राजा और लेखक, moral of the story in hindi

moral of the story in hindi

moral story.jpg

moral of the story in hindi

राजा और लेखक 

moral of the story in hindi, motivational story hindi, एक बार की बात है एक राजा  अपने नगर में घूम रहे थे घूमते घूमते हुए एक किताबों के संग्रहालय में पहुंचे जहां पर बहुत सारी किताबें रखी हुई थी राजा को बहुत ही अच्छा लगा कितनी सारी किताबें हैं उन्हें एक ही जगह पर मिल गई.




राजा उन किताबों को देख रहे थे और उन में से एक लेखक की किताब बहुत पसंद आई और वह किताब लेकर वह अपने राजमहल में चले गए जब राजा ने यह किताब पढ़ी है तो उन्हें बड़ा ही आश्चर्य हुआ कि एक लेखक ने अपनी जीवन कथा में यह लिखा है कि उन्होंने अपने जीवन पूरा ही अकेले बिता दिया




और उन्होंने अपने जीवन में अपने पति पत्नी और बच्चों को भी बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया और उन्हें छोड़ कर अकेले ही समाज में भ्रमण करने के लिए चले गए राजा को इस बात का इतना गहरा प्रभाव पड़ा कि राजा भी यही सोचने लगा कि मैं भी अपना जीवन समाज में भ्रमण करके बिता दूंगा

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

लेकिन उससे पहले मैं उस लेखक से मिलना चाहता हूं जिसने यह किताब लिखिए जब राजा ने उस पते पर जाना स्वीकार कर लिया जिस जगह वह लेखक रहता था जैसे ही राजा उस गांव में पहुंचे जहां पर लेखक रहता था तो उन्होंने देखा कि लेखक तो अपने घर में अपनी पत्नी और बीवी बच्चों के साथ  रहता है

Read More-साधू की पद यात्रा

और इस बात को देखकर राजा को बड़ा दुख हुआ कि मैं तो समाज में भ्रमण करने के लिए जा रहा था लेकिन इसने तो अपनी ही किताब में बहुत ही गलत बात लिखी है यह तो अपने घर में ही है फिर राजा ने बड़ी नाराजगी के साथ इस लेखक से बात की और किताब दिखाई और पूरी बात पूछी

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी 

तो लेखक ने कहा कि मैं यह किताब इसलिए लिखता हूं क्योंकि दूसरों को इन्हें पढ़कर वह अपने  जीवन को सुधार सकें थोड़ी देर बाद भोजन करने के पश्चात लेखक राजा को एक दुकान पर ले गया दुकान पर जाते ही लेखक ने एक भाला बनाने वाले दुकान पर रुक गए और एक अच्छा सा भाला दिखाने को कहा

Read More-ज्ञान का भंडार

जब उसने भला दिखाया तो राजा को देख कर कहा कि यह देखिए राजा जी एक भाला, भाला को देखकर राजा ने कहा मैं इसका क्या करुं तभी लेखक ने कहा कि यह दुकान वाला भाला बनाता है और फिर दुकान वाले से पूछा कि तुम भला तो बहुत अच्छा बनाते हो क्या तुम युद्ध में नहीं जा सकते

Read More-बिना सोचे विचारे

moral of the story in hindi, motivational story hindi, तो उसने कहा है कि यह काम मेरा नहीं है युद्ध में तो बड़े बड़े योद्धा ही जाते हैं मैं कैसे जा सकता हूं मैं तो सिर्फ अच्छे से अच्छे भाला बना सकता हूं इस प्रकार लेखक ने समझा है कि हम दूसरों को जीवन जीने की कला सिखाते हैं पर जरूरी नहीं है कि वह कला हमें भी आती हो तभी राजा की बात समझ में आ गई कि उस किताब में लिखी जीवनी का क्या मतलब है.

Leave a Reply

error: Content is protected !!