राजा का घोड़ा हिंदी कहानी, hindi kahani com

hindi kahani com

hindi kahani.jpg

hindi kahani com

राजा का घोड़ा हिंदी कहानी 

hindi kahani com, एक राज्य में एक राजा राज्य करता था एक बार राजा का घोड़ा भाग गया राजा के सैनिक उसे ढूंढने के लिए जंगल में गए जंगल में एक झोपड़ी थी जिसके बाहर एक साधु महात्मा अपनी तपस्या कर रहे थे सैनिकों ने साधु को देखकर पूछा अरे साधु क्या तूने राजा का घोड़ा देखा है




साधु ने कहा नहीं मैं तो अंधा हूं सैनिक जंगल में घोड़े को ढूंढ कर चले गए और राजा के पास जाकर बोला कि आप का घोड़ा कहीं नहीं मिला राजा को वह घोड़ा बहुत पसंद था उसने अपने सेनापति को घोड़ा ढूंढने के लिए भेजा




सेनापति जंगल में गए और उसे भी वही साधु मिला सेनापति ने साधु से कहा साधु क्या तुमने राजा का घोड़ा देखा है साधु ने कहा अंधे को कैसे दिखाई दे सकता है मैं तो अंधा हूं क्या तुम्हें यह नहीं देख सकता सेनापति  महल में चले गए और राजा जी बोले कि आप का घोड़ा नहीं मिला वहां तो एक साधू बैठा था

 

राजा ने अपने मंत्री को घोड़ा ढूंढने के लिए भेजा मंत्री जंगल में गया उसे भी वही साधु मिला मंत्री ने कहा साधु जी क्या आपने राजा का घोड़ा कहीं देखा है इस बार साधु ने कहा घोड़े के भागने की आवाज तो सुनी थी पर मैं देख नहीं सकता इसीलिए मुझे नहीं पता मंत्री ने सारी बात जाकर राजा को बताइए अब राजा जी समझ में सब आ गया

 

राजा ने कहा इस बार मैं जाऊंगा घोड़े को ढूंढने राजा जंगल में गया उसने साधु को देखा सबसे पहले साधु के पैर छुए और हाथ जोड़कर बोला साधु जी क्या आपने मेरे घोड़े को कहीं आते जाते देखा है साधु ने कहा मेरी झोपड़ी में में है राजा के सैनिकों ने घोड़े को महल में ले गए राजा ने कहा क्या आप जानते थे तो आपने पहले क्यों नहीं बताया

 

साधु ने कहा मैं अंधा हूं बहरा नहीं जो सही से बोल नहीं सकते मैं उनको कैसे सुन सकता हूं अरे साधु साधु साधु अगर ऐसे कह कर ही तुम दूसरों से बोलोगे तो कोई तुम्हारी बात कैसे सुन सकता है राजा की समझ में सारी बात आ गई

 

hindi kahani com, उसने अपने सैनिक सेनापति और मंत्री को दंड दिया और कहा कि अगर तुम चाहते हो कि तुमसे कोई अच्छा बोले प्यार से बोले तो तुम्हें भी उसके साथ अच्छा और इज्जत से बोलना होगा.

Related Posts:-

Read More-बाबा की सीख

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Leave a Reply

error: Content is protected !!