महाज्ञानी की हिंदी कहानी, Story in hindi

Story in hindi

आपको यह महाज्ञानी की हिंदी कहानी (Story in hindi) जरूर पसंद आएगी, हमे हमेशा यह बात याद रखनी चाहिए, की आप कितना भी ज्ञान रखते हो मगर उसकी चर्चा कभी नहीं करनी चाहिए.

महाज्ञानी की हिंदी कहानी : Story in hindi

hindi story.jpg

Story in hindi

स्टोरी इन हिंदी, उस गांव में बहुत ही सीधे-साधे लोग रहते थे लेकिन गांव का मुखिया यह जानता था कि यह सभी लोग बहुत ही सीधे हैं इसलिए इन्हें कुछ ज्ञान की बातें जरूर पता होनी चाहिए इसलिए वह ज्ञान की बातें पता करने के लिए अपने गांव से बाहर निकलें लेकिन उन्हें कुछ भी हाथ नहीं लगा इसलिए वह गांव में वापस आ ही रहे थे कि तभी उनके पास एक साधु आ गए

 

 मुखिया ने सोचा कि साधु महाराज जी को लेकर चलते हैं यही सभी गांव वालों के लिए अच्छी-अच्छी बातें कहेंगे और गांव वाले एक दिन सब कुछ सीख जाएंगे वह साधु महाराज जी से विनती करने लगे और कहने लगे कि हमारे गांव में चलिए हमारे गांव में ज्ञान की बातों को बाटिये, जिससे सभी लोग आपकी जान की बातों को अच्छी तरह से समझ पाए साधु महाराज जी मुखिया के साथ चलने को तैयार हो गए और मुखिया साधु महाराज जी को गांव में लेकर आ गए उसके बाद मुखिया ने सभी गांव वालों को अगली सुबह ही सभा आयोजन करने के लिए बुलाया गया

 

सभी लोग सभा में उपस्थित हो गए हैं और साधु महाराज जी उनके सामने आए साधु महाराज जी ने सभी गांव वालों से पूछा कि क्या आप जानते हैं कि मैं यहां पर क्यों आया हूं सभी गांव वाले एक साथ बोले कि हम यह नहीं जानते कि आप क्यों आए हैं तभी साधु महाराज जी नाराज हो गए और वापस जाने लगे सभी गांव वालों एक दूसरे की तरफ देखने लगे क्योंकि वह यह नहीं समझ पा रहे थे कि साधु महाराज जी नाराज होकर क्यों गए हैं

Read More-सिमित साधन में संतोष कहानी

Read More-एक भारतीय की कहानी

बड़ी मुश्किल से मुखिया ने साधु महाराज जी को मनाया और फिर उन्हें सभा में बुलाया साधु महाराज जी सभा में पहुंचे तो उन्होंने फिर से वही सवाल दोहराया क्या आप जानते हैं कि मैं यहां पर क्यों आया हूं सभी गांव वाले इस बात को जानते थे कि पहले ही उन्होंने जो कहा था उस से नाराज हो गए थे साधु महाराज ने फिर एक बार वह शब्द बोले उन्होंने कहा कि हम सब जानते हैं साधु महाराज जी ने कहा कि जब आप लोग सभी  जानते हैं तो मेरी क्या आवश्यकता साधु महाराज जी फिर से नाराज होकर जाने लगे इस बार गांव वालों की कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था क्योंकि पहले उन्होंने मना किया था तब भी वह नाराज हो गए थे और अब उन्होंने हां कहा तभी वह नाराज हो गए

Read More-एक नौकर की कहानी

Read More-दादा जी की याद एक कहानी

स्टोरी इन हिंदी, फिर दोबारा से बड़ी मुश्किल से उन्हें मना कर लाया गया और आते ही साधु महाराज जी ने फिर से वही सवाल सवाल किया कि आप लोग जानते हैं मैं यहां पर क्यों आया हूं इस बार सभी गांव वाले अपने घर जाने लगे और कहने लगे कि हमें यह नहीं जानना कि आप क्यों आए हैं और अब हमें यह भी नहीं जानना चाहते कि आप हमसे क्या कहेंगे इसलिए हम अपने घर जा रहे हैं इस तरह सभी लोग अपने-अपने घर चले गए और साधु महाराज जी वहीं पर खड़े हुए देखते रह गए. कभी भी किसी को यह नहीं दिखना चाहिए की हम सब कुछ जानते है, क्योकि कोई भी सब कुछ नहीं जान सकता.

अगर आपको यह महाज्ञानी की हिंदी कहानी (Story in hindi)पसंद आयी है तो इसे पर शेयर करे और कमेंट करके हमे भी बताये.

Read More-एक सच्ची मदद की हिंदी कहानी

Read More-गलतफहमी की कहानी

Read More-अजीब आदमी की कहानी

Read More-बूढ़े आदमी का जीवन हिंदी कहानी

Read More-नदिया के पार की कहानी

Read More-थोड़ा सोचिये एक हिंदी कहानी

Read More-तोते की अनोखी कहानी

Read More-बांसुरी की धुन एक लघु कहानी

Read More-जीवन अनमोल है हिंदी कहानी

One Response

  1. Ankur Rathi May 15, 2018

Leave a Reply

error: Content is protected !!