विश्वास की कहानी, hindi kahania

hindi kahania

hindi kahania.jpg

hindi kahania

विश्वास की कहानी

sachi kahani hindi, hindi kahania, hindi story, एक घर में एक बूढ़ा परिवार रहता था दोनों ही अपना जीवन बुढ़ापे से काट रहे थे घर में और कोई भी व्यक्ति नहीं था जो उनके घर के कामों को संभाल सके {यह भी पढ़े -जब अधिक ज्ञान आता है} तो उन्होंने सोचा कि हमें एक नौकर रख लेना चाहिए




जिससे उनके घर के काम आराम से हो सके बूढ़ा व्यक्ति थोड़ा-सा शक्की था अब उसे विश्वास नहीं हो रहा था {यह भी पढ़े -राजा और ऋषि मुनि }कि हम ऐसे कैसे व्यक्ति को रख सकते हैं जो हमारा नुकसान ना करें बहुत ढूंढने पर भी उन्हें ऐसा आदमी नहीं मिला




फिर उन्हें एक लड़का मिला जिस को उन्होंने नौकरी पर रख लिया लड़का हर रोज सुबह से लेकर शाम तक काम करता और चला जाता है लेकिन उस बूढ़े आदमी को उस पर थोड़ा सा शक हो रहा था {यह भी पढ़े-सींग वाला इंसान}कि कहीं हमें नुकसान न पहुंचाए तो उसे पता करने के लिए उसने 2 का सिक्का फर्श पर गिरा दिया और जैसे सिक्का गिरा तो सिक्के की आवाज सुनकर लड़के ने देखा

 

कि बूढ़े व्यक्ति की जेब से सिक्का गिर गया है फिर वह लड़का सिक्का उठाकर अपने बूढ़े आदमी को दिया कहा कि बाबा जी लो आप का सिक्का गिर गया था {यह भी पढ़े -पूर्वजन्म की सच्ची कहानी}बाबा सोचने लगा कि यह तो शायद इमानदार है लेकिन उसे तब भी यकीन नहीं हो रहा था

 

तो एक दिन उसने अपनी जेब से 20 का नोट निकाला और फर्श पर गिरा दिया और जैसे ही वह फर्श पर गिरा {यह भी पढ़े –धनवान बनने के लिए जरुरी है ये वस्तु}तो उस लड़के ने देखा कि इस बार बूढ़े आदमी ने जानबूझकर फर्श पर 20 का नोट गिराया है अब लड़के को बहुत गुस्सा आ रहा था

 

 sachi kahani hindi, hindi kahania, hindi story, उसने कहा  कि अब मैं आपके यहां पर नौकरी नहीं कर सकता हूं आप बार बार ऐसा कर रहे हैं और मुझे देख रहे हैं {यह भी पढ़े-भगवान् से मिलन}कि मैं यह पैसे अपने पास रखूंगा या नहीं और मैं इस घर में काम बिल्कुल नहीं कर सकता जहां पर विश्वास नाम की चीज रखी हुई है {यह भी पढ़े-घमंडी राजा की कहानी} फिर वह लड़का वहां से नौकरी छोड़ कर अपने घर चला गया और इस प्रकार वह बूढा आदमी देखता ही रह गया कि मैंने उस पर शक किया जबकि वह एक ईमानदार लड़का था.

अन्य कहानी भी पढ़े 

ममी और पिरामिड का रहस्य

भूत कहा रहते है जानिये

किले का रहस्य 

एक हवैली

Leave a Reply

error: Content is protected !!