गुरसल और बंदरो की कहानी, bandar ki kahani

bandar ki kahani

गुरसल और बंदरो की कहानी

hindi story.jpg
bander ki kahani

गांव मैं एक बहुत ही बड़ा नीम का पेड़ था , जिस पर एक बहुत ही खूबसूरत गुरसल का घोसला था. एक दिन बहुत तेज़ कडाके की ठंड पड रही थी. ठंड से कांपते हुए कुछ बंदरों ने उसी पेड के नीचे आश्रय लिया. एक बंदर बोला कहीं से आग तापने को मिले तो ठंड दूर हो सकती हैं. दूसरे बंदर ने सुझाया देखो, यहां कितनी सूखी पत्तियां गिरी पडी हैं.

 

इन्हें इकट्ठा कर हम ढेर लगाते हैं और फिर उसे सुलगाने का उपाय सोचते हैं. बंदरों ने सूखी पत्तियों का ढेर बनाया और फिर बैठकर सोचने लगे कि ढेर को कैसे सुलगाया जाए. तभी एक बंदर की नजर दूर हवा में उडते जुगनू पर पडी और वह उछल पडा. उधर ही दौडता हुआ चिल्लाने लगा देखो, हवा में चिंगारी उड रही है. इसे पकडकर ढेर के नीचे रखकर फूंक मारने से आग सुलग जाएगी. हां हां कहते हुए बाकी बंदर भी उधर दौडने लगे.

पेड पर अपने घोंसले में बैठी गुरसल यह सब देख रही थे. उससे चुप नहीं रहा गया. वह बोली बंदर भाइयो, यह चिंगारी नहीं हैं यह तो जुगनू है. एक बंदर क्रोध से गुरसल की देखकर गुर्राया मूर्ख चिडिया, चुपचाप घोंसले में दुबकी रह. हमें सिखाने चली है. इस बीच एक बंदर उछलकर जुगनू को अपनी हथेलियों के बीच कटोरा बनाकर कैद करने में सफल हो गया. जुगनू को ढेर के नीचे रख दिया गया और सारे बंदर लगे चारों ओर से ढेर में फूंक मारने. गुरसल ने सलाह दी भाइयो आप लोग ग़लती कर रहे हैं. जुगनू से आग नहीं सुलगेगी. दो पत्थरों को टकराकर उससे चिंगारी पैदा करके आग सुलगाइए.

Read More-राजा और सेवक की कहानी 

Read More-दरबारियों की परीक्षा

बंदरों ने गुरसल को घूरा. आग नहीं सुलगी तो गुरसल फिर बोल उठी भाइयो आप मेरी सलाह मानिए, कम से कम दो सूखी लकडियों को आपस में रगडकर देखिए. सारे बंदर आग न सुलगा पाने के कारण खीजे हुए थे. एक बंदर क्रोध से भरकर आगे बढा और उसने गुरसल पकडकर ज़ोर से पेड के तने पर मारा. गुरसल फडफडाती हुई नीचे गिरी और मर गई. इस कहानी से हमे यही सिख मिलती है दोस्तों की कभी भी हमे किसे के बीच मैं नहीं पड़ना चहिये. हमे सदा ही अपने काम से मतलब रखना चाहिए.

Read More-जल परी की कहानी

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-रूद्र की कहानी

Read More-चाचा और साबू की कॉमेडी कहानी

Read More-राजा के खजाने की कहानी

Read More-सबसे गरीब कौन एक कहानी

Read More-मोटू पतलू और चिराग

Read More-सोनू के हाथी की कहानी

Read More-मोटू पतलू और नगर की सफाई

Read More-अकबर और बीरबल की कहानी

Read More-लालच बुरी बला है

Read More-बाघ और पंडित की कहानी

Read More-राजा का गुस्सा एक कहानी

Read More-बच्चों की कहानी

Read More-बोलने वाले पक्षी

Read More-अलादीन का जादुई चिराग

Read More-कौवे और मैना की बाल कहानियां

Read More-चालाक लोमड़ी और भालू की कहानी

Read More-खरगोश की कहानी 

Read More-बच्चों का पार्क

Read More-अकबर बीरबल और युद्ध

Read More-बड़े हाथी की कहानी

Read More-एक शिक्षाप्रद कहानी

Read More-शेर और खरगोश

Read More-मोटू पतलू और साधू बाबा

Read More-मोटू पतलू और फिल्म शूटिंग

Read More-मोटू पतलू और जादुई फूल

Read More-मोटू पतलू और जादुई टापू

Read More-मोटू पतलू और मिलावटी दूध

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-छोटा भीम और क्रिकेट मैच

Read More-मोटू-पतलू का सपना

Read More-चाचा चौधरी और साबू

Read More-पेटू पंडित हास्य कहानी

Read More-शेखचिल्ली की कुश्ती

Read More-शेखचिल्ली का मजाक

Read More-मोटू और पतलू का जहाज

Read More-अकल की दवाई

Read More-कौवे का पेड़

Read More-छोटू का पार्क कहानी 

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-राजा और लेखक

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Read More-मोटू और पतलू के समोसे

Read More-अमरूद किस का हिंदी कहानी

Read More-छोटा भीम और नगर में चोर

Read More-छोटा लड़का और डॉग

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!