लालच बुरी बला है, jatak tales in hindi

jatak tales in hindi

लालच बुरी बला है

kids story.jpg

jatak tales in hindi

मैं आज आपको एक लालची कौवे की कहानी सुनाने जा रहा हु, जो की बाद मैं अपने ही जाल मैं फस गया. एक जंगल में पक्षियों का एक बड़ा सा दल रहता था. रोज सुबह सभी पक्षी भोजन की तलाश में निकलते थे. पक्षियों के राजा ने अपने पक्षियों को कह रखा था कि जिसे भी भोजन दिखाई देगा





वह आकर अपने बाकी साथियों को आकर बता देगा और फिर सभी पक्षी एक साथ मिलकर दाना खाएंगे. इस तरह उस दल के सभी पक्षियों को भरपूर खाना मिल जाता था. एक दिन भोजन की तालश में एक कोवा उड़ते-उड़ते काफी दूर निकल गया. जंगल के बाहर रास्ते तक आ गया. इस रास्ते से गाड़ियों में अनाज के बोरे मण्डी जाया करते थे.




रास्ते में काफी सारा अनाज गाड़ियों से नीचे गिरकर सड़क पर बिखर जाता था. कोवा गाड़ियों में अनाज के भरे बोरे देखकर बहुत खुश हुई, क्योंकि अब उसे और कोई जगह तलाश करने की जरूरत ही नहीं थी. अनाज से भरी गाड़ियाँ वहां से रोज गुजरती थीं और अनाज के दाने सड़क पर बिखरते भी रोज थे. कोवा के मन में लालच आ गया. उसने सोचा कि उस जगह के बारे में वह किसी को नहीं बताएगा और रोज इसी जगह आकर पेट भर खाना खाया करेगा.

Read More-मोटू पतलू और चिराग

Read More-मोटू पतलू और नगर की सफाई

उस शाम को जब कोवा अपने दल में वापस पंहुचा, तब उसके बाकी साथियों ने देरी से आने का कारण पूछा. कोवा ने भी एक अनूठी झूठी कहानी सुना दी कि वह किसी तरह जान बचाकर आया है. उस रास्ते से तो इतनी गाड़ियाँ गुजरती हैं रास्ता पार करना मुश्किल है. दल की बाकी कोवा यह सुनकर डर गए और सभी ने निश्चय कर लिया कि वह रास्ते के पास नहीं जायेगा. इस तरह वह कोवा रोज उसी रास्ते पर जाकर पेट भर दाना खता रहा. एक दिन कोवा रोज की तरह रास्ते पर बैठकर खाना खा रहा था.

Read More-शेखचिल्ली की दुकान

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

खाना खाने में वह इतनी मग्न था कि उसे उसकी तरफ आती हुई गाड़ी की आहट सुनाई ही नहीं दी. गाड़ी भी तेजी से आगे बढ़ रही थी. कोवा दाना चुगने में मग्न था, गाड़ी पास आयी और गाड़ी का पहिया कोवा को कुचलता हुआ आगे निकल गया.

Read More-जल परी की कहानी

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

इस तरह लालची कोवा अपने ही जाल में फँस गया. लालच बुरी बला है-कभी लालची मत बनो. तो दोस्तों हम सब इसलिए ये बात कहते है की कभी भी ज्यादा लालच नहीं करना चाहिए, क्योकि लालच करने से हमेशा लाभ नहीं बल्कि कभी कभी अपना भी नुकसान हो जाता है.

Read More-बच्चों की कहानी

Read More-बोलने वाले पक्षी

Read More-अलादीन का जादुई चिराग

Read More-कौवे और मैना की बाल कहानियां

Read More-चालाक लोमड़ी और भालू की कहानी

Read More-खरगोश की कहानी 

Read More-बच्चों का पार्क

Read More-अकबर बीरबल और युद्ध

Read More-बड़े हाथी की कहानी

Read More-एक शिक्षाप्रद कहानी

Read More-शेर और खरगोश

Read More-मोटू पतलू और साधू बाबा

Read More-मोटू पतलू और फिल्म शूटिंग

Read More-मोटू पतलू और जादुई फूल

Read More-मोटू पतलू और जादुई टापू

Read More-मोटू पतलू और मिलावटी दूध

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-छोटा भीम और क्रिकेट मैच

Read More-मोटू-पतलू का सपना

Read More-चाचा चौधरी और साबू

Read More-पेटू पंडित हास्य कहानी

Read More-शेखचिल्ली की कुश्ती

Read More-शेखचिल्ली का मजाक

Read More-मोटू और पतलू का जहाज

Read More-अकल की दवाई

Read More-कौवे का पेड़

Read More-छोटू का पार्क कहानी 

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-राजा और लेखक

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Read More-मोटू और पतलू के समोसे

Read More-अमरूद किस का हिंदी कहानी

Read More-छोटा भीम और नगर में चोर

Read More-छोटा लड़का और डॉग

Leave a Reply

error: Content is protected !!