दहशत की एक रात कहानी, bhoot ki kahaniya

bhoot ki kahaniya

दहशत की एक रात कहानी

real bhoot.jpg

bhoot ki kahani

bhoot ki kahaniya, ये बात उन दिनों की है जब मैं दिल्ली से लखनऊ अपने किसी काम के लिए अपनी ही गाड़ी से जा रहा था. समय जनवरी का था. जनवरी मैं कोहरे के साथ सर्द हवाएं भी चलती है. मुझे घर से निकलते निकलते लगभग रात के 8 बज गए थे. मैं एकेला ही लखनऊ जा रहा था.





रात को जब मैं दिल्ली से लगभग 210 मील दूर पंहुचा तो कोहरा बहुत ही ज्यादा बढ़ गया था. तो मैंने केहि पर रात रुकने की सोची तो कुछ ही दूर मुझे एक कॉटेज दिखाई पड़ा और मैं वहाँ पर चला गया. मैंने उस कॉटेज मैं एक रूम बुक कराया और कुछ खाकर सोने के लिए चला गया.





कॉटेज बहुत ही पुराना था मानो ऐसा लग रहा था की यहाँ पर कोई इंसान नहीं बल्कि शैतान बस्ते है. एक दम सुनसान और कोई भी इंसान नहीं. मैं रात को सो रहा था तो मुझे लगभग 12.30 बजे किसी की पायल की आवाज सुनाई दी ,

Read More-भूतिया होटल की दास्ताँ

तो मैं तुरंत ही खड़ा हो गया और ये देखने खिड़की के पास गया की कोण आधी रात मैं घूम रहा है. क्योकि कॉटेज मैं तो मेरे और मैनेजर के अलावा और कोई भी नहीं है. तो फिर ये औरत के पायल की आवाज़ कैसे मुझे सुनाई दे रही है.

Read More-पत्नी की आत्मा एक कहानी 

मुझे कोई भी नज़र नहीं आया तो मैंने रूम से मैनेजर को कॉल की तो उसने कहाँ की सेर कोई भी नहीं है , आपको हवा से ऐसा लग रहा होगा, वैसे भी ये जंगल इलाका है सेर यहाँ पर तो हलकी आवाज़ भी तूफान की तरह लगती है.

Read More-भूतो का गांव

आप सो जय ऐसा कुछ भी नहीं है. और मैं मैनेजर की बातो पर विश्वास करके दोबारा से सोने के लिए चला गया. कुछ देर बाद मुझे फिर से पायल की आवाज़े आने लग गयी. अबकी बार तो मैंने दरवाजा खोला और बाहर गार्डन मैं देखने के लिए खुद ही चला गया.

Read More-चलती गुड़िया

मैंने देखा की कोई औरत जंगल की और चली ही जा रही थी वो भी सफेद साड़ी पहने. मैंने उसको आवाज़ भी लगाई लेकिन वो बिना सुने ही जंगल की और चलती ही जा रही थी. और मैं आवाज लगते हुए उसके पीछे पीछे. थोड़ी ही देर मैं वहाँ पर कोहरा पूरी तरह से छा गया था.

Read More-वो आदमी एक भूत था

मुझे अब वो औरत बिलकुल भी नज़र नहीं आ रही थी. लेकिन मुझे उसकी पायल की आवाज़ अब भी साफ़ सुनाई दे रही थी की मानो वो मेरे आगे नहीं बल्कि मेरे साथ साथ ही चल रही हो.

Read More-एक साया जब दिखा

मैं अब बहुत ही ज्यादा डर चूका था मुझे अब कॉटेज वापिस आने का रास्ता भी नज़र नहीं आ रहा था. मैं सोच रहा था की अब मैं वापिस कैसे अपने कॉटेज जाओगे क्योकि मैं जंगल मैं बहुत ही आगे आ चूका था. लेकिन वो पायल की आवाज मेरा पीछा नहीं छोड़ रही थी.

Read More-एक हवैली

bhoot ki kahaniya, वो मेरे साथ साथ ही थी. अब मैंने ज़ोर ज़ोर से चिल्लाना शुरू कर दिया और उधर उधर भागने लगा. की तभी कुछ दूर बाद मुझे कॉटेज का मैनेजर मिल गया जो की मुझे अपने साथ वापिस कॉटेज ले गए और उस औरत के बारे मैंने बताने लग गया जिसकी पायल की आवाज़ मुझे सुनाई दे रही थी. इसी कॉटेज मैं उसकी आत्मा आज भी इस कॉटेज के आस पास भटकती रहती है.

Read More-भूतिया जंगल

Read More-आसमान से गिरती है अजीब वस्तुए

Read More-रहस्मयी मंदिर जहाँ आज भी

Read More-जब उस चुड़ैल ने देखा

Read More-किले का रहस्य

Read More-पेड़ का भूत एक कहानी

Read More-हवेली का प्रेत

Read More-कमरा नंबर 201 की कहानी

Read More-कमरा नंबर 303

Read More-एक भटकती आत्मा

Read More-काला जादू की सच्ची कहानी

Read More-एक दानव कुत्ते की कहानी

Read More-वो सुनसान रास्ता

Read More-एक पुराना किला

Leave a Reply

error: Content is protected !!