सिक्के के दो पहलू हिंदी कहानी, story in hindi

story in hindi

सिक्के के दो पहलू हिंदी कहानी

hindi story.jpg

Story in Hindi

Story in Hindi, सीमा अपनी बात को पूरा ही करने वाली थी कि अचानक विनोद वहां पर आ गया विनोद को देखते ही सीमा ने अपनी बात को करना बंद कर दिया था जब विनोद ने पूछा कि सीमा क्या बातें कर रही थी सीमा ने बात को टालते हुए कहा कि कुछ नहीं आज तो बस ऐसे ही हम बैठे हुए बातें कर रहे थे विनोद को भी कुछ अजीब सा लगा

 

क्योंकि सीमा साफ-साफ कुछ भी नहीं बता रही थी सीमा की सहेली रीमा ने भी विनोद को देखा और दूसरी तरफ नजर घुमाते हुए देखना शुरु कर दिया विनोद को रीमा का यह व्यवहार कुछ अजीब सा लग रहा था उसके बाद विनोद अंदर चला गया रीमा ने सीमा से कहा कि अब मुझे भी चलना चाहिए क्योंकि काफी देर हो गई है हमें बातें करते हुए जब रीमा रीमा के घर से चली गई तो विनोद सीमा के पास आया और पूछने लगा कि रीमा और तुम दोनों क्या बातें कर रहे थे

जो कि मेरे आने के बाद तुमने बातें करना बंद कर दिया था सीमा ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है रीमा अपने पति के बारे में कुछ बता रही थी पति के बारे में सुनते ही विनोद के कान खड़े हो गए क्योंकि वह समझ नहीं पा रहा था कि वह क्या बातें कर रही है विनोद ने आगे बातें करते हुए कहा कि चलो अब बता भी दो कि यह भी रीमा अपने पति के बारे में क्या बात की है सीमा समझ चुकी थी कि विनोद उनसे पूछते जा रहे हैं

Read More-पिता और बेटे की कहानी

Read More-परेशानियों से बचे एक कहानी

तो इसका मतलब यह है कि मुझे बता देना चाहिए सीमा ने विनोद से कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है लेकिन उसका पति अब ज्यादा परेशान रहने लगा है क्योंकि जहां पर वह नौकरी करता था अब वह वहां से निकाल दिया गया है वह बेरोजगार हो गया है विनोद को अब समझ में आ गया था कि यह समस्या बहुत बड़ी है क्योंकि जब आदमी काम करता है तभी घर का खर्च चलता है

Read More-एक पत्रकार की कहानी

Read More-बीता हुआ समय नहीं आता

सीमा ने विनोद से कहा कि अगर तुम कुछ कर सकते हो तो रीमा के पति के लिए कुछ ऐसा कर दो जिससे उन्हें काम मिल जाए और वह इस समस्या से भी छुटकारा पा सके विनोद ने अगले दिन रीमा के पति से मिलने की बात कही अगले दिन विनोद रीमा के पति से मिले और पूरी बात पूछी कि क्या हुआ था रीमा के पति ने कहा कि उन्हें ऑफिस से निकाल दिया गया है विनोद ने पूछा कि ऐसा क्या हुआ था कि तुम्हें निकाल दिया गया रीमा के पति ने बताया कि वह अक्सर लेट जाया करते थे क्योंकि घर की परेशानियां भी उन्हें और परेशान कर रही थी जिसके कारण वह हर रोज सो नहीं पाते थे

Read More-साईकिल की कहानी

Read More-शायद वो सही था एक कहानी

इसलिए ज्यादातर लेट हो जाने की वजह से उन्हें निकाल दिया गया विनोद को समझ में आ गया था यह कोई बड़ी समस्या नहीं है हमारी सभी की जिंदगी में सिक्के के हमेशा दो पहलू होते ही हैं एक अच्छा होता है एक बुरा होता है कभी कभी बुराई अच्छाई को जीतने लगती है जिसके कारण इंसान हारने लगता है विनोद ने कुछ ही दिनों में रीमा के पति के लिए एक अच्छी सी नौकरी तलाश कर ली थी

Read More-तोते की अनोखी कहानी

Read More-ज़िन्दगी में महक की कहानी

रीमा के पति अब कुछ परेशानी से दूर होने लगे थे और अगले दिन विनोद से मिलने के लिए घर पर आए विनोद ने कहा कि हमें हमेशा यह बात याद रखनी चाहिए कि हमारे काम करने के तरीके और हमारा पारिवारिक जीवन इनमें दोनों में अंतर होना बहुत जरूरी है अगर हम इन दोनों को एक साथ मिला लेते हैं तो समस्याएं बहुत ज्यादा बढ़ जाती हैं

Read More-तीन मूर्खों की कहानी

Read More-जैसा करोगे वैसा पाओगे

Story in Hindi, जब परिवार में आप आते हैं तो परिवार के ही बारे में सोचना चाहिए काम के बारे में नहीं सोचना चाहिए अगर आप ऐसा करते हैं तो जीवन में जरूर सफल हो जाएंगे अच्छाई और बुराई तो जीवन में चलती ही रहती हैं इसलिए हमेशा अच्छाई का साथ देना चाहिए सीमा ने विनोद की जब यह बातें सुनी तो वह भी समझ गई थी कि विनोद एक बहुत ही अच्छे इंसान हैं जो कि दूसरों की मदद करते हैं इसलिए जीवन में हमें भी दूसरों की मदद करनी चाहिए.

Read More-एक जोकर की कहानी

Read More-बाहुबली के क्रोध की कहानी

Read More-भाग्य की कहानी

Read More-निस्चन ऋषि की कहानी

Read More-सब कुछ बह जायेगा हिंदी कहानी

Read More-क्रोध से दूर रहे कहानी

Read More-दो मूर्खों की कहानी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!