रक्षाबंधन का त्यौहार, raksha bandhan in hindi

raksha bandhan in hindi

रक्षाबंधन का त्यौहार

raksha bandha.jpg

raksha bandha

raksha bandhan in hindi, essay on raksha bandhan, रक्षाबंधन का त्यौहार क्यों मनाया जाता है पौराणिक कथाओं के अनुसार मंत्रों का जाप करते हुए दाहिने हाथ में एक धागा बांधा जाता है इस दिन बहन भाई को धागा बांधती है और माथे पर तिलक लगाया जाता है

 

 जिससे कि भाई की उमर बढ़ सके और भाई बहन की हमेशा रक्षा करे यह त्यौहार बड़े ही धूम धाम के साथ मनाया जाता है और इसे ही रक्षाबंधन का त्यौहार कहा जाता है

 

इस धागे का सीधा मतलब है कि भाई बहन की हमेशा रक्षा करेगा रक्षाबंधन के त्यौहार के पीछे भी एक कहानी है इससे पहले लक्ष्मी जी ने बालि को राखी बांधी थी नारायण भगवान ने बलि को छलने के लिए अवतार लिया तीन पग में ही सब कुछ ले लिया

 

 जब सब कुछ बालि ले लिया गया तब बालि ने कहा कि मुझे भी आपसे कुछ चाहिए भगवान कहने लगे कि ठीक है जो तुम्हारी इच्छा हो वह मांग लो बालि बोला कि आप छल कर सकते हैं इसलिए पहले मुझे वचन दे दीजिए

 

 उत्तम भगवान ने बालि को वचन दिया और कहा कि ठीक है जो तुम कहोगे मैं दे दूंगा बाली ने कहा कि मैं आपको जिधर देखूं उधर ही आप मुझे दिखने चाहिए जब भी मैं उठो तब भी मेरी नजर आप पर हमेशा रहनी चाहिए

 

 नारायण भगवान ने सोचा कि मैंने सब कुछ ले लिया लेकिन फिर भी इसने मुझे अपने पास रख लिया और मुझे पहरेदार बना दिया है ऐसे चलते हैं बहुत समय बीत गया फिर एक दिन लक्ष्मी जी नारायण को ढूंढते हुए वहां पर आयी और कहने लगे कि आप यहां पर नारायण जी,

 

नारायण जी ने बताया कि बालि ने मुझे अपना पहरेदार बना लिया है श्री लक्ष्मी जी बालि के पास गयी और कहने लगी की मेरा कोई भाई नहीं है बालि ने कहा कि मैं तुम्हारा भाई बन जाता हूं फिर उसके बाद लक्ष्मी जी ने बालि से कहा कि मुझे यह आपका पहरेदार चाहिए

 

तो बालि ने पहरेदार को लक्ष्मी जी को दे दिया और रक्षाबंधन का त्योहार शुरू हुआ अगर आपको यह जानकारी पसंद है यह तो आगे भी शेयर करें और कमेंट करके हमें भी बताएं.

 

दिवाली पर निबंध

दिवाली का त्योहार बहुत खुशियों से मनाया जाता है  यह हिन्दू का मुख्य त्यौहार है इसमें सभी लोग आपस में मिलते है और खुसिया बाटते है सभी लोग उस दिन सारे झगडे भूलकर इस त्योहार को मनाते है इस त्योहार का सीधा सम्बन्ध बुराई पर जीत का है दिवाली का त्योहार अक्टूबर या नवंबर में होता है

 

यह त्योहार एक हफ्ते तक होता है इसमें सभी रस्मो के साथ इसे मनाया जाता है दिवाली से पहले दिन लोग धनतेरस मनाते है दिवाली आने के एक हफ्ते पहले लोग अपने घर की सफाई आदि करवाते है और कुछ लोग अपने घर में पुताई भी करवा देते है लोग हफ्ते भर पहले पूजा की सभी समान आदि को लेकर आते है और इसमें नयी भगवान् की प्रतिमा भी ली जाती है

 

दिवाली का त्योहार इसलिए मनाया जाता है क्योकि उस दिन भगवान् राम अपने 14 वर्ष के वनवास से वापस आये थे और उनकी ख़ुशी के लिए यह त्यौहार मनाया जाता है इसी दिन माँ लक्ष्मी की भी पूजा होती है और सभी लोग शाम के वक़्त मिठाई आदि को भी बाटते है और आपस में मिलकर सभी झगड़ो को खत्म करते है 

 

जब शाम हो जाती है तो सभी लोग अपने घर के सामने मोमबत्ती और दीपक को जलाकर रख देते है जिससे की चारो और उजाला हो जाता है इस दिन सभी लोग खुश होते है दीपावली साल भर में एक बार आती है और लोग इसे बहुत ही खुसी से मनाते है उस दिन वो नए कपडे पहनते है और पूजा करते है

 

पूजा करने के बाद सभी को मिठाई बाटी जाती है चारो और खुसी का माहौल रहता है बहुत से लोग इस दिवाली पर पटाखे का प्रयोग करते है जाकी ऐसा नहीं करना चाहिए पटाखों से चारो और प्रदूषण हो जाता है इस प्रदूषण से बहुत सी बीमारी होती है और इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए

 

दिवाली मनाने के लिए पटाखे की कोई जरूरत नहीं है बल्कि आप अपने घर के बहार उजाला करके भी इस त्योहार को मना सकते है जब भी आप पटाखे का प्रयोग करते है तो इससे चारो और धुवा हो जाता है और वातावरण प्रदूषित होता है जिससे हमे परेशानी हो सकती है 

 

जब भी वातावरण प्रदूषित होता है तो इससे हमे ही परेशानी होती है अगर आप आपने शरीर को सवस्थ रखना चाहते है तो आपको प्रदूषण होने से रोकना होगा और ये तभी होगा जब आप सभी लोग सहयोग करेंगे क्योकि सहयोग करने से ही हम प्रदूषण से सभी को बचा पाएंगे इसलिए आपको भी परदूसण नहीं करना है और अगर आपके सामने कोई भी कर रहा है तो आप उसे समझा सकते है इससे आप बहुत हद तक प्रदूषण से बच सकते है 

 

आपको चाहिए की आप पटाखे का प्रयोग बिकुल भी न करे और अपना त्योहार खुसी के साथ मनाये आप को चाहिए की इस दिन सभी गलती भूलकर  आप सभी लोग आपस में मिलजुल कर इस त्योहार को मनाये और एक दूसरे का ख्याल रखे, हम लोग कुछ-छोटी-छोटी गलती के कारन आपस में झगड़ा कर लेते है जिससे दूरिया भी बन जाती है इसलिए सबकुछ भुला कर आपस में प्रेम के साथ रहे और दिवाली का त्योहार मनाये  सभी को दिवाली पर एक दूसरे को हैप्पी दिवाली जरूर कहे अगर आपको यह निबंध पसंद आया हो तो आगे भी शेयर करे और हमे भी बताये.

Read More-बेयर ग्रील्स

Read More-आंइस्टीन का पत्र नीलाम हुआ

Read More-अकबर का इतिहास काल

Read More-अलीबाबा के संचालक

Read More-जवाहर लाल नेहरू जी

Read More-तुलसीदास का जीवन

More Essay- speech on republic day

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!