छोटी सी मदद, hindi stories with moral

hindi stories with moral

छोटी सी मदद

moral stories.jpg

hindi stories with moral

hindi stories with moral, very short stories with moral, एक छोटी लड़की एक गरीब परिवार में रहती थी उसके माता-पिता दोनों ही बीमार रहते थे इसलिए घर के सभी काम वह छोटी लड़की ही करती थी जहा पर उसकी उम्र की लड़की स्कूल जाया करती थी वही वह लड़की दुसरो के घर पर काम करती थी





दुसरो के घर में झाड़ू-पोछा लगाती थी और अपने परिवार का सारा काम इस छोटी लड़की के ही जिम्मे था पहले इस लड़की माता दुसरो के यहां पर काम करती थी अब उसकी तबियत ठीक नहीं रहती है तो अपनी जगह पर अपनी लड़की को लगा दिया इस लड़की का नाम रूपा था




रूपा की उम्र काम करने की नहीं थी बल्कि पढ़ाई की थी रूपा का मन स्कूल जाने का हमेशा करता था जब भी रूपा दुसरो के बच्चो को स्कूल में जाते देखती तो वह भी सोचती थी की एक दिन वह स्कूल जरूर जायेगी, पर किस्मत किसको कहा ले जाए किसी नहीं पता था, 

Read More-जीवन का सच

Read More-मन की आवाज

रूपा जिनके घर में काम करती थी उन्ही घर में से एक घर जिनका नाम हरीश था वह आदमी हमेशा कहता था की बच्चो से काम नहीं करना चाहिए मुझे यह पसंद नहीं है पर उसकी पत्नी कहती थी की कुछ दिनों की बात है इसकी माता की तबियत ठीक हो जायेगी तो वही काम करने आएगी,

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-विश्वास की कहानी

एक दिन हरीश उस बच्ची के साथ उसके घर गए और सारी बात पूछी तब उन्हें पता क्ला की दोनों की तबियत खराब रहती है इसलिए छोटी बच्ची काम पर जाती है हरीश ने कुछ पैसे दिए और कहा की जल्दी इलाज करवा लो और अपनी लड़की को स्कूल भेजो तभी तुम्हारा भी भवष्य बन जाएगा नहीं तो कुछ भी हाथ नहीं लगेगा,

Read More-राजा की मनमानी

Read More-भोला का गांव हिंदी कहानी

हरीश ने उस बच्ची का एड्मिशनकरवा दसिया और उसकी पढ़ाई को जारी रखा एक दिन वो भी आ गया जब रूपा अपनी डिग्री लेकर आयी और हरीश जी को धन्यवाद दिया की आप अगर मदद न करते तो शायद में पढ़ न पाती कुछ दिन बाद रूपा को नौकरी मिल गयी और उसने अपने माता-पिता की सेवा की और किसी को भी काम पर नहीं जाने दिया

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

hindi stories with moral, very short stories with moral, हरीश ने जब ये देखा की रूपा के माता-पिता दोनों ही हरीश के पास आये और कहने लगे की हमे नहीं लगता था की कोई हमारी मदद करेगा पर आपने तो हमारी साड़ी समस्या ही दूर कर दी, दोनों की बाते सुनकर हरीश का भी मन भर आया और कहा की हमे जरूरत पर सबकी मदद करनी चाहिए तभी हम इंसान कहलायेंगे. दोस्तों इस कहानी से हमे भी सीख मिलती है की मदद हमे जरूर करनी चाहिए शायद एक छोटी सी मदद किसी का जीवन ही बदल दे. अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो आगे भी शेयर करे और हमे भी बताये अगर आप चाहते है की आपकी कहानी यहां पर प्रकाशित हो तो आप हमे अपनी कहानी भेज सकते है 

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-सच्चा भक्त

Read More-तलाक का एक किस्सा

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-जादुई पेड़ हिंदी कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!