नजरिये की पहचान की हिंदी कहानी, hindi kahani

hindi kahani

नजरिये की पहचान

hindi kahani.jpg

hindi ki kahaniya

एक समय की बात है जब एक ब्राह्मण अपने कुछ शिष्यों के साथ जंगल की और जा रहे थे की तभी उन्हें एक नदी दिखाई दी. और वो सब वहा पर स्नान करने के लिए रुक गए. तभी एक राहगीर वंहा से गुजरा तो ब्राह्मण को नदी में नहाते देख वो उनसे कुछ पूछने के लिए रुक गया. वो ब्राह्मण से पूछने लगा, ब्राह्मण एक बात बताये कि यंहा रहने वाले लोग कैसे है क्योंकि मैं अभी अभी इस जगह पर आया हूँ और नया होने के कारण मुझे इस जगह को कोई विशेष जानकारी नहीं है.





इस पर ब्राह्मण ने उस व्यक्ति से कहा कि, भाई में तुम्हारे सवाल का जवाब बाद में दूंगा. पहले तुम मुझे ये बताओ कि तुम जिस जगह से आये वो वंहा के लोग कैसे है. इस पर उस आदमी ने कहा, उनके बारे में क्या कहूँ महाराज वंहा तो एक से एक कपटी और दुष्ट लोग रहते है इसलिए तो उन्हें छोड़कर यंहा बसेरा करने के लिए आया हूँ. ब्राह्मण ने जवाब दिया बंधू, तुम्हे इस गाँव में भी वेसे ही लोग मिलेंगे कपटी दुष्ट और बुरे.




वह आदमी आगे बढ़ गया. थोड़ी देर बाद एक और राहगीर उसी मार्ग से गुजरता है और ब्राह्मण से प्रणाम करने के बाद कहता है, ब्राह्मण जी मैं इस गाँव में नया हूँ और परदेश से आया हूँ और इस ग्राम में बसने की इच्छा रखता हूँ लेकिन मुझे यंहा की कोई खास जानकारी नहीं है इसलिए आप मुझे बता सकते है ये जगह कैसे है और यंहा रहने वाले लोग कैसे है. ब्राह्मण ने इस पर फिर वही प्रश्न किया और उनसे कहा कि, मैं तुम्हारे सवाल का जवाब तो दूंगा लेकिन बाद में पहले तुम मुझे ये बताओ कि तुम पीछे से जिस देश से भी आये हो वंहा रहने वाले लोग कैसे है.

Read More-राजा और मंत्री की कहानी 

Read More-एक छोटी सी मदद की कहानी

उस व्यक्ति ने ब्राह्मण से कहा, गुरूजी जिस जगह से मैं आया हूँ वंहा भी सभ्य सुलझे हुए और नेकदिल इन्सान रहते है मेरा वंहा से कंही और जाने का कोई मन नहीं था लेकिन व्यापार के सिलसिले में इस और आया हूँ और यंहा की आबोहवा भी मुझे भा गयी है इसलिए मेने आपसे ये सवाल पूछा था. इस पर ब्राह्मण ने उसे कहा बंधू, तुम्हे यंहा भी नेक दिल और भले इन्सान मिलेंगे. वह राहगीर भी उन्हें प्रणाम करके आगे बढ़ गया. शिष्य ये सब देख रहे थे तो उन्होंने ने उस राहगीर के जाते ही पूछा गुरू जी ये क्या अपने दोनों राहगीरों को अलग अलग जवाब दिए हमे कुछ भी समझ नहीं आया.

Read More-एक नाटक से सीख

Read More-जादुई बक्सा हिंदी कथा

इस पर मुस्कुराकर ब्राह्मण बोले वत्स आमतौर पर हम आपने आस पास की चीजों को जैसे देखते है वैसे वो होती नहीं है, इसलिए हम अपने अनुसार अपनी दृष्टि से चीजों को देखते है और ठीक उसी तरह जैसे हम है. अगर हम अच्छाई देखना चाहें तो हमे अच्छे लोग मिल जायेंगे और अगर हम बुराई देखना चाहें तो हमे बुरे लोग ही मिलेंगे. सब देखने के नजरिये पर निर्भर करता है. तो दोस्तों ये कहना एक दम से सत्य है की जैसी हमारी सोच की परवर्ती होगी, हमे वैसा ही सब कुछ दिखाई देगा. इसलिए हमे सदा ही अपनी सोच को सही दिशा मैं रखना चाहिए.

Read More-गुलाब के फूल की कहानी

Read More-समय का महत्व

Read More-एक किसान की कहानी

Read More-पशु की भाषा हिंदी कहानी

Read More-उस पल की कहानी

Read More-एक महाराजा की कहानी

Read More-वो सोता और खाता था हिंदी कहानी

Read More-मंगू और दूसरी पत्नी की कहानी

Read More-सोच की कहानी

Read More-एक शादी की कहानी

Read More-छोटा सा गांव हिंदी कहानी

Read More-एक बोतल दूध की कहानी

Read More-सुबह की हिंदी कहानी

Read More-जादुई लड़के की हिंदी कहानी

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-आईने की हिंदी कहानी

Read More-जादुई कटोरा की कहानी

Read More-एक चोर की हिंदी कहानी

Read More-जीवन की सच्ची कहानी

Read More-छज्जू की प्रतियोगिता

Read More-जब उस पार्क में गए

Read More-असली दोस्ती क्या है

Read More-एक अच्छी छोटी कहानी

Read More-गुफा का सच

Read More-बाबा का शाप हिंदी कहानी

Read More-यादगार सफर

Read More-सब की खातिर एक कहानी

Read More-जादू का किला    

Read More-मेरे जीवन की कहानी

Read More-आखिर क्यों एक कहानी

Read More-मेरा बेटा हिंदी कहानी

Read More-दूल्हा बिकता है एक कहानी

Read More-जादूगर की हिंदी कहानी

Read More-छोटी सी मुलाकात कहानी

Read More-हीरे का व्यापारी

Read More-पंडित के सपने की कहानी

Read More-बिना सोचे विचारे

Read More-जादू की अंगूठी

Read More-गमले वाली बूढ़ी औरत

Read More-छोटी सी बात हिंदी कहानी

Read More-समय जरूर बदलेगा

Read More-सोच का फल कहानी

Read More-निराली पोशाक

Read More-पेड़ और झाड़ी

Read More-राजा और चोर की कहानी

Read More-पत्नी का कहना

Read More-एक किसान

Read More-रेल का डिब्बा

Read More-छोटी सी मदद

Read More-दिल को छूने वाली कहानी

Read More-गुस्सा क्यों

Read More-राजा की सोच कहानी

Read More-हिंदी कहानी एक सच

Read More-दोस्त की सच्ची कहानी

Read More-हिंदी कहानी विवाह

Read more-गांव में बदलाव

Read More-चश्में की हिंदी कहानी

Read More-परीक्षा का परिणाम

Read More-सफल किसान एक कहानी

Read More-एक दूरबीन का राज

Leave a Reply

error: Content is protected !!