तीनो में महान कौन, hindi kahani

hindi kahani, हिंदी कहानी

story.jpg

तीनो में महान कौन हिंदी कहानी

hindi kahani, हिंदी कहानी, एक गांव में तीन आदमी रहते थे वह आदमी तीनो ही बहुत ही प्रभावशील थे और उनमे अपनी अपनी काबिलियत थी उनमें से एक आदमी तीर चलाना बहुत अच्छी तरह जानता था और दूसरा आदमी उसमें से घुड़सवारी का माहिर था और तीसरा आदमी तैराकी में माहिर था पर उन तीनों आदमियों की शादी नहीं हुई थी

 

 तीनों आपस में यही बात कर रहे थे कि हम किसी के यहां पर ऐसे नहीं जाएंगे क्योंकि हममें तीनो में काबिलियत है अगर किसी को हमारे साथ शादी करवानी है तो वह हमारी काबिलियत देख कर ही शादी को हा करें यह तीनों आदमी आपस में बहुत ही अच्छे मित्र थे और एक साथ ही रहते थे

 

इन तीनों मित्रों को किसी काम से बाहर जाना पड़ा और रास्ते में जब वह वापस आ रहे थे तो थकान के कारण एक घर में वह रुक गए जिस घर में यह तीनों मित्र रूके हुए थे उसी घर में एक लड़की रहते थे जिसे देख कर उन तीनों मित्रों ने आपस में बातें करनी शुरू कर दी कि यह हमें लड़की पसंद है पर इसमें से कौन इसके साथ शादी करेगा तीनों मित्र इसी बात पर रात भर चर्चा कर रहे थे

Read Story-चार मित्रो की कहानी

जब सुबह हुई तो दो मित्र एक एक करके उस लड़की के पिता के पास गए और कहने लगे कि मैं आपकी लड़की से शादी करना चाहता हूं आपका जो भी फैसला हो हमें बता दीजिए पर इन में से एक मित्र उनके पिता के पास नहीं जाता है इस पर लड़की के पिता को बड़ा विचार आता है कि  तीनों मित्रों में से सिर्फ दो ही मित्र आए हैं मेरे पास पर एक मित्र क्यों नहीं आया है ऐसा विचार करता है फिर अगले दिन लड़की के पिता उन तीनों के पास जाते हैं और कहते हैं कि

 

मुझे तुम तीनों ही समझदार लगते हो लेकिन मैं शादी तो किसी एक के साथ ही कर सकता हूं लड़की के पिता कहते हैं कि मैं एक परीक्षा लेता हूं जिसमें से जो उससे पास कर लेगा मैं उसी के साथ अपनी लड़की की शादी कर दूंगा फिर लड़की के पिता ने उन तीनों को काम सौंपा गया एक को कुएं खोदने का काम दिया गया दूसरे को झोपड़ी बनाने का काम दिया गया और तीसरे को खेत में आनाज बोने का काम दिया गया

Read Story-गरीब आदमी

 इन कामों को सुनकर तीनों मित्र कामों को पूरा करने के लिए शुरु कर देते हैं और फिर लड़की के पिता भी उन पर नजर रखते हैं कि यह तीनों कैसे काम कर रहे हैं इनमें से जिसे कुआं खोदने का काम दिया गया था वह थोड़ा सा खोदता  सो जाता है और जिसे झोपड़ी बनाने का काम दिया गया था वह भी थोड़ा सा काम करके थक ने के कारण वह भी आराम करने लगता है लेकिन जिसे एक खेत में अनाज बोने का काम दिया गया था वह बड़ी ईमानदारी से अपने काम को करता है और थकावट भी महसूस नहीं करता है और अपने काम को करता ही चला जाता है

 

 हर रोज वह सुबह जाकर शाम तक उस खेत में काम करता था और पूरी इमानदारी से काम करता था उसे लगता था कि जो काम से दिया गया है वह उसका अपना खुद का काम है वह अपना काम समझकर ही उस काम को करता था और जो दो बाकी बचे मित्र थे वह थोड़ा थोड़ा काम कर के हैं आधे दिन के बाद आराम करना शुरू कर देते थे फिर लड़की के पिता उस व्यक्ति के पास जाते हैं जो कि खेत में काम कर रहा था और कहते हैं कि तुम तो बड़ी अच्छी तरह से काम कर रहे हो और पूरे पूरे दिन काम करते हो

Read Story-किताबो का रहस्य

आराम क्यों नहीं करते तो उसने जवाब दिया कि मेरे पिता जी ने कहा था कि जो काम आप को सौंपा जाएगा उसे पूरी ईमानदारी से और पूरा करके ही आराम करना चाहिए फिर लड़की के पिता बारी बारी से दोनों मित्रों के पास गए और पूछा काम कितना और रह गया है तो उन्होंने कहा कि काम चल रहा है पर यह काम हमें पसंद नहीं है फिर भी हम इस काम को कर रहे हैं

 

फिर लड़की के पिता ने सोचा कि एक योजना बनाई जाए और अपनी लड़की को बारी-बारी से तीनों मित्रों के पास भेजा जाएगा और पता लगाया जाएगा कि कौन सा काबिल है फिर लड़की उनमें से एक मित्र के पास जाती है जो कि खोद रहा था और उससे कहती है कि तुम्हारा काम कैसा चल रहा है वह जवाब देता है कि मुझे काम बिल्कुल भी पसंद नहीं है पर मुझे तुमसे शादी करनी है इसीलिए मैं इस काम को कर रहा हूं

Read Story-इंसानियत की कहानी

फिर लड़की दूसरे मित्र के पास जाती है जो की झोपड़ी बना रहा था और कहती है कि क्या इस काम को छोड़कर तुम मुझसे शादी करोगे तो दूसरा मित्र जवाब देता है हां मैं इस काम को छोड़ कर तुम्हारे साथ शादी कर लूंगा

 

 फिर लड़की तीसरे मित्र के पास जाती है जो कि खेत में अनाज की बुवाई कर रहा होता है और कहती कि क्या काम पसंद है वह कहता है हां मुझे काम पसंद है क्योंकि मैं इस काम को अपना काम ही समझ कर कर रहा हूं इसीलिए मैं इसे पूरा करके ही रहूंगा मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आपके पिताजी मुझ से आपकी शादी करवाएंगे या नहीं लेकिन मैं इस काम को पूरा ही करना चाहता हूं

Read Story-तीन मजेदार कहानिया

क्योंकि उन्होंने जिस भरोसे से मुझे काम दिया है मुझे उनका भरोसा भी तो रखना है इस तरह समय बीतता चला गया और 6 महीना बीत गया लड़की के पिता ने देखा कि अब चल कर देख लेना चाहिए कि किसका काम कितना सफल हुआ है लड़की के पिता ने देखा कि जिसे झोपड़ा बनाने का काम दिया गया था उसने झोपड़ा सही नहीं बनाया हुआ था आज हर जगह से वह अभी भी अधूरा ही था

 

फिर दूसरे मित्र के पास गए और देखा कि जिसे कोई का काम दिया गया था पर कुए का काम तो पूरा हो गया लेकिन पानी कुए मैं अभी तक भी नहीं था फिर तीसरे मित्र के पास जाते हैं जिसे खेत का काम दिया गया था तो देखा कि खेत में बहुत अच्छी तरह से काम हुआ है आनाज की फसल भी बहुत अच्छी हो गई है

Read Story-गुलिवर की कहानी

फिर लड़की के पिता ने तीनों को बुलाया और कहा कि मैं उसी से शादी करूंगा जिसे हमने खेत का काम दिया था उसका काम बहुत अच्छा हुआ है फिर दोनों मित्र इसी बीच में बोल पड़े कि हमने भी तो काम किया है अब वह काम पूरा है फिर भी आप ऐसा कैसे मना कर सकते हैं

 

तभी लड़की के पिता ने कहा कि तुमने काम तो पूरा किया है लेकिन मन लगाकर नहीं किया जिससे वह अभी भी पूरा होने के बाद भी अधूरा सा ही लग रहा है फिर लड़की के पिता ने कहा कि हमने उसे खेत का काम दिया था और उसने बहुत इमानदारी से किया पूरे मन से किया आराम भी नहीं किया क्योंकि उसे सिर्फ काम का ही महत्व दिखाई दे रहा था और कुछ नहीं और तुम दोनों थोड़ा सा काम करके ही आराम करना शुरू कर देते थे

 

hindi kahani, हिंदी कहानी, इस प्रकार लड़की के पिता ने उस खेत वाले मित्र से अपनी लड़की की शादी कर दी क्योंकि उसने कहा कि वह हर कोई काम कर सकता है जो पूरी मनसे कर सकता है उसे कोई भी काम दिया जाए वह उसे पूरी ईमानदारी से निभाएगा वही मेरी लड़की को खुश रखेगा.इसलिए दोस्तों अगर आपको जो भी काम दिया जाएगा उसे आप पूरी ईमानदारी से करते हैं तो सफलता आपके पास जरूर आएगी.

Read More-थोड़ा सोचिये एक हिंदी कहानी

Read More-तोते की अनोखी कहानी

Read More-बांसुरी की धुन एक लघु कहानी

Read More-ज़िन्दगी में महक की कहानी

Read More-एक बुढ़िया की लघु कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!