खुद पर विश्वास की कहानी, hindi ki kahaniya

hindi ki kahaniya

खुद पर विश्वास

hindi story.jpg

hindi ki kahaniya

ये कहानी एक मंदिर के पुजारी की है , जो की बहुत ही दानी और सदा ही लोगो का सत्कार करने वाला था. एक दिन क्या होता है उसके साथ , हम आगे कहानी मैं पढ़ेंगे. एक मंदिर के पुजारी का विश्वाश की शक्ति में अटल भरोसा था. जो कोई भी उनके घर में एक बार आ जाता वो उनके सत्कार के प्रभाव से प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकता था.





उनके मन में लोगो के लिए अथाह प्रेम भाव था. इसलिए लोग उनका बहुत सम्मान भी करते थे. एक दिन जेल से भागा हुआ चोर रात में शरण लेने के लिए इधर उधर घूम रहा था. उसने देखा कि पुजारी के घर का दरवाजा खुला हुआ है. इसलिए वो उस और चला गया और पुजारी के घर में प्रवेश कर गया. पुजारी ने उसे देखते ही उसका अभिवादन किया और उस से कहा, तुम्हारा मेरे इस घर में स्वागत है.




मेरे भाई लेकिन तुम ये बताओ तुम कौन हो और यंहा क्या करने आये हो. इस पर चोर न झूट बोलते हुए कहा, पुजारी मैं एक मुसाफिर हूँ और रास्ता भटक गया हूँ. आपके घर का दरवाजा खुला हुआ देखा तो इस और चला आया. क्या मुझे सिर छुपाने के लिए जगह मिल सकती है. मैं सुबह होते ही यंहा से चला जाऊंगा. पुजारी ने उस से कहा,

Read More-समय का महत्व

Read More-एक किसान की कहानी

हाँ क्यों नहीं तुम यंहा आराम से रह सकते हो और मुझे लगता है तुम बहुत थक गये हो इसलिए तुम जाकर आराम से हाथ मुहं धो लो मैं तुम्हारे सोने और खाने का प्रबंध करता हूँ. इस पर चोर पुजारी का आभार व्यक्त करते हुए स्नानघर की और बढ़ गया और इतने में पुजारी ने उसके खाने और सोने की व्यवस्था कर दी.

Read More-पशु की भाषा हिंदी कहानी

Read More-उस पल की कहानी

पुजारी ने उसका बहुत अच्छे से सत्कार किया और उसे अच्छा भोजन करवाकर उसके सोने की व्यवस्था कर दी. रात को सभी के सो जाने के बाद चोर के मन में चोरी की ईच्छा जागृत हुई और उसने पुजारी के घर से सोने के दो दीप चुराकर वंहा से निकल भागा. रात में पुलिस उसकी तलाश में ही थी सो वो पुलिस के हत्थे चढ़ गया तो पूछताछ में उसने बता दिया कि मैंने ये पुजारी के घर से चुराए है इस पर उसे पुजारी के सामने लाया गया तो पुजारी ने पुलिस वालों से कहा, आप कृपया इन्हें छोड़ दीजिये ये मेरे घर में मेहमान के तौर पर आये थे और मैंने ये दीप इन्हें उपहार के तौर पर दिए है.

Read More-एक नाटक से सीख

Read More-जादुई बक्सा हिंदी कथा

इतने में चोर के ज्ञान चक्षु खुल गये और उसे अपनी भूल का अहसास होने लगा. पुजारी की उदारता देखते हुए चोर के मन में पश्चाताप होने लगा और उसने माफ़ी मांग कर कभी फिर से चोरी नहीं करने का वचन दिया. इस कहानी से हमे ये सीख मिलती है की हमे अपने बुरे कर्मो को छोड़ अच्छे कर्मो को करना चाहिए. ताकि हमे मरने के बाद भी मुक्ति प्राप्त हो.

Read More-राजा और मंत्री की कहानी 

Read More-एक छोटी सी मदद की कहानी

Read More-एक महाराजा की कहानी

Read More-वो सोता और खाता था हिंदी कहानी

Read More-मंगू और दूसरी पत्नी की कहानी

Read More-सोच की कहानी

Read More-एक शादी की कहानी

Read More-छोटा सा गांव हिंदी कहानी

Read More-एक बोतल दूध की कहानी

Read More-सुबह की हिंदी कहानी

Read More-जादुई लड़के की हिंदी कहानी

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-आईने की हिंदी कहानी

Read More-जादुई कटोरा की कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-जीवन की सच्ची कहानी

Read More-छज्जू की प्रतियोगिता

Read More-जब उस पार्क में गए

Read More-असली दोस्ती क्या है

Read More-एक अच्छी छोटी कहानी

Read More-गुफा का सच

Read More-बाबा का शाप हिंदी कहानी

Read More-यादगार सफर

Read More-सब की खातिर एक कहानी

Read More-जादू का किला    

Read More-मेरे जीवन की कहानी

Read More-आखिर क्यों एक कहानी

Read More-मेरा बेटा हिंदी कहानी

Read More-दूल्हा बिकता है एक कहानी

Read More-जादूगर की हिंदी कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-पंडित के सपने की कहानी

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-जादू की अंगूठी

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-छोटी सी बात हिंदी कहानी

Read More-समय जरूर बदलेगा

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-सफल किसान एक कहानी

Read More-एक दूरबीन का राज

Leave a Reply

error: Content is protected !!