जब बरसात हुई, small story in hindi

small story in hindi

small story.jpg

small story in hindi

जब बरसात हुई हिंदी कहानी

small story in hindi, story in hindi, story hindi, hindi story, एक दिन बहुत तेज बारिश हो रही थी सेठ जी ने जब देखा तो  बारिश के कारण उनकी छत टपक रही थी पानी इतना निकल रहा था कि सभी कमरों में धीरे-धीरे जा रहा था बारिश भी बहुत तेज हो रही थी जिस कारण पानी बिल्कुल भी बंद नहीं हो रहा था इससे परेशान होकर सेठजी ने अपना छाता उठाया और रामू के घर की तरफ चलने लगे




रामू एक ऐसा व्यक्ति था गांव में जो कि सभी के मकानों की छत ठीक किया करता था सेठ रामू के घर गए और कहने लगे चलो हमारे साथ बारिश बहुत तेज हो रही है और हमारी छत भी टपक रही है और उसे ठीक कर दो रामू ने इस पर कहां की बारिश बहुत हो रही है सेठ जी ऐसे ही मैं छत को कैसे ठीक कर पाएंगे पर सेठ जी बोले कि कुछ तो इंतजाम करना ही पड़ेगा नहीं तो हमारी छत से पानी टपकता ही रहेगा




चलो तुम मेरे साथ वहां पर देख लो कि कुछ इंतजाम हो सकता है तो कर दो रामू अपने मन ही मन सोचने लगा कि सेठजी को आज काम पढ़ा तो सेठ जी हमारे पास आ गए नहीं तो सेठ जी तो बिलकुल भी हमें नहीं पूछते क्योंकि सेठ की ऐसी प्रवृत्ति है कि वह कंजूस मिजाज के हैं वह किसी की भी मदद नहीं करते हैं

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी       Read More-रामनाथ की साइकिल हिंदी कहानी

रामू अपने मन में सोच रहा था इतनी तेज बारिश हो रही है और सेठ जी आ गए हैं कि हमारे छत करनी है फिर सेठ जी ने कहा क्या सोच रहे हो रामू चलो रामू ने कहा सेठ जी रुक जाओ थोड़ा अगर बारिश कम हो जाती है तो काम भी जल्दी हो जाएगा और फिर पानी भी बरसना बंद हो गया तो हम जल्दी से काम कर पाएंगे नहीं तो बारिश के होते हुए तो हम कुछ भी नहीं कर पाएंगे

 

सेठ जी कहां मानने वाले थे वह रामू के साथ वहीं बैठ गए हो और बारिश के रुकने का इंतजार करने लगे बारिश कुछ लगभग आधे घंटे के बाद हल्की होने लगी है और रामू सेठ जी के साथ उनके घर चला गया फिर रामू और सेठ जी घर पहुंच गए और हम उन्हें अपने आप ही उस छत को ठीक करना शुरू कर दिया

Read More-राजभोज का आनंद                     Read More-कितनी जमीन नापी

रामू छत को ठीक कर रहा था और सेठ जी देख रहे थे और बता रहे थे यहां से भी अच्छा करना और वहां से भी अच्छा करना रामू यही सोच रहा था कि अब यह हम से काम ले लेंगे और अब देखना जैसे ही मजदूरी का टाइम आएगा सेठ जी कुछ ना कुछ बहाना जरूर बनाने लगे हैं

 

 रामू को छत ठीक करने में लगभग आधा दिन तो लगी गया था फिर छत ठीक हो गई अब रामू ने कहा कि सेठ जी मेरी मजदूरी सेठ जी ने कहा है कि चलो मैं तुम्हें खाना खिला देता हूं तुमने खाना भी कही दिनों से नहीं खाया होगा रामू कहने लगा कि जी अगर मुझे मजदूरी मिल जाती तो मैं थोड़ा बाजार से कुछ सामान ले आता जिसकी मुझे बहुत जरूरत है

Read More-राजा की सोच कहानी               Read more-एक धनी व्यक्ति

फिर सेठ जी ने कहा  कि अभी तो मेरे पास नहीं है तुम ऐसा करो कल आना और फिर आकर अपनी मजदूरी ले जाना अगले दिन रामू और सेठ जी के पास गया और देखा कि सेठ जी तो घर पर नहीं थे आप ऐसे करते-करते सेठ जी ने एक हफ्ता लगा दिया

 

इसपर रामू ने कहा कि मालकिन जब सेठ जी आ जाए तो बता देना मुझे मजदूरी लेनी है अपनी, सेठ जी वैसे बुरे आदमी नहीं है लेकिन वह अपनी कंजूसी से बड़े परेशान है कंजूसी उनके अंदर ऐसे ही भरी हुई है कि वह हर चीज में कंजूसी करते हैं अपने खाने में अपने पीने में और बाहर कहीं भी जाना होता है तो ज्यादातर रास्ता भी पैदल ही करते हैं

Read More-हौसला बनाये रखना                 Read More-अलादीन का जादुई चिराग

 small story in hindi, story in hindi, story hindi, hindi story, फिर अगले दिन रामू सेठ जी के घर गया और सेठ जी ने रामू को बड़ी मुश्किल से उसकी मजबूरी थी और फिर रामू ने सोचा कि देखो मैंने सेठ जी का काम बरसात में भी कर दिया और देखिए सेठ जी ने मेरे को बिल्कुल एक हफ्ते तक घुमाते रहे और एक हफ्ते बाद मेरी मजदूरी दी है. दोस्तों इस कहानी से सीख मिलती है कि पता नहीं किस व्यक्ति को कितनी जरूरत हो इसलिए जरूरत के हिसाब से हमें उसकी मदद करनी चाहिए.

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Leave a Reply

error: Content is protected !!