कंजूस भेड़िया की कहानी, animal story in hindi

animal story in hindi 

कंजूस भेड़िया की कहानी

hindi story.jpg

animal story in hindi

ये कहानी एक ऐसे जानवर की है जो की बहुत ही कंजूस था. वो एक जंगल मैं रहता था. वह कंजूसी अपने शिकार को खाने में किया करता था. जितने शिकार से दूसरा भेड़िया तीन दिन काम चलाता, वह उतने ही शिकार को हफ्ते भर तक खींचता. जैसे उसने एक हिरण का शिकार किया. पहले दिन वह एक ही कान खाता.





बाकी बचाकर रखता. दूसरे दिन दूसरा कान खाता. ठीक वैसे जैसे कंजूस व्यक्ति पैसा घिस घिसकर खर्च करता हैं. भेड़िया अपने पेट की कंजूसी करता. इस चक्कर में प्रायः भूखा रह जाता. इसलिए दुर्बल भी बहुत हो गया था. एक बार उसे एक मरा हुआ बारहसिंघा मिला. वह उसे खींचकर अपनी मांद में ले गया. उसने पहले हिरण के सींग खाने का फैसला किया ताकि मांस बचा रहे.




कई दिन वह बस सींग चबाता रहा. इस बीच हिरण का मांस सड गया और वह केवल गिद्धों के खाने लायक रह गया. इस प्रकार कंजूस भेड़िया प्रायः हंसी का पात्र बनता. जब वह बाहर निकलता तो दूसरे जीव उसका मरियल सा शरीर देखते और कहते वह देखो, कंजूस जा रहा हैं. पर वह परवाह न करता. कंजूसों में यह आदत होती ही हैं. कंजूसों की अपने घर में भी खिल्ली उडती हैं, पर वह इसे अनसुना कर देते हैं.

Read More-जल परी की कहानी

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

उसी वन में एक शिकारी शिकार की तलाश में एक दिन आया. उसने एक सुअर को देखा और निशाना लगाकर तीर छोडा. तीर जंगली सुअर की कमर को बींधता हुआ शरीर में घुसा. क्रोधित सुअर शिकारी की ओर दौडा और उसने खच से अपने नुकीले दंत शिकारी के पेंट में घोंप दिए. शिकारी ओर शिकार दोनों मर गए. तभी वहां कंजूश भेड़िया आ निकला. वह् खुशी से उछल पडा. शिकारी व सुअर के मांस को कम से कम दो महीने चलाना हैं.

Read More-शेखचिल्ली की दुकान

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

उसने हिसाब लगाया. रोज थोडा थोडा खाऊंगा. वह बोला. तभी उसकी नजर पास ही पडे धनुष पर पडी. उसने धनुष को सूंघा. धनुष की डोर कोनों पर चमडी की पट्टी से लकडी से बंधी थी. उसने सोचा आज तो इस चमडी की पट्टी को खाकर ही काम चलाऊंगा. ऐसा सोचकर वह धनुष का कोना मुंह में डाल पट्टी काटने लगा.

Read More-राजा और सेवक की कहानी 

Read More-दरबारियों की परीक्षा

ज्यों ही पट्टी कटी, डोर छूटी और धनुष की लकडी पट से सीधी हो गई. धनुष का कोना चटाक से भेड़िया के तालू में लगा और उसे चीरता हुआ. उसकी नाक तोडकर बाहर निकला. मख्खीचूस भेड़िया वहीं मर गया. दोस्तों इसलिए सही कहा गया है की हमे कभी भी ज्यादा कंजूस नहीं बनना चाहिए, क्योकि कभी कभी ज्यादा कंजूशपण भी बहुत नुकसान दायक साबित हो सकता है.

Read More-मोटू पतलू और चिराग

Read More-मोटू पतलू और नगर की सफाई

Read More-अकबर और बीरबल की कहानी

Read More-लालच बुरी बला है

Read More-बाघ और पंडित की कहानी

Read More-राजा का गुस्सा एक कहानी

Read More-बच्चों की कहानी

Read More-बोलने वाले पक्षी

Read More-अलादीन का जादुई चिराग

Read More-कौवे और मैना की बाल कहानियां

Read More-चालाक लोमड़ी और भालू की कहानी

Read More-खरगोश की कहानी 

Read More-बच्चों का पार्क

Read More-अकबर बीरबल और युद्ध

Read More-बड़े हाथी की कहानी

Read More-एक शिक्षाप्रद कहानी

Read More-शेर और खरगोश

Read More-मोटू पतलू और साधू बाबा

Read More-मोटू पतलू और फिल्म शूटिंग

Read More-मोटू पतलू और जादुई फूल

Read More-मोटू पतलू और जादुई टापू

Read More-मोटू पतलू और मिलावटी दूध

Read More-छोटा भीम और जादूगरनी

Read More-छोटा भीम और क्रिकेट मैच

Read More-मोटू-पतलू का सपना

Read More-चाचा चौधरी और साबू

Read More-पेटू पंडित हास्य कहानी

Read More-शेखचिल्ली की कुश्ती

Read More-शेखचिल्ली का मजाक

Read More-मोटू और पतलू का जहाज

Read More-अकल की दवाई

Read More-कौवे का पेड़

Read More-छोटू का पार्क कहानी 

Read more-ऊंट और सियार की कहानी

Read More-राजा और लेखक

Read More- धनवान आदमी हिंदी कहानी

Read More-सेब का फल हिंदी कहानी

Read More-ढोंगी पंडित की कहानी 

Read More-बेवकूफ दोस्त की कहानी

Read More-मोटू और पतलू के समोसे

Read More-अमरूद किस का हिंदी कहानी

Read More-छोटा भीम और नगर में चोर

Read More-छोटा लड़का और डॉग

Leave a Reply

error: Content is protected !!