहा से आ गिरी इससे रस्ते में रुकावट आती है अब उसे हटाने का प्रयास कर रहे थे तभी अचानक उन्हें अपने पीछे किसी का एहसास हुआ जैसी वो मुड़े कोई नहीं था

Read More-एक हवैली

झाड़ी को हटा कर रामनरेश फिर चलने लगे और अब कदमो की आवाज पहले तेज हो गयी अब ऐसा लगा की उनके पीछे सच में कोई आ खड़ा हुआ है जैसे ही मुड़े फिर कोई नहीं था अब ये कोई वहम नहीं है अब राम नरेश वहा से तेजी से चलने लगा और घर आकर ही सांस ली और साड़ी बात अपनी पत्नी को बताई

Read More-भूतिया जंगल

real ghost stories in hindi, अब उनकी पत्नी को भी डर लगने लगा और उनकी पत्नी ने कहा की अब तुम वहा से कभी नहीं आओगे उसके बाद कभी भी रामनरेश वहा से नहीं आये अब इस बात को काफी साल बीत गए है और उस चीज का दर आज भी उन्हें है और वो यह भी नहीं जानते की वहा कौन है अगर आपको यह जानकरी अच्छी लगी है तो आगे भी शेयर करे और हमे भी बताये

Read More-आसमान से गिरती है अजीब वस्तुए

Read More-रहस्मयी मंदिर जहाँ आज भी

Read More-जब उस चुड़ैल ने देखा

Read More-किले का रहस्य

Read More-पेड़ का भूत एक कहानी

Read More-हवेली का प्रेत

Read More-कमरा नंबर 201 की कहानी

Read More-कमरा नंबर 303

Read More-एक भटकती आत्मा

Read More-काला जादू की सच्ची कहानी

Read More-एक दानव कुत्ते की कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!