चालाक लोमड़ी और भालू की कहानी, bhalu ki kahani

bhalu ki kahani

चालाक लोमड़ी और भालू की कहानी

kids kahani.jpg

bhalu ki kahani

एक दिन भालू और चालाक लोमड़ी आमने सामने से आ रहे थे, भालू ने देखा की लोमड़ी उसके सामने खड़ी हुई है, उसने लोमड़ी से कहा की यहां से चली जाओ, लोमड़ी ने कहा की में तुम्हारे रस्ते में नहीं आ रही हू, बल्कि में तो तुमसे एक बात कहना चाहती हू,





भालू ने कहा की जो भी कहना हो जल्दी कहो में अपने खाने का इंतज़ाम कर रहा हू, लोमड़ी ने कहा की अगर तुम मुझे थोड़ा शहद लेकर दोगे तो में तुम्हारे लिए मछली लेकर आयूंगी, इस बात के लिए भालू लोमड़ी की बात को मान गया था, उसने कहा की कल तुम मुझे अपने यहां पर बुला लेना, जब तुम शहद निकालकर ले आओ,




भालू ने कहा की मुझे मछली कब मिलेगी, लोमड़ी ने कहा की जब एक सप्ताह तक मुझे शहद मिलेगा तो अगले एक हफ्ते तक तुम्हे मछली मिल जायेगी, भालू इस बात के लिए मान गया था, अगले दिन भालू ने लोमड़ी को अपने यहां पर दावत पर बुला लिया था,  

Read More-मोटू पतलू और चिराग

Read More-मोटू पतलू और नगर की सफाई

भालू हर रोज मीठा शहद लोमड़ी को देता और लोमड़ी खा कर चली जाती थी, जब एक हफ्ता हो गया था, तो भालू ने कहा की में कल से तुम्हारे घर पर आयूंगा, पर लोमड़ी ने कहा की जब में मछली को पकड़ लुंगी तो तुम्हे बुला लुंगी, पर जब एक दिन बीत गया तो भालू लोमड़ी के यहां पर गया और उससे पूछा की,

Read More-शेखचिल्ली की दुकान

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

तुमने मुझे तो कोई मछली नहीं दी है लोमड़ी ने कहा की आज पानी बहुत ठंडा था इसलिए पानी में जाने का मन नहीं हुआ था, भालू को अब समझ में आ गया था लोमड़ी ने अपनी चालाकी का प्रयोग करके मुझे बेवकूफ बना दिया है, और में लोमड़ी की बातो में आ गया था, 

Read More-जल परी की कहानी

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

इसलिए दोस्तों जीवन में भी आपको ऐसे ही लोग मिलेंगे जो आपका बहुत फायदा उठाना चाहेंगे इसलिए ऐसे दोस्तों से हमेशा तुम्हे बचकर रहना है क्योकि यह तुम से काम करवा लगे और जब आपको काम पड़ेगा तो यह मना कर देंगे, अगर आपको यह कहानी पसंद आयी है तो आगे भी शेयर करे और हमे भी बताये,

एक शिक्षाप्रद कहानी

राम हर रोज स्कूल जाया करता था, उसके रस्ते में एक छोटा सा जंगल पड़ता था, उस जंगल से होकर राम स्कूल जाया करता था, राम का स्कूल अपने घर से दो किलोमीटर की दूरी पर था यह जंगल 5oo मीटर का था, राम जब स्कूल से आता था तब उस जंगल में कुछ देर के लिए रुक जाया करता था, थोड़ी देर के बाद ही राम अपने घर चला जाता था,

 

राम को उस जंगल में एक पेड़ के पास चिड़िया का घोसला देखना बहुत अच्छा लगता था, वह हर रोज कुछ दाने उस घोसले में रख देता था, जिसे चिड़िया खा लेती थी, राम का स्व्भाव बहुत ही अच्छा था, वह हर काम बहुत ही अच्छे से करता था, राम के स्कूल में काफी दोस्त थे राम उनके साथ भी खेला करता था,

 

एक दिन की बात है, जब राम स्कूल से वापिस आ रहा था , तब उसने देखा की उस घोसले के पास एक बिल्ली चढ़ रही थी, शायद वह बिल्ली उस चिड़िया के पास जा रही थी राम को अब लग रहा था, की कही वह बिल्ली उस घोसले में न चली जाए, उस वक़्त वहा पर चिड़िया भी नहीं थी, राम ने उस बिल्ली को वह से जाने से रोक दिया था, जब चिड़िया ने देखा की राम ने बिल्ली से उसके बच्चे बचा लिए है तो वह भी उड़कर राम के पास आ गयी थी,    

Read More-बोलने वाले पक्षी

Read More-अलादीन का जादुई चिराग

Read More-खरगोश की कहानी 

Read More-बच्चों का पार्क

Read More-अकबर बीरबल और युद्ध

Read More-बड़े हाथी की कहानी

Read More-एक शिक्षाप्रद कहानी

Read More-शेर और खरगोश

Read More-मोटू पतलू और साधू बाबा

Read More-मोटू पतलू और फिल्म शूटिंग

Read More-मोटू पतलू और जादुई फूल

Read More-मोटू पतलू और जादुई टापू

Read More-मोटू पतलू और मिलावटी दूध

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-छोटा भीम और क्रिकेट मैच

Read More-मोटू-पतलू का सपना

Read More-चाचा चौधरी और साबू

Read More-पेटू पंडित हास्य कहानी

Read More-शेखचिल्ली की कुश्ती

Read More-शेखचिल्ली का मजाक

Read More-मोटू और पतलू का जहाज

Read More-अकल की दवाई

Read More-कौवे का पेड़

Read More-छोटू का पार्क कहानी 

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-राजा और लेखक

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Read More-मोटू और पतलू के समोसे

Read More-अमरूद किस का हिंदी कहानी

Read More-छोटा भीम और नगर में चोर

Read More-छोटा लड़का और डॉग

Read More-अलादीन का जादुई चिराग

Leave a Reply

error: Content is protected !!