जीवन में धैर्य की कहानी-Best hindi ki kahaniya

Best hindi ki kahaniya

हमे हमेशा जीवन में धैर्य से काम लेना चाहिए, आपको यकीन नहीं होगा की जब धैर्य रखते है तो आपकी बहुत समयसा का हल अपने आप ही हो जाता है, यह कहानी जीवन में धैर्य की कहानी (Best hindi ki kahaniya) आपको जरूर पसंद आएगी.

जीवन में धैर्य की कहानी : Best hindi ki kahaniya

hindi story.jpg

Best hindi ki kahaniya

सभी लोग यह सोचते होंगे कि हमें बहुत जल्दी-जल्दी अपने कामों को करना चाहिए लेकिन जल्दबाजी में हमेशा ज्यादातर काम बिगड़ जाते हैं अगर हम वही काम थोड़े समय बाद करते हैं तो वह जरूर पूरा हो जाता है हमारा जीवन भी इसी प्रकार है अगर हम उसमें बहुत जल्दबाजी करेंगे तो हमे हमेशा मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा

 

हम इस कहानी से बहुत अच्छी तरह से समझ सकते हैं कि हमें धैर्य क्यों रखना बहुत जरूरी होता है एक बार एक साधु महाराज जी को शिष्यों को लेकर जंगल के रास्ते से जा रहे थे धूप बहुत तेज हो रही थी और इसी कारण उन्हें कुछ समय बाद ही थक कर बैठना पड़ा साधु महाराज जी ने अपने शिष्य को बुलाया और कहा कि पास में एक झरना है उससे जाकर सभी के लिए पानी की व्यवस्था करो

 

शिष्य पानी लेने के लिए झरने की तरफ गया लेकिन वहां पर उसने देखा कि बहुत से जानवर झरने में खेल रहे हैं जिससे झरने का पानी बहुत गंदा हो गया था वह पीने योग्य नहीं था वह बिना पानी लिए ही वापस आ गया उसके बाद साधु महाराज जी ने कहा कि तुम्हे पानी मिला नहीं, शिष्य ने बताया कि वहां पर कुछ जानवर खेल रहे थे जिसे पानी बहुत गंदा हो गया है मैं ऐसा करता हूं कि पास में नदी जो बह रही है उससे पानी ले कर आता हूं लेकिन साधु महाराज जी ने मना कर दिया वह कहने लगे कि तुम्हें झरने से ही पानी लेकर आना चाहिए नदी काफी दूर है

Read More-सिमित साधन में संतोष कहानी

Read More-एक भारतीय की कहानी

शिष्य पानी लेने के लिए फिर से दोबारा झरने के पास गया तो देखा कि जानवर तो वहां नहीं है लेकिन पानी अभी भी गंदा है उसके बाद फिर वापस आ गया साधु महाराज जी ने पूछा कि तुम खाली हाथ आए हो शिष्य ने बताया कि अभी भी झरने पर पानी गंदा है वह पीने योग्य नहीं है उसके बाद साधु महाराज ने कहा की दोबारा फिर से जाओ शिष्य दोबारा पानी लेने के लिए झरने के पास गया तो देखा कि झरने का पानी बहुत साफ हो गया था जो गंदगी पानी में थी वह बैठ चुकी थी और अब साफ पानी बह रहा था शिष्य ने सभी के लिए पानी की व्यवस्था की इस पर साधु महाराज जी से उसने पूछा कि पानी एकदम साफ पानी कैसे हो गया

Read More-एक नौकर की कहानी

Read More-दादा जी की याद एक कहानी

साधु महाराज जी ने कहा कि हमें अपने जीवन में धैर्य रखना चाहिए जितना हम धैर्य रखेंगे उतनी ही सफलता की ओर आगे बढ़ेंगे अगर हम अपने जीवन में हर काम जल्दबाजी में करेंगे तो इससे हमें परेशानी ही होगी अगर तुम घूमकर नदी का पानी लेकर आते भी तो तुम्हें बहुत समय लग सकता था जब कुछ देर आराम करने के बाद भी तुम्हें पानी झरने का बिल्कुल साफ दिखाई दे रहा है यह हमें धैर्य रखना सिखाता है शिष्य ने गुरु की बात बहुत ध्यान से सुनी और अपने जीवन को भी उसी अनुरूप ढाल लिया हमें भी अपने जीवन में यही बातें अपनानी चाहिए.

अगर आपको यह कहानी जीवन में धैर्य की कहानी (Best hindi ki kahaniya) पसंद आयी है तो आप इसे Facebook पर शेयर कर सकते है, और कमेंट करके हमे बता सकते है.

Read More-एक सच्ची मदद की हिंदी कहानी

Read More-गलतफहमी की कहानी

Read More-अजीब आदमी की कहानी

Read More-बूढ़े आदमी का जीवन हिंदी कहानी

Read More-नदिया के पार की कहानी

Read More-थोड़ा सोचिये एक हिंदी कहानी

Read More-तोते की अनोखी कहानी

Read More-बांसुरी की धुन एक लघु कहानी

Read More-जीवन अनमोल है हिंदी कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!