समझदारी का परिणाम, mini story in hindi

mini story in hindi

mini story.jpg

mini story in hindi

समझदारी का परिणाम 

mini story in hindi, champak kahaniya, एक लोमड़ी किसी गांव के पास से गुजर रही थी अचानक उसकी नजर पेड़ की डाल पर बैठे एक मुर्गे पर पड़ी वह उसे खाना चाहती थी उसने मुर्गे से कहा तुम वहां डाल पर बैठे क्या कर रहे हो.



मुर्गे तो जमीन पर घूमते फिरते अच्छे लगते हैं नीचे आ जाओ हम दोनों बैठ कर अच्छी-अच्छी बातें करेंगे मुर्गा बोला मैं खतरनाक जानवरों के डर से यहां बैठा हूं लोमड़ी बोली अरे तुमने आज जंगल का खास समाचार नहीं सुना क्या




मुर्गा बोला कैसा खास समाचार लोमडी ने कहा जंगल के सभी जंगली जानवर और पक्षियों में एक समझौता हो गया है कि कोई किसी पर हमला नहीं करेगा और कोई किसी को भी नहीं खाएगा

Read More-बाबा की सीख

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

मुर्गा ने कहा यह तो बहुत अच्छा हुआ कहते मुर्गे ने अपनी गर्दन को ऊपर उठाकर देखा जैसे उसे दूर से कोई दिखाई दे रहा हो मुर्गा ने कहा कुछ नहीं फिर उसने दुबारा गर्दन उठा कर देखा लोमड़ी ने पूछा तुम बार-बार गर्दन ऊंची करके क्या देख रहे हो कुछ तो बताओ

Read More-बाबा की सीख

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

मुर्गा बोला वैसे कोई खास बात नहीं है पर कुछ शिकारी कुत्ते तेजी से इस और आ रहे हैं यह सुनकर लोमड़ी घबरा कर बोली मुझे माफ करना मैं चलती हूं मुर्गे ने कहा अरे तुम क्यों डर रही हो तुम ही ने तो कहा है कि जंगल के जानवरों में समझौता हो गया है

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-साधू की पद यात्रा

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी 

mini story in hindi, champak kahaniya, फिर तुम क्यों भाग रही हो लोमड़ी की चालाकी मुर्गा समझ गया था इसीलिए उसने अपने समझदारी से काम लिया और चालाक लोमड़ी से अपना पीछा छुड़ाकर उसको सबक सिखा दिया.

Leave a Reply

error: Content is protected !!